विधायकों को घेरने निकले पहुंच गए जेल…बिल्हा में जसबीर ने दिखाई ताकत…पुलिस को मिला बारिश का साथ

  बिलासपुर–आज मौसम और पुलिस ने आम आदमी पार्टी के तूफान को कमजोर कर दिया। लेकिन बिल्हा में आम आदमी पार्टी के सामने मौसम भी कमजोर साबित हुआ और पुलिस प्रशासन को कार्यकर्ताओं को विधायक निवास तक पहुंचने से रोकने जमकर पसीना बहाना पड़ा। बेलतरा विधायक निवास तक पहुंचने से बहुत पहले ही पुलिस और प्रशासन ने सभी को अरपा पार ही दबोच लिया। जबकि निकाय मंत्री के आवास तक पहुंचने के लिए कोन्होर गार्डन से निकले सभी 30 से 35 आप कार्यकर्ताओं को नेहरू चौक में ही डग्गे में बैठाकर कोनी थाना के लिए रवाना कर दिया गया। बाद शाम होते सभी निःशर्त रिहा कर दिया गया। जानकारी के अनुसार तखतपुर में अनिल सिंह बघेल की अगुवाई में आप नेताओं ने थोड़ा बहूत ताकत का प्रदर्शन तो किया लेकिन वहां भी कोई पुलिस को छकाकर विधायक निवास तक पहुंचने में कामयाब नहीं हुआ।

                                आज आम आदमी पार्टी ने एक साथ विधायक आवास का घेराव का एलान किया था। एक दिन पहले से पुलिस और प्रशासन विधायकों की सुरक्षा को लेकर पूरी तरह से मुस्तैद था। लेकिन ठीक घेराव के दिन मानसून ने भी पुलिस और प्रशासन का भरपूर सहयोग दिया। जगह जगह से आप कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी हुई। कहीं ज्याद तो कहीं कम लोगों को जेल भेजा गया। गिरफ्तारी में सबसे कम संख्या बेलतरा विधायक को घेरने के दौरान देखने को मिली। सभी आठ लोगों को पुलिस ने अमरैया चौक से गिरफ्तार कर सरकंडा थाना भेज दिया। तहसीलदार अमित सिन्हा गिरफ्तार होने वालों में 6 पुरूष और 2 महिलाएं थी।

बिल्हा में आप कार्यकर्ताओं की ताकत

                बिल्हा में आप विधानसभा प्रत्याशी सरदार जसबीर सिंह की अगुवाई में विधायक सियाराम कौशिक के आवास को घेरने सैकड़ों की संख्या में लोग निकले। इस बीच सरदार जसबीर सिंह की टीम को बरसात ने रोकने का जमकर प्रयास किया। लेकिन आप कार्यकर्ता हार नहीं माने और आगे बढ़ते नजर आए। लेकिन प्रशासन और पुलिस की जुगलबन्दी ने सैकड़ों लोगों को नेशनल हाइवे पर ही रोक दिया। बहुत मना करने के बाद भी आप कार्यकर्ता विधायक निवास की तरफ बढ़े। अन्त में पुलिस को गिरफ्तार करना पड़ा। बारिश के चलते कार्यकर्ता इधर-उधर हो गए।

थाना प्रभारी परिवेश तिवारी ने बताया कि करीब 62 लोगों को गिरफ्तारी की गयी। सभी को तहसीलदार नारायण गभेल की मौजूदगी और आदेश पर निःशर्त रिहा भी किया गया। यद्यपि इस दौरान आप कार्यकर्ताओं और पुलिस के बीच जमकर बहस हुई। विकास,जनता ,किसान योजनाओं पर तहसीलदार समेत थानेदार से बहस भी हुई। जसबीर चावला ने बताया कि हम शांति पूर्ण प्रदर्शन कर रहे हैं। लेकिन सारे तर्क प्रशासन के सामने धरे के धरे रह गए।

अमर का घर दूर…नेहरू चौक तक नहीं पहुंचे

बिलासपुर विधायक अमर अग्रवाल के निवास को घेरने आप के 20-25 कार्यकर्ता कोन्हेर गार्डन से झण्डा और बैनर लेकर नारेबाजी करते निकले। लेकिन शैलेश आहुजा और ईश्वर चंदेल समेत आम आदमी पार्टी की सभी कार्यकर्ताओं को पुलिस ने नेहरू चौक में धर दबोचा। गिरफ्तार कर सभी को कोनी थाना अस्थायी जेल भेज दिया गया। गिरफ्तारी के दौरान आप कार्यकर्ताओं ने नगर विधायक के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

तखतपुर में कार्यकर्ताओं पर पुलिस भारी

तखतपुर में आप प्रत्य़ाशी अनिल बघेल की अगुवाई में आप कार्यकर्ताओं ने विधायक निवास के घेराव का असफल प्रयास किया। पुलिस ने पहले से विधायक आवास को चारो तरफ से घेर रखा था। राजू सिंह क्षत्रि के निवास से बहुत पहले ही सभी आप नेताओं को पुलिस ने पकड़ कर थाना भेज दिया। बाद में देश शाम आप नेताओं को निःशर्त रिहा भी कर दिया गया।

आखिर घेराव का कारण क्या

                         प्रदेश नेताओं के निर्देश पर आप कार्यकर्ता घोषित प्रत्याशियों की अगुवाई में विधानसभावार विधायक आवास के घेराव का फैसला लिया था। इसी क्रम में 22 जुलाई को पांच साल का हिसाब मांगने आप नेताओं ने कार्यकर्ताओं के साथ आवास घेराव फैसला लिया। आप नेता जसबीर सिंह समेत अन्य प्रत्याशियों ने बताया कि पिछले तीन साल से प्रदेश में सूखा है। लेकिन आज तक सूखा राहत का लाभ किसानों को नहीं मिला। बीमा राशि का बंटवारा नहीं किया गया। मनरेगा मजदूरों का भुगतान नहीं हुआ। उज्जवला योजना आज तक गांव के अंतिम व्यक्ति तक नहीं पहुंची। प्रदेश में भ्रष्टाचार का बोलबाला है। गरीबों का चावल राशन दुकान वाले खा रहे हैं। शराब की अवैध बिक्री बेलगाम तरीके से हो रहा है। किसानों को ना तो समर्थन मूल्य दिया गया और ना ही धान की घोषित कीमत का ही भुगतान किया गया। इन्ही सब बातों को ध्यान में रखकर विधायक से पांच साल का हिसाब मांगने जनता मजबूर है।

                   जसबीर सिंह ने बताया कि विधायक को बताना होगा कि पिछले पांच सालों में विधायक ने क्षेत्र के विकास में क्या किया। जनता को बताना उनकी जिम्मेदारी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *