लिंगियाडीह के 19 निजी दुकानों को तोड़ा जाएगा…सीमांकन के बाद हुआ उजागर…लोगों का आरोप सरपंच ने करवाया बेजाकब्जा

बिलासपुर—लिंंगियाडीह पंचायत स्थित बसंत वंसत विहार के सामने करीब 19 दुकानों को तोड़ा जाएगा। पंचायत सरपंच और सचिव की मिलीभगत से व्यापारियों ने सरकार जमीन पर कब्जा कर दुकान बना लिया है। तहसीलदार की नोटिस के बाद भी पूर्व संरपंच ने मात्र चार महीने पहले ही सरकारी जमीन पर कब्जा कर तीन नए दुकान बनवा लिए हैं। कभी सड़क किनारे स्थित क्षेत्र का सबसे बड़ा सुलभ काम्पलेक्स अब 19 दुकानों के पीछे छिप गया है। दुकान से घिरे होने के कारण महिलाओं को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। बहरहाल तहसील प्रशासन की टीम ने नाप जोख कर लिया है। बताया जा रहा है कि सभी दुकानदारों को नोटिस थमा कर दुकान तोड़ने को कहा जाएगा। नोटिस के बाद भी यदि दुकान नहीं हटाया गया तो शासन ने अतिक्रमण अभियान चलाकर बेजाकब्जा हटाने का मन बना लिया है।

                जिला प्रशासन प्रमुख कलेक्टर पी.दयानन्द के निर्देश के बाद तहसील प्रशासन की टीम ने लिंगियाडीह स्थित वसंत विहार के सामने अतिक्रमण का मुआयना किया है। तहसील प्रशासन से मिली जानकारी के अनुसार कभी सुलभ काम्पलेक्स सड़क किनारे सरकारी जमीन पर हुआ करता था। लेकिन लोगों ने सड़क और सुलभ काम्पलेक्स के बीच डे़ढ़ दर्जन से अधिक दुकान बना लिया है।

                               आज आरआई कमल किशोर कौशिक की अगुवाई में लिंगियाडीह पटवारी कौशल यादव के साथ टीम बसंत विहार के सामने स्थित अतिक्रमण स्थल पर पहुंची। नाप जोख के बाद टीम ने पाया कि लोगों ने सड़क के किनारे 25 फिट से अधिक सरकारी जमीन पर कब्जा कर लिया है। सुलभ काम्पलेक्स अंदर हो चुका है। कुछ लोगों ने अपोलो की तरफ जाने वाले वाले रास्ते के किनारे सरकारी जमीन को भी हथिया कर दुकान बना लिया है। जिससे लोगों की तकलीफ हो रही है।

 पहले भी थमाया गया था नोटिस

              जानकारी के अनुसार तहसील प्रशासन ने करीब आठ महीने पहले भी नोटिस थमाया था।  नोटिस भेजे जाने के बाद भी किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं हुई। उल्टा चार महीने पहले पूर्व सरपंच ने सुलभ काम्पलेक्स को घेरकर सरकारी जमीन पर तीन दुकान बना दिया। बहरहाल बताया जा रहा है कि इस बार कलेक्टर के निर्देश पर तहसील प्रशासन अतिक्रमण हटाने का पूरी तरह से मन बना लिया है।

दुकानदारों में हलचल

सरकारी जमीन पर बनाए गए दुकान के दो तीन दुकानदारों ने बताया कि आज अतिरिक्त तहसीलदार की टीम ने नाप जोख की है। हम लोगों ने सरपंच की अनुमति से दुकान बनाया है…दुकान बनाने और जमीन के एवज में रूपए भी दिये हैं। हम लोग दुकान नहीं हटाएंगे। दुकानदारों ने बताया कि कुछ दुकानें तो बनाकर मालिकों ने किराए पर दिया है।

बिजली की चोरी से जगमग दुकान

मालूम हो कि कमोबेश दुकानों में सुलभ काम्पलेक्स के कनेक्शन से लाइट जलती है। इसमें पूर्व और वर्तमान सरपंच की रजामन्दी है। फिलहाल उम्मीद है कि दुकान नहीं टूटेगा। जिसने हमें बेचा है। उसकी जिम्मेदारी है कि दुकान टूटने से बचाए।

19 दुकान बेजाकब्जा की जद में

अतिरिक्त तहसीलदार नारायण प्रसाद गभेल ने बताया कि शिकायत मिली थी कि सड़क किनारे सरकारी जमीन पर बेजा कर दुकान बनाया गया है। कलेक्टर के निर्देश पर टीम का गठन किया गया। सीमांकन के दौरान पता चला कि सुलभ काम्पलेक्स के सामने और किनारे सभी दुकान अवैध हैं। सरकारी जमीन पर बनाए गये हैं। नाप जोख हो चुका है। अब सभी लोगों को नोटिस थमाया जाएगा। दुकान हटाने को कहा जाएगा। यदि लोग स्वेच्छा से नहीं हटते हैं तो उचित कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

Comments

  1. By Vinod Kumar

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *