samvilyan Archive

शिक्षा कर्मीः CM डॉ.रमन के 14 सेकेन्ड के स्टेटमेंट का असर नहीं … 26 मई संविलयन सभा पर अडिग… जोरदार तैयारियां

रायपुर । “  चलिए….ये इलेक्शन के समय …. अभी धीरे-धीरे-धीरे आँदोलन तो होते रहेगे….. मगर समाधान भी हमने ढूँढ़ लिया है….और समाधान चीफ सेक्रेटरी औऱ कमेटी तैयार हो गई है…… इसका रास्ता निकलेगा….” । यह स्टेटमेंट मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह का है…। जिसे उन्होने अपनी विकासयात्रा के दौरान किसी पड़ाव पर शिक्षा कर्मियों के मुद्दे औऱ

शिक्षा कर्मियों की संविलयन संकल्प सभाः निर्णायक लड़ाई में 90 लाख वोटर तक पहुंचने की तैयारी….सरकार के लिए खतरे की घँटी..

रायपुर । छत्तसीगढ़ के शिक्षा कर्मी संविलयन / शासकीयकरण सहित अपनी 9 सूत्रीय मांगों को लेकर अब निर्णायक लड़ाई के मूड में है। इस साल प्रदेश में विधानसभा के चुनाव  है और शिक्षा कर्मियों ने  प्रदेश में पिछले करीब 15 साल से सरकार चला रही बीजेपी को ही बड़ी चुनौती देने की तैयारी कर ली

शिक्षाकर्मियों की 26 मई के संकल्प सभा को लेकर बड़ी तैयारी…एक शिक्षाकर्मी 50 वोटर को करेगा जागरूक..90 लाख वोटर तक पहुंचने की रणनीति

रायपुर । प्रदेश के शिक्षाकर्मियों ने महापंचायत में 26 मई को 90 विधानसभा क्षेत्रों में संविलियन संकल्प सभा आयोजित करने का निर्णय सर्वसम्मति से लिया है।इस सभा कार्यक्रम की समस्त रूपरेखा शिक्षक पँचायत / नगरीय निकाय  मोर्चा   के पांचों प्रांतीय संचालक संजय शर्मा,विरेन्द्र दुबे,केदार जैन,चन्द्रदेव राय, विकास राजपूत ने जारी करते हुए बताया कि 26

शिक्षाकर्मियों के संविलयन का फैसला 25 मई तक करे सरकार..MP से अध्ययन कर लौट आई है टीम

रायपुर । नवीन शिक्षाकर्मी संघ के प्रदेशाध्यक्ष व शिक्षक पंचायत नगरीय निकाय मोर्चा के प्रान्तीय संचालक विकास सिंह राजपूत ने कहा है राजस्थान से शिक्षाकर्मियों के संविलियन नीति के अध्ययन करने के बाद पुनः शासन द्वारा आर.पी.मण्डल अपर मुख्य सचिव के नेतृत्व मे एक दल मध्यप्रदेश मे प्रक्रियाधीन संविलियन नीति के अध्ययन करने भोपाल गये

MP की तरह छत्तीसगढ़ में भी किया जा सकता है शिक्षा कर्मियों का संविलयन…. कमलेश्वर ने कहा प्रथम नियुक्ति से मिले वरिष्ठता

रायपुर । छत्तीसगढ़ व्याख्याता पंचायत संघ के प्राताध्यक्ष कमलेश्वर सिंह ने कहा  है कि मध्यप्रदेश में सरकार ने अध्यापक वर्ग का शिक्षा विभाग में संविलयन करेने की घोषणा कर दी है। इसी तरह छत्तीसगढ़ में शिक्षा कर्मियों का संविलयन किया जा सकता है। उन्होने मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह  की ओऱ से दिए जारहे संकेत को सकारात्मक

शिक्षाकर्मियों के साथ किया धोखा…..CJC का दावा- जोगी की सरकार बनते ही किया जाएगा संविलयन

रायपुर ।  जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे.) के मीडिया अध्यक्ष इकबाल अहमद रिजवी ने कहा है कि छत्तीसगढ़ की सरकार ने शिक्षाकर्मियों के साथ धोखा किया है, शिक्षाकर्मियों को छला है। शिक्षाकर्मी छत्तीसगढ़ की नई पीढ़ी को तैयार कर रहे है उनका भविष्य बना रहे है और वही सरकार शिक्षाकर्मियों के भविष्य को अंधकार बना रही

शिक्षा विभाग से प्रस्ताव और आपत्ति लेकर हो सकता है शिक्षा कर्मियों का संविलयनः केदार जैन

रायपुर ।     छत्तीसगढ़ शासन प्रशासन चाहे तो शिक्षा विभाग से प्रस्ताव व अनापत्ति लेकर शिक्षाकर्मियों का संविलियन कर सकता है क्योंकि शिक्षाकर्मियों की नियुक्ति राज्य के नियमित व्याख्याता,शिक्षक, सहायक शिक्षक के पद विरुद्ध क्रमशा वर्ग 1,2,3 की भर्ती की गई है संविधान के 73वें संशोधन के फलस्वरुप शिक्षा विभाग के नियमित व्याख्याताओं, शिक्षकों,सहायक शिक्षकों

शिक्षाकर्मियों के संविलयन में सरकार की कमजोर इच्छाशक्ति ही बाधक…अपने ही वादे से मुकर रही सरकार

बिलासपुर ।राज्य में   भाजपा सरकार की कमजोर इच्छा शक्ति के चलते प्रदेश के 1 लाख 80 हजार शिक्षाकर्मीयो का शिक्षा विभाग में संविलियन/शासकीयकरण नही हो पा रहा है  ।  जबकि अन्य प्रदेश चाहे वह राजस्थान हो,दिल्ली हो उत्तर प्रदेश या फिर वर्तमान में मध्यप्रदेश  अपने शिक्षको का शासकीयकरण करके बेहतर जिंदगी दी है  । 

शिक्षा कर्मियों का अब एक ही सवाल,मध्यप्रदेश में जब संविलयन हुआ ही नहीं,तो वहां जाकर क्या देखेगी सरकार की कमेटी..?

रायपुर / भोपाल ।    छत्तीसगढ़ के सरकारी स्कूलों में काम कर रहे शिक्षा कर्मियों की समस्याओँ और माँगों पर विचार करने के लिए मुख्यसचिव की अध्यक्षता में गठित कमेटी के फैसले के मुताबिक अब एक कमेटी मध्यप्रदेश में शिक्षा कर्मियों की सुविधाओँ के अध्ययन के लिए भेजी जा रही है। इसे लेकर शिक्षा कर्मी

शिक्षा कर्मियों को उम्मीद …. 1 मई की मीटिंग मे होगी संविलयन की घोषणा…अब आश्वासन नहीं,संविलियन व शिक्षक का सम्मान चाहिए …..नहीं तो जारी रहेगा संघर्ष

रायपुर । शिक्षा कर्मियों की समस्याओँ और माँगों पर विचार करने के लिए मुख्यसचिव की अध्यक्षता में गठित की गई हाईपॉवर समेटी की बैठक 1 मई को रखी गई है। जिसमें चर्चा के लिए छत्तीसगढ़ के सभी शिक्षा कर्मी संगठनों के पदाधिकारियों को बुलाया गया है। इस मीटिंग को लेकर आम शिक्षा कर्मियों में काफी