नियम विरूद्ध नियमितिकरण मुश्किल..संचालक निरंजन दास ने कहा…सिटी सेन्टर का मंगाया दस्तावेज…सितम्बर से शुरू होगा कचरा निपटान का काम

बिलासपुर– नगरीय निकाय संचालक निरंजन दास निकाय संचालक की जिम्मेदारी संभालने के बाद पहली बार बिलासपुर पहुंंचे। संचालक निरंजन दास ने बताया कि संभागीय बैठक संंभाग के सभी केन्द्र और राज्य परिवर्तित योजनाओं पर चर्चा होगी। इस दौरान विभिन्न विकास के मुद्दों पर जानकारी भी ली जाएगी। पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए कहा कि यहां कुछ विकास हुआ है मंथन करेंगे। अधूरे काम को जल्द से जल्द पूरा करने का निर्देश भी दिया जाएगा।
                            निरंजन दास ने कहा कि जितनी भी शिकायतें मिलेंगी उन्हें गंभीरता से लिए जाने की जरूरत हैं। उन्होने कहा कि पहले भी निर्माण नियमितिकरण को लेकर आवदेन मंगाए गए थे। उन पर विचार किया जा रहा है। कुछ भवनों का नियमितिकरण भी कर दिया गया है। कुछ आवेदनों पर अभी विचार किया जाना है। उन्होने कहा कि शिकायत मिली है कि यहां वाटर एटीएम का अब ढांचा मात्र रह गया है। काम कोई नहीं कर रहा है। निश्चित रूप से मामला गंंभीर है। समस्या को दूर किया जाएगा। बैठक में मामले पर सवाल भी किया जाएगा।
        नियमितिकरण पर अभी बहुत कुछ प्रक्रिया का पालन किया जाना है। टाउन एण्ड कन्ट्री प्लानिंंग में दिये गए आवेदनों पर गहन छानबीन के बाद मामला कलेक्टर के सामने पेश होगा। इसके बाद नियमितिकरण के लिए उचित कदम उठाया जाएगा।
                     क्या योजनाओं के क्रियान्यवन में बहुत देरी हो रही है..जैसे तिफरा फ्लाई ओव्हर ब्रिज का है। सवाल के जवाब में निरंजन दास ने कहा कि समय सीमा से आगे काम चल रहा है। यह गलत जानकारी है कि फ्लाई ओव्हर निर्माण कार्य बहुत देरी है। उन्होने कहा निर्माण कार्य में कई प्रकार के काम हैं। जैसे शिफ्टिंग,पेड़,बिजली के तारों को सेटल करना भी इसमें शामिल है।
                                      कछार में वाटर बेस्ट मैनेजमेन्ट का काम कब तक पूरा हो जाएगा। अब तो स्थानीय लोग शहर की गंदगी को झेल कर परेशान हो चुके हैं। सवाल के जवाब में दास ने कहा कि एक महीने के अन्दर वेस्टमैनेजमेन्ट प्लांट काम करना शुरू कर देगा। सितम्बर में काम करना शुरू हो जाएगा। पिछली बार विजिट किया था। कुछ कमी थी..उसे दूर करने को कहा गया था। सितम्बर में प्लान्ट काम करना शुरू कर देगा।
सिटी सेन्टर को गंभीरता से लेंगे…
                                              सिटी सेन्टर को क्या तोड़ा जाएगा। सिटी सेन्टर संचालक ने नियमितिकरण का आवेदन दिया है। दूसरी तरह निगम सिटी सेन्टर के खिलाफ कोर्ट गया है। सवाल के जवाब में निरजन दास ने कहा कि कोर्ट के दिशा निर्देशों का पालन किया जाएगा। सिटी सेन्टर बोगस सीमाकन पर निर्माण किया है तो कार्रवाई होगी। सीमांकन कराया जाएगा। सिटी सेन्टर के खिलाफ लिखित में शिकायत मिली है। कागजात बुलवाए हैं। गौर करूंगा। अधिकारियों से भी जानकारी लूंगा। इसके बाद जो जरूरी कदम है उठाया जाएगा। संचालक ने स्वीकार किया कि आदेश दिया गया था सरकारी जमीन से कब्जा हटाया जाए। यदि सिटी सेन्टर का निर्माण नियम विरूद्ध है तो कार्रवाई तो होगी ही।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *