रमन सरकार के ’बेमिसाल 14 साल’ पर 12 दिसम्बर को जिलों में मनाया जाएगा बिजली तिहार

CM-Photo(6)♦कम वोल्टेज की समस्या से मुक्ति
♦प्रदेश के 20 जिलों के 500 से ज्यादा गांवों को मिलेगी
♦मुख्यमंत्री ने बिजली तिहार की तैयारी के लिए जिला कलेक्टरों को दिए निर्देश
रायपुर।
मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के नेतृत्व में प्रदेश सरकार के बेमिसाल चौदह वर्ष पूर्ण होने के उपलक्ष्य में इस महीने की 12 तारीख को सभी जिलों में बिजली तिहार मनाया जाएगा। इस अवसर पर राज्य के विभिन्न जिलों में लगभग 57 करोड़ 49 लाख रूपए की लागत से निर्मित छत्तीस विद्युत सब स्टेशनों का समारोहपूर्वक लोकार्पण भी होगा। इन विद्युत सबस्टेशनों के शुरू होने पर 515 गांवों को बिजली के कम वोल्टेज की समस्या से मुक्ति मिलेगी। इसके साथ ही इन गांवों के हजारों घरों को चौबीसों घण्टे गुणवत्तापूर्ण बिजली मिल सकेगी।मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने बिजली तिहारों के आयोजन के लिए आज जिला कलेक्टरों को पत्र लिखा है। डॉ. सिंह ने उनसे कहा है कि बिजली तिहारों के अवसर पर प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना -सौभाग्य का प्रदेश स्तरीय शुभारंभ किया जाएगा। उल्लेखनीय है कि डॉ. रमन सिंह के नेतृत्व में राज्य सरकार कल 7 दिसम्बर को 14 साल पूर्ण कर 15वें साल में प्रवेश कर रही है, जबकि डॉ. सिंह 12 दिसम्बर को अपनी तीसरी पारी के चार वर्ष पूर्ण कर पांचवें वर्ष में प्रवेश करेंगे।

डॉ. रमन ने जिला कलेक्टरों को बिजली तिहार आयोजन के लिए तैयारी के निर्देश देते हुए पत्र में लिखा है प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 25 सितम्बर 2017 को ’सौभाग्य’ योजना की घोषणा करते हुए देश के सभी राज्यों को विद्युत सुविधा से वंचित गांवों और घरों तक बिजली पहुंचाने का लक्ष्य दिया है। उनकी इस महत्वपूर्ण योजना के तहत छत्तीसगढ़ में अगले दस माह में (सितम्बर 2018 तक) छह लाख 25 हजार घरों में बिजली पहुंचाने का लक्ष्य है। डॉ. सिंह ने कहा-इसी तरह राज्य में बिजली आपूर्ति के लिए अधोसंरचनाओं को सुदृढ़ बनाने के लिए मुख्यमंत्री ऊर्जा प्रवाह योजना के तहत 33/11 के.व्ही. क्षमता के 36 नये विद्युत सबस्टेशनों का भी निर्माण पूरा कर लिया गया है, जिनका लोकार्पण भी किया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने जिला कलेक्टरों को लिखा है कि हर जिले में निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार प्रदेश के सरकार के मंत्रीगण भी बिजली तिहार में शामिल होंगे। अपने पत्र में मुख्यमंत्री ने जिला कलेक्टरों को मंत्रियों के मार्गदर्शन में संबंधित विभागों से समन्वय करने और बिजली तिहारों के कार्यक्रम की रूपरेखा तय करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने पत्र में यह भी कहा है कि सभी स्थानीय सांसदों और विधायकों तथा अन्य जनप्रतिनिधियों को भी कार्यक्रम में आमंत्रित किया जाए। मुख्यमंत्री ने लिखा है कि किसानों से लेकर उद्यमियों तक और विद्यार्थियों से लेकर गृहणियों तथा बुजुर्गों तक हर वर्ग और हर उम्र के लोगों को बिजली से लाभ मिलता है। इसलिए विद्युत विकास सबकी रूचि का विषय है।

इन गांवों में होगा विद्युत सबस्टेशनों का लोकार्पण
जिन नवनिर्मित विद्युत सब स्टेशनों का 12 दिसम्बर को लोकार्पित होना प्रस्तावित है, उनमें कबीरधाम जिले के अंतर्गत ग्राम कोलेगांव, पथर्रा और बीरनपुरकला, जिला राजनांदगांव के अंतर्गत बोरी और उदयपुर, जिला कांकेर के अंतर्गत ग्राम परसोदा, जिला कोण्डागांव में ग्राम गिरोला और बोरगांव, जिला जशपुर में ग्राम आरा (बोकी), जिला जांजगीर-चांपा में ग्राम दारंग, सेमरा, मुड़पारकुथुर, धुरतेली और सेन्दुरस, जिला नारायणपुर में ग्राम कुड़ला, जिला बलौदाबाजार-भाटापारा के अंतर्गत ग्राम झिरिया और मनोहरा, जिला महासमुन्द के अंतर्गत ग्राम झारा, जिला बिलासपुर में ग्राम खरकेना, जिला रायपुर में बेलभाटा, जिला दुर्ग में हिर्री, नारधा, चंदखुरी और खैरझिटी (भाटाकोकड़ी) , जिला बालोद में कुर्दी, जिला बेमेतरा में गोढ़ीकला (कौराकांपा) और प्रतापपुर, जिला सरगुजा में डांडगांव, जिला गरियाबंद में जोबा (दर्रीपारा) और श्यामनगर, जिला धमतरी में कांतलबोड और पचपेड़ी, जिला मुंगेली में सावंतपुर (लालपुर), जिला सूरजपुर में कालीघाट और जिला रायगढ़ में तड़ोला तथा बैसी (हाथीगुड़ा) शामिल है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>