बिलासपुर की मधुक्षरा को युवा साहित्यकार सम्मान..कमल भंजदेव ने कहा..हर संभव करूंगा मदद…हनी चौबे ने किया नाम रोशन

बिलासपुर—युवा कवियत्री मधुक्षरा” ने राज्य स्तरीय कार्यक्रम में शामिल होकर बिलासपुर जिले का नाम रौशन किया है। युवा आयोग छत्तीसगढ़ और सांईनाथ फाउंडेशन तत्वावधान में आयोजित राज्यस्तरीय युवा कलमकार खोज कार्यक्रम में बिलासपुर मधुक्षरा ने पांचवा स्थान हासिल किया है। कार्यक्रम का आयोजन 5 अगस्त 2018 को रायपुर में किया गया। इस दौरान प्रदेश के स्वनाम धन्य साहित्यकार और युवा आयोग के चैयरमैन कमलचन्द भंजदेव विशेष रूप से मौजूद थे।
                                  रायपुर में आयोजिन संयुक्त कार्यक्रम में जिला प्रभारी श्रीकुमार पाण्डेय ने बताया कि बिलासपुर जिले से चयनित 5 प्रतिभागियों फायनल युवा हस्ताक्षर कविता पाठ कार्यक्रम में शामिल हुए। बिलासपुर की बेटी युवा कवियित्री हनी चौबे “मधुक्षरा” ने विभिन्न प्रदेश के विभिन्न जिलों से कार्यक्रम में शामिल 116 प्रतिगोगियो को पछाड़कर 5वां स्थान हासिल किया है। मधुक्षरा ने “बलात्कार” शीर्षक जैसे संवेदनशील विषय पर मार्मिक रचना पढ़ कर सबको सोचने पर मजबूर किया।
          श्रीकुमार ने बताया कि कार्यक्रम में राजनांदगांव के भावेश देशमुख ने प्रथम स्थान हासिल किया। जांजगीर के उमाकांत टैगोर को दूसरा और रायपुर के इरफान खान ने तीसरा स्थान हासिल किया। सभी विजेताओं को नगद राशि ,प्रमाण पत्र और स्मृति चिह्न से सम्मानित किया गया। फायनल कविता पाठ में बिलासपुर से आशुतोष दुबे,सुमित शर्मा,नितेश पाटकर और बालमुकुंद श्रीवास ने हिस्सा लिया।
                       मालूम हो कि छत्तीसगढ़ युवा आयोग और साँई नाथ फाउंडेशन के संयुक्त कार्यक्रम युवा हस्ताक्षर का आयोजन प्रदेश के सभी जिला स्तर पर किया गया। प्रत्येक जिले युवा हस्ताक्षरों का चयन सम्मानित साहित्यकारों ने किया। फायनल कार्यक्रम का आयोजन रायपुर में किया गया। कार्यक्रम और संयोजन के लिये युवा आयोग अध्यक्ष कमलचंद्र भंजदेव ने युवा साहित्यकार कुमार पाण्डेय और जयेंद्र कौशिक को सम्मानित किया।
                    कार्यक्रम संयोजक श्री कुमार पाण्डेय ने बताया कि छत्तीसगढ़ के साहित्यिक इतिहास में यह अपनी तरह का पहला साहित्यिक खुला मंच आयोजन था। कार्यक्रम की चर्चा पूरे देश मे  है। युवा आयोग अध्यक्ष कमलचंद्र भंजदेव ने सभी युवा रचनाकारों को समाज निर्माण में सकारात्मक भागेदारी के लिये धन्यवाद दिया। युवाओं के विकास के लिये हर संभव मदद का आश्वासन दिया।
                 कार्यक्रम संयोजक आशीष राज़ सिंघानिया’तन्हा’ ने सभी रचनाकारों को उज्जवल साहित्यिक भविष्य की शुभकामनाएं दीं। गरिमामयी कार्यक्रम में प्रदेश के जाने माने कवियों साहित्यकारों ने भाग लिया। कार्यक्रम में विशेष रूप से मीर अली मीर,अजय अटापट्टू,शाद बिलासपुरी,विजय राठौर ,नेहा दिव्य दुबे,देवेंद्र परिहार,मनोज शुक्ला,जयेंद्र कौशिक,सुरेश पैगवार,मिलन मलरिहा श्री कुमार शामिल हुए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *