शिक्षाकर्मियों ने दी बेमुद्दत हड़ताल की चेतावनी… बूढ़ा तालाब में भूख हड़ताल कर संविलयन की खामियों का किया विरोध

रायपुर।प्रदेश के हजारों शिक्षाकर्मी पांच जुलाई को भुख हडताल कर विरोध प्रदर्शन कर महामहिम राज्यपाल,मुख्यमंत्री व आला सचिव के नाम पर ग्यापन भी सौपा गया।धरना स्थल पर 10 शिक्षाकर्मियों ने मुंडन करा कर विरोध किया।आगे 15 दिनों में मांगें पूरी नही हुई तो महाबैठक बुलाकर आनिश्चितकालिन आंदोलन करने बाध्य होंगे।शिक्षक पंचायत न.नि.मोर्चा के बैनर तले प्रदेश भर से 10 हजार शिक्षाकर्मियों ने शामिल होकर राज्य सरकार की दोयम दर्जे की नीति का विरोध कर ,वंचित वर्ग के शिक्षाकर्मियों ने आक्रोश दिखाते हुएं बड़ी तदाद में राजधानी रायपुर के बुढ़ातालाब धरना स्थल में डटे रहे।तथा बड़ी संख्या में.भूख हडताल में रहे।

वही प्रांतीय संचालक चंद्रदेव राय,विकास राजपुत,गंगापासी,उमा जाटव,हेमंत वर्मा,अशोक शर्मा,हरिशंकर जायसवाल, सहित 51शिक्षाकर्मी ने भुखहडताल में रहे।तथा 10शिक्षाकर्मियों ने अपना.शिर मुंडन करा कर विरोध दर्ज कराया।

इस दौरान प्रांतीय संचालक चंद्रदेव राय ने कहा की मान.मुख्य मंत्री ने राष्ट्रीय अध्यक्ष के समक्ष 1.80हजार शिक्षाकर्मियों का संविलियन की घोषणा कर,अधुरे घोषणा कर ,वर्ष बंधन कर छल व अन्याय किया है तथा राष्ट्रीय अध्यक्ष का भी अपमान किया है। छत्तीसगढ़ में फुट डालों राज करों की नीति से भेदभाव कर फुट डाल कर धोखा दिया है।

गौरतलब यह है की 2003,2008,व 2013 की चुनावी घोषणा में शतप्रतिशत संलिवियन की घोषणा कर ,वर्ग वाद कर लड़ाने की चाल चली है। वही हाई पावर कमेटी में वेतन विसंगति दूर करने,वर्ग 03 को समानुपातिक वेतन मान का लाभ,1जनवरी 2016से सातवें वेतनमान व एरियर्स की भुगतान,लंबित अनुकम्पा नियुक्ति सहित मांगों के लिए बनाई गई रिपोर्ट को भी बंद लिफाफा में डाल दिया गया।

मांगों को लेकर महामहिम राज्यपाल महोदय जी,मुख्य मंत्री,शिक्षा मंत्री,पंचायत मंत्री,मुख्य सचिव सहित आला सचिव के नाम  ग्यापन सौपा गया।वही श्री राय ने कहा की यदि 15 दिवस के भीतर मांगें पूरी नही की गई तो निश्चत ही आगे अनिश्चत कालिन आंदोलन करने बाध्य होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *