मंत्री अमर ने दिए शराब दुकान में गड़बड़ी की जांच करने एसपी को निर्देश,सेल्समेनों को अब महीने के 7 तारीख तक मिल जाएगी तनख्वाह

रायपुर।वाणिज्यिक कर एवं उद्योग मंत्री अमर अग्रवाल ने अधिकारियों की बैठक लेकर आबकारी विभाग के काम-काज की समीक्षा की।मंत्री ने शराब दुकानों में कार्यरत सेल्समनों के वेतन भुगतान में सामान्यतया विलंब होने पर नाराजगी जाहिर की और कहा कि हर महीने 7 तारीख तक अनिवार्य रूप से वेतन भुगतान हो जाने चाहिए। जिन प्लेसमेन्ट एजेन्सियों के जरिए इनकी सेवाएं ली जा रही है, उन्हें इस तिथि तक वेतन भुगतान हो जाने संबंधी प्रमाण पत्र प्रस्तुत करना होगा।

आबकारी भवन में आयोजित राज्य स्तरीय बैठक में आबकारी आयुक्त डी.ड.ी सिंह, ओ.एस.डी. एस.आर.सिंह सहित सभी जिलों से आए आबकारी अधिकारी उपस्थित थे।

मंत्री अमर ने विस्तृत समीक्षा करते हुए सभी शराब दुकानों का अभिलेख संधारित करने और हिसाब-किताब दुरूस्त रखने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि प्रत्येक शराब दुकान में दो-दो पंजी रखी जाए। इनमें हर दिन की बिक्री का उल्लेख किया जाना चाहिए। इसका मिलान और ऑडिट विभाग द्वारा नियुक्त किए गए चार्टर्ड एकाउण्टेण्ट द्वारा किया जाना चाहिए।
रायपुर के पुरानी बस्ती स्थित एक शराब दुकान में राशि की गड़बड़ी को गंभीरता से लेते हुए इसकी जांच करने के निर्देश पुलिस अधीक्षक को दिए। उल्लेखनीय है कि लगभग साढ़े 4 लाख रुपए की गड़बड़ी का मामला उक्त दुकान में सामने आया है, जिसकी जांच की जा रही है। उन्होंने जांच होते तक इस इलाके के आबकारी इंस्पेक्टर को हटाने के निर्देश दिए।
मंत्री ने टोल फ्री सेवाओं में मिली शिकायतों की समीक्षा करते हुए उन पर कार्रवाई सुनिश्चित करने को कहा। आबकारी विभाग के टोल फ्री नम्बर 14405 पर कोई भी आबकारी संबंधी शिकायत दर्ज करा सकते हैं। अधिकारियों ने बैठक में बताया कि पिछले तीन महीनों में उक्त टोल फ्री नम्बर पर तीन हजार 167 शिकायतें दर्ज की गई। इनमें एक हजार 545 प्रकरण निर्धारित मूल्य से ज्यादा पर शराब बिक्री से संबंधित हैं। जांच किए जाने पर 105 प्रकरणों की पुष्टि की गई, जिस पर नियमानुसार कार्रवाई की गई।
अमर अग्रवाल ने कहा कि शराब दुकान के 50 मीटर के दायरे में चखना दुकान नहीं होने चाहिए। यदि इस सीमा के भीतर दुकान पाए गए तो संबंधित जिले के आबकारी अधिकारी को जिम्मेदार मानते हुए उनके विरूद्ध सख्त कार्रवाई की जाएगी। कांकेर जिले के बांदे और पंखाजूर में शराब दुकान के समीप चखना दुकान संचालित होने की शिकायत सहीं पाए जाने पर आबकारी अधिकारी को अपने काम-काज में सुधार लाने की सख्त हिदायत दी।
आबकारी मंत्री ने कहा कि दूसरे राज्यों की शराब अपने राज्य में नहीं आने चाहिए, इसके लिए सीमा पर निगरानी रखी जाए। राजनांदगांव, रायपुर और बिलासपुर मंे बाहरी राज्य के शराब के विरूद्ध 19 प्रकरण बनाए जाने की जानकारी अधिकारियों ने दी। मंत्री ने कहा कि ऐसे मामलों में यदि वाहन पकड़ाई जाती है, तो नियमानुसार राजसात की कार्रवाई तत्काल की जाए। अधिकारियांे ने बैठक में बताया कि दुकानों से शराब की बिक्री पर बिल दी जा रही है। फिर भी रायपुर और दुर्ग में बिना बिल की 21 शिकायत मिली है, जिस पर मंत्री ने नाराजगी जाहिर करते हुए इसकी जांच करने के निर्देश दिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *