सेंट्रल लाइब्रेरी निर्माण भूमिपूजन:मंत्री अमर अग्रवाल ने की घोषणा-नूतन चौक से हटने वालों को आवास वितरण में पहली प्राथमिकता

central librarबिलासपुर-नूतन चौक पर प्रधान मंत्री आवास योजना के तहत 400 मकान का निर्माण लगभग अंतिम छोर पर है। शहर के हृदय स्थल पर इस मल्टीस्टोरी मकानों में यहां से हटाए गए लोगों को ही पहली प्राथमिकता के तौर मकान वितरण किए जाएंगे। ये बातें नगरीय निकाय व वाणिज्यकर एवं उद्योग मंत्री व शहर विधायक अमर अग्रवाल ने मंगलवार शाम नूतन पर सेंट्रल लाइब्रेरी निर्माण भूमिपूजन कार्यक्रम में कही। उन्होंने कहा कि हाल में मुख्यमंत्री माननीय डा. रमन सिंह के दौरा कार्यक्रम में उन्होंने नूतन चौक पर प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत बनी इस मल्टी स्टोरी बिल्डिंग की तारीफ की। उन्होंने कहा कि शहर के हृदय स्थल पर बन रहे यह बिल्डिंग निष्चित तौर पर शहर के गरीबों के लिए पक्के मकान के रूप में शहर विकास की गाथा बनेगी।मंत्री ने कहा कि देश के 100 स्मार्ट शहरों में बिलासपुर शामिल है। सेंट्रल लाइब्रेरी के निर्माण से स्मार्ट सिटी की परिकल्पना साकार हो रही है। स्मार्ट सिटी की परिकल्पना में स्वास्थ्य,शिक्षा, सड़क, बेहतर ट्रैफिक व्यवस्था, बिजली और पानी के साथ सारी सुविधाएं आनलाइन मिलना शामिल है। यहां 24 घंटे बिजली की व्यवस्था है। इसी तरह शहर की सड़कें पहले से बहतर चौड़ी और ट्रैफिक दबाव कम हो इसे ध्यान में रखकर बनाया जा रहा है। इसी तरह शिक्षा के लिए यूनिवर्सिटी और बेहतर स्कूल व कालेज की सुविधाएं हैं। इधर पर्याप्त शुद्ध पानी की उपलब्धता के लिए 350 करोड़ रुपए की लागत से खूंटाघाट से पानी लाने का कार्य चल रहा है।

इससे जमीन के अंदर के पानी का दबाव कम होगा और शहर के भूमिगत जल स्तर बढ़ेगा। इसी तरह स्वास्थ्य के लिए मेडिकल कालेज, जिला अस्पताल और नामचीत निजी हास्पिटल के साथ बच्चे और मां के लिए 14 करोड़ रुपए की लागत से हाल में मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह ने हास्पिटल का उद्घाटन किया। उन्होंने कहा कि देश में कचरे के बेहतर निबटान एक चुनौती है। इसके लिए कछार में प्लांट निर्माणाधीन है। इस माह के अंत तक बन कर तैयार हो जाएगा। इसके बाद शहर के सभी घरों से निकले सूखे कचरे से मात्र दो दिनों में खाद् और सूखे कचरे का विधिवत निबटान और ईंधन बनाने का कार्य होगा। मंत्री श्री अग्रवाल ने कहा कि सेंट्रल लाइब्रेरी यहां के युवाओं सहित हर वर्ग के लोगों को ध्यान में रखकर बनाया जा रहा है। यहां एक तरफ जहां ई लाइब्रेरी की सुविधा युवाओं को अपने केरियर निर्माण के लिए मिलेगी, वहीं बुजुर्गों के लिए उनके रुचि के किताब उपलब्ध रहेगी। सेंट्रल लाइब्रेरी शहर के हृदय स्थल पर बन रहा है जो शहर विकास के लिए माइल्ड स्टोन होगी। यहां पढ़कर शहर के युवा प्रदेश व शहर का नाम दुनियां में रौशन करेंगे। कार्यक्रम में मेयर किशोर राय, निगम कमिष्नर श्री सौमिल रंजन चौबे, एमआईसी सदस्य व जनकार्य प्रभारी उमेश चंद्र कुमार, एमआईसी सदस्य  श्याम साहू, रमेश जायसवाल, पार्षद श्रीमती रेखा निर्मलकर,सतीश गुप्ता,राजू यादव सहित निगम के अधिकारी, कर्मचारी व क्षेत्र के नागरिक बड़ी संख्यामेंउपस्थित थे।

लाइब्रेरी में आर्ट गैलरी भी 
सेंट्रल लाइब्रेरी प्रदेश की पहली लाइब्रेरी होगी जहां आर्ट गैलरी होगी। साढ़े पांच करोड़ की लागत से बन रही इस लाइब्रेरी का प्रथम तल 10 हजार वर्गमीटर और द्वितीय व तृतीय तल साढ़े आठ हजार वर्गमीटर का होगा। लाइब्रेरी के बाहर करीब आठ हजार वर्गमीटर पर पार्किंग सुविधा होगी, जिसमें 500 दो पहिया और 80 से ज्यादा कार रखने की सुविधा होगी। इसी तरह लाइब्रेरी ई लाइब्रेरी के साथ केंटिन और अन्य सुविधाएं होंगी। क्षेत्र के लोगों के मार्निग वाक के लिए पाथ वे व गार्डन का भी विकास इस परिसर में किया जाएगा।

ट्रैफिक व्यवस्था होगी स्मार्ट
म्ंात्री श्री अग्रवाल ने कहा कि हाल में रायपुर में 150 करोड़ रुपए की लागत से आईटीएमएस का निर्माण कराया गया है। इसमें शहर में पार्किंग व ट्रैफिक सुधार की संभावित व्यवस्था पर कार्य होता है। सारी जानकारी नेट में मिलती है। इसी तरह की व्यवस्था शहर के लिए भी आने वाले समय में किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *