शिक्षाकर्मी संविलयन में वर्ग-3 को हो रहा हर महीने 15 से 22 हजार का नुकसान,जबकि संख्या सबसे अधिक..वायरल पोस्ट में नए सिरे से संगठन तैयार करने की कवायद

रायपुर । शिक्षा कर्मियों के संविलयन के सिलसिले में प्रक्रिया पूरी करने के लिए प्रदेश भर में सरकार की ओर से हर एक ब्लॉक स्तर पर शिविर लगाए जा रहे हैं। इस दौरान इकट्ठे हो रहे शिक्षा कर्मियों के बीच  वर्ग – तीन  के शिक्षा कर्मियों के नए संगठन को लेकर भी जमकर चर्चा है। यह चर्चा सोशल मीडिया के ग्रुप्स में वायरल हो रहे एक पोस्ट को लेकर है। जिसमें कहा गया है कि संविलयन से सहायक शिक्षक ( पंचायत /  नगरीय निकाय ) को हर महीने 15 से 22 हजार रुपए का नुकसान हो रहा है।सबसे ज्यादा शोषित – पीड़ित इस वर्ग के शिक्षकों की सदस्य संख्या सबसे अधिक है।जिनकी  आवाज बुलंद करने के लिए सभी को संगठित करने की जरूरत है। सोशल मीडिया की पोस्ट में यह भी बताया गया है कि किस तरह संगठन तैयार कर अपनी ताकत बनाई जा सकती है।

वायरल हो रही पोस्ट में सभी शिक्षा  कर्मियों को संबोधित कर  कहा गया है कि एक सरकारी आंकड़े के मुताबिक वर्तमान में छत्तीसगढ़ प्रदेश में शिक्षाकर्मियों की कुल स्वीकृत पद लगभग दो लाख के आस-पास है, जिसमें लगभग 61 हजार पद खाली पड़े है। कुल कार्यरत शिक्षाकर्मियों की संख्या 1 लाख 39 हजार लगभग। जिसमें वर्ग 03 की संख्या करीब 1 लाख, 9 हजार है। यह राज्य शासन द्वारा जारी एक अधिकृत आंकड़ा है।अर्थात प्रदेशभर में वर्ग 03 की कुल संख्या एक लाख नौ हजार है जबकि वर्ग 01 और 02 की संख्या मात्र 30 हजार है।मतलब प्रदेश में कुल पदस्थ शिक्षकों में से हम वर्ग 03 के शिक्षकों की संख्या 78 प्रतिशत है। यह विशुध्द रूप से एक सरकारी आंकड़ा है जो पिछले दिनों अखबारों में छपा था।इतनी बड़ी संख्या होते हुए भी वर्ग 03 सबसे ज्यादा शोषित और पीड़ित है क्यो?

2013 में छठवे वेतन देते समय केंद्रीय विद्यालयों में प्राथमिक शिक्षकों का वेतन = 9300 + 4200 दिया गया। इसे ही नियमानुसार 2.57 से गुना कर सातवां वेतन निर्धारण किया गया है। पर छत्तीसगढ़ में वर्ग 03 के साथ ऐसा नहीं हुआ क्यों…. ?
छत्तीसगढ़ राज्य में वर्ग 03 को, साल 2013 से पूरी तरह छला जा रहा है ऐसा क्यों ..?

साल 2013 से वर्ग 03 को प्रतिमाह 8 से 10 हजार नुकसान हो रहा है जो अब संविलियन एवं सातवें वेतन पश्चात हर माह 15 से 22 हजार रुपये नुकसान होगा। ऐसा क्यों .. ?मित्रों, इन सबका सिर्फ एक ही कारण है प्रदेश में वर्ग 03 का बिखराव। हम सबका संगठित नहीं होना।

तो आइए चलिए हम सब संगठित होकर एक बड़ी लड़ाई लड़े।

क्या करें ??

आगामी 14 एवं 15 जुलाई को प्रदेशभर के सभी 146 विकासखण्डों में संविलियन शिविर लग रहा है। इस दौरान सभी शिक्षाकर्मी ब्लाक मुख्यालय आएंगे इसी दरमियान हम एक घण्टे का समय निकालकर ब्लाक मुख्यालय में कंही बैठ जाएं और निम्न पदाधिकारियों का चयन करें।वर्ग 03 ब्लाक अध्यक्ष (01), महिला प्रभाग (01), सचिव (01), सह सचिव (02), कोषाध्यक्ष (01), उपाध्यक्ष (05), महासचिव (03), संगठन मंत्री (05), महामंत्री (07), प्रवक्ता (05), मीडिया प्रभारी (01), कार्यकारिणी सदस्य (20) एवं अन्य समस्त पदाधिकारी।ये सारे कार्य करने के बाद हमें सूचित करें।आगे की योजना आपको शीघ्र ही बताई जाएगी।

इस पोस्ट के साथ वर्ग -3 संघर्ष मोर्चा  के  जाकेश साहू, अजय गुप्ता, शिव सारथी, इदरीश खान, छोटेलाल साहू, मनीष मिश्रा, विरेन्द्र चन्द्रवँशी, अमित शर्मा, इरफान भाई,  सुखनन्दन यादव, उत्तम देवांगन, पुष्पेंद्र चौबे, ईश्वरी टण्डन, नोहर चंद्रा, मुकेश रात्रे, सुधीर शर्मा, अश्वनी कुर्रे, मोहन जोगी, चेतन परिहार, जलज थवाईत, कीर्ति ठाकुर, जितेंद्र सिन्हा, पवन दुबे, लोकेश साहू, एलन साहू, ब्रजकिशोर निषाद, देव पटेल, यसवंत साहू, दिलीप पटेल, बिद्यानंद पांडे, संकीर्तन नंद, संतोष सिदार, अमित शर्मा, रामजी ठाकुर, सीताराम मिश्रा, माहिर सिद्दीकी, यशवंत लाउत्रे, लक्ष्मी ध्रुव, ओमप्रकाश चौहान, अब्दुल आशिफ, खूबचंद सिन्हा, यशवंत कौशिक, रामकृष्ण साहू, भूपेश साहू, तोश पटेल, शैलेन्द्र कुमार, प्रमोद कुम्भकार, विमल कौशिक, राजकुमार मशखरे, देशन पटेल, गिरधर देवांगन  के नाम भी दिए गए हैं।

Comments

  1. By dilip

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *