जोगी ने कहा किसान के परिवार को दें नौकरी…मुआवजा के साथ..बेटियों की सरकार उठाए जिम्मा

रायपुर–मरवाही विधायक अमित जोगी ने मरवाही विकाखण्ड के पिपरिया निवासी किसान सुरेश सिंह पिता निरंजन मराबी की आत्महत्या मामले में सचिव को पत्र लिखा है। अमित जोगी ने मुख्य सचिव को माध्यम से मृतक परिवार के लिए मुआवजा के साथ नौकरी की मांंग की है। जोगी ने पत्र में बताया है कि सुरेश सिंह मरावी ने अपने ससुराल कुदरी में 7 जून 2018 को फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। मुख्य सचिव को लिखे पत्र में अमित जोगी ने कहा है कि किसान पर आदिम जाति सेवा सहकारी समिति मर्यादित लरकेनी का 1 लाख 50 हजार 606 रुपये  कर्ज था। जिसे लेकर बैंक अधिकारी किसान को लगातार मानसिक रूप से प्रताड़ित कर रहे थे।

                   जोगी ने कहा कि सरकार एक तरफ विकास यात्रा निकालकर खुशहाल किसान खुशहाल छत्तीसगढ़ का दावा कर रही है। दूसरी तरफ अकालग्रस्त क्षेत्र में कर्ज से  डूबे किसानों को सहकारी बैंक के माध्यम से नोटिस दिलवाकर मानसिक रूप से प्रताड़ित किया जा रहा है। यही कारण है कि प्रताड़ना से तंग आकर पिपरिया निवासी किसान सुरेश सिंह मराबी ने अपने ससुराल कुदरी में 7 जून 2018 को फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है।

                    जोगी ने पत्र में लिखा है कि मृतक किसान के आश्रित उसकी पत्नी चार बेटियां और वृद्ध मां है। सरकारी प्रताड़ना के कारण इन आश्रितों का पालन पोषण करने वाला एक मात्र सहारा छिन गया है। जोगी ने बताया कि पिछले 4 सालों से मरवाही क्षेत्र लगातार अल्प वर्षा और सूखे की मार झेल रहा है। जिसके कारण क्षेत्र के किसानों के खेतों में फसल की उपज अत्यधिक प्रभावित होती चली गई है। क्षेत्र के किसान आदिम जाति सेवा सहकारी समितियों का खाद.बीज का कर्जा नहीं पटा पा रहे हैं। बावजूद इसके सूखा प्रभावित किसानों को नोटिस देकर मानसिक रूप से प्रताड़ित किया जा रहा है इसी प्रताड़ना से तंग आकर सुरेश सिंह ने आत्महत्या की है।

                   अमित जोगी ने शासन कि नीतियों पर सवाल उठाते हुए कहा कि सूखा प्रभावित क्षेत्र में शासन को पीड़ित किसानों का संरक्षक बनकर उचित मुआवजा राशि देनी चाहिए। लागत एवं होने वाले संभावित फसल की नुकसान का सही आंकलन कर उचित बीमा राशि देनी चाहिए। किसानों का कर्ज माफ करना चाहिए। लेकिन शासन ने इसके विपरीत किसानों का शोषण शुरू कर दिया है। ऐसा कर किसानों को आत्महत्या के लिए मजबूर किया जा रहा है।

                  अमित जोगी ने मुख्य सचिव से मांग करी कि सूखा प्रभावित मरवाही क्षेत्र में कर्ज में डूबे किसान सुरेश सिंह मराबी को वसूली का नोटिस भेजकर उसे मानसिक रूप से प्रताड़ित कर आत्महत्या के लिए मजबूर करने वालों के खिलाफ कठोर कार्यवाही की जाए। मृतक किसान के आश्रितों को 25 लाख रुपए की मुआवजा राशि,  एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने के अलावा मृतक की चारों लड़कियों की पढ़ाई शादी की जिम्मेदारी शासन उठाए।

स्वच्छ रेल स्वच्छ भारत के तहत स्वच्छता हेतु स्टेशनों में विशेष स्वच्छता अभियान मंडल के विभिन्न स्टेशनों में चलाई जा रही है

बिलासपुर:- 08 जून 2018
भारतीय रेल के समस्त स्टेशनों की समग्र साफ़ सफाई के लिए रेलवे बोर्ड द्वारा दिनांक 25 मई से 24 जून 2018 तक एक माह का ‘स्वच्छ रेल-स्वच्छ भारत’ विशेष स्वच्छता अभियान चलाई जा रही है। इस विशेष स्वच्छता अभियान के माध्यम से बिलासपुर मंडल के सभी स्टेशनों, स्टेशनों के परिसरों, प्लेटफार्मों एवं स्टेशन पर स्थित समस्त कार्यालयों की समूचित साफ सफाई के साथ ही ट्रेनों पर भी विशेष स्वच्छता अभियान चलाई जा रही है। सभी स्टेशनों पर एनाउंसमेन्ट सिस्टम के माध्यम से स्वच्छता जिंगल चलाए जा रहे हंै तथा स्टेशन परिसरों, टेªनों को स्वच्छ रखने का अनुरोध भी किया जा रहा है।
इस अभियान के तहत आज दिनांक 08 जून 2018 को मंडल के चांपा, शहडोल एवं रायगढ स्टेशनों में ‘सर्वत्र स्वच्छता‘ के तहत विशेष स्वच्छता अभियान चलाया गया। इस दौरान स्टेशन परिसर, प्लेटफार्म एवं सरकुलेटिंग क्षेत्र तथा आमतौर पर ज्यादा गंदगी होने वाले स्थानों को चिन्हांकित कर वृहद सफाई का कार्य किया गया। इस कार्य में सफाई कर्मचारियों के अलावा रेलवे के अधिकारी एवं कर्मचारी भी श्रमदान कर सहयोग कर रहे हैं। स्वच्छता को जन-जन तक पहुॅचाने की दिशा में पहल के तहत यात्रियों के साथ ही साथ संवाद स्थापित करते हुए उन्हें स्वच्छता को अपनाने एवं अन्य लोगों को भी स्वच्छता हेतु प्रेरित करने का आग्रह भी किया गया।
इसके अलावा सभी प्रमुख रेलवे स्टेशनों में यात्री उद्बोधन प्रणाली एवं सीसीटीवी के माध्यम से स्वच्छता संदेशों को प्रसाारित कर व्यापक प्रचार-प्रसार किया जा रहा है।
इस अभियान को सफल बनाने अधिकारियों द्वारा इसकी माॅनिटरिंग भी की जा रही है। इसी संदर्भ में दिनांक 06 जून को मंडल रेल प्रबंधक श्री आर.राजगोपाल ने अनूपपुर स्टेशन का दौरा कर स्वच्छता निरीक्षण किया। उन्होने यात्री प्रतिक्षालय, शौचालय, टेप नल, वाटर कूलर, स्टेशन एवं स्टेशन परिसर तथा ज्यादा गंदा होने वाले स्थानों में स्वच्छता का जायजा लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *