कांग्रेसियों ने कहा भूल गए सब वादा…कमीशनखोरी रह गया याद..हाईकोर्ट की टिप्पणी से निगम ने किया शर्मसार

IMG-20180109-WA0073बिलासपुर—पेयजल व्यवस्था पर निगम को हाईकोर्ट की फटकार के बाद कांग्रेस कमेटी ने निगम कार्यालय का घेराव किया। महापौर को कठपुतली बताया। यद्यपि कांग्रेसियों के विरोध प्रदर्शन के दौरान महापौर किशोर राय विकास भवन में मौजूद नहीं थे। बावजूद इसके कांग्रेसियों ने जमकर हंगामा किया। महापौर के नाम निगम प्रशासन को शिकायत पत्र भी दिया।

                                                 शहरवासियों को साफ सुथरा पेयजल नहीं दिए जाने की शिकायत पर हाईकोर्ट के फटकार के बाद कांग्रेस नेता और पार्षदों ने निगम कार्यालय विकास भवन का घेराव किया।  मालूम हो कि एक दिन पहले पेयजल समस्या पर हाईकोर्ट ने निगम को फटकार लगाते हुए कहा है कि क्यों न नगर निगम बिलासपुर संस्था को भंग कर दिया जाए। कांग्रेसियों ने बताया कि हाईकोर्ट की टिप्पणी से नगर निगम परिषद शर्मसार हुआ है। इससे जाहिर होता है कि पिछले तीन सालों में महापौर की अगुवाई में केवल कमीशनखोरी का खेल हुआ है। महापौर का निगम के अफसरों पर नियंत्रण नहीं है। निगम में लालफीता शाही सिर चढ़कर बोल रहा है।

                      निगम नेता प्रतिपक्ष शेख नजरूद्दीन, शहर अध्यक्ष नरेन्द्र बोलर और कांग्रेस पार्षद दल प्रवक्ता शैलेन्द्र जायसवाल ने बताया कि पिछले तीन सालों में सुविधा देने के नाम पर जनता को छला गया है। टैक्स भरपूर वसूल तो गया लेकिन सुविधा देने के नाम पर मजाक किया गया है।

                                              कांग्रेसियों ने बताया कि ठेकेदार जनता को डरा धमका रहे हैं। नगर निगम कमीशनखोरों का पनाहगार बन गया है।पेयजल सुनवाई के दौरान जिस तरह नगर पालिक निगम ने लापरवाही की है उससे शहर की जनता आहत हुई है। निगम प्रशासन शङरवासियों को ईश्चीरिचिया वैक्टीरिया वाला प्रदूषित पानी पिला रहा है। बावजूद इसके निगम प्रशासन की तरफ से किसी ने हाईकोर्ट में पक्ष नहीं रखा। जिसके कारण हाईकोर्ट को तल्ख टिप्पणी करना पड़ा है। हाईकोर्ट की टिप्पणी से जाहिर हो गया है कि निगम परिषद कामकाज को लेकर कहीं से भी गंभीर नहीं है। इसके लिए सीधे तौर पर मेयर किशोर राय जिम्मेदार हैं। किशोर राय से कांग्रेसियों ने नैतिकता का हवाला देकर इस्तीफा मांगा। कांग्रेस नेताओं ने कहा कि जो मेयर अपनी जनता को साफ सुथरा पानी नहीं दे सकता। जो कि मूलभूत जरूरतों में शामिल है। ऐसी सूरत में मेयर किशोर राय को इस्तीफा देना चाहिए। कांग्रेसियों ने इस दौरान खिलाफ में जमकर नारेबाजी की।

                                               विकास भवन में धरना प्रदर्शन करने वालों में कांग्रेस कमेटी नेता नरेन्द्र बोलर, महेश दुबे, जावेद मेमन,रामशरण यादव के अलावा नेता प्रतिपक्ष शेख नजरूद्दीन, कांग्रेस पार्षद दल प्रवक्ता शैलेन्द्र जायसवाल, अखिलेश वाजपीयी.कार्टर रेड्डू, रामा बघेल ,पंचराम सूर्यवंशी, पुष्पा दुबे, राजेश शुक्ला, भागीरथी यादव, धनराज देवांगन, काशी रात्रे, जुगल गोयल, मुकीम कुरैशी, रेखा निर्मल मानिकपुरी, बोलर,टाटा,जावेद मेनन, रामशरण यादव समेत कई कांग्रेसी नेता मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>