निगम नेता प्रतिपक्ष का मेयर पर हमला…शेख नजरूद्दीन का सवाल..बताएं कर्मचारी किसके लिए ढूंढ रहे सरकारी जमीन

बिलासपुर—कांग्रेस की “अरपा बचाओ पद यात्रा पर महापौर किशोर राय के बयान पर निगम नेता प्रतिपक्ष शेख नजीरुद्दीन ने हमला किया है। नजरूद्दीन ने कहा कि पिछले दो चुनाव  टेम्स के नाम पर ही लड़ा गया है। इन दस सालों में अरपा को विकसित करने की बात तो दूर आज तक एक ईंट भी नहीं रखा गया है। ऐसे में सवाल उठता है कि आखिर महापौर और मंत्री अरपा को कब और कैसे जलमग्न करेंगे।

                    कांग्रेस के अरपा बचाओं पदयात्रा एलान के बाद एक बाद फिर कांग्रेसी और भाजपाई आमने सामने आ गये हैं। महापौर ने बयान दिया है कि कांग्रेसियों को जनता अच्छी तरह से जानती है। पदयात्रा से नहीं बल्कि सरकार के प्रयास से अरपा जलमग्न होगी। अरपा का विकास टेम्स नदीं की तर्ज पर किया जाएगा। अरपा तट को हरा भरा भी किया जाएगा।

               महापौर के बयान पर निगम नेता प्रतिपक्ष शेखनजरूद्दीन ने हमला बोला है। मेयर से सवाल किया है कि बताएं अरपा कब जलमग्न होगी। तट पर हरियाली कब आएगी। प्रोजेक्ट से 29 गांवों को आजादी कब मिलेगी। शेख नजरूद्दीन ने बताया कि महापौर को भी मालूम है कि अरपा को टेम्स बनाने का वादा कर विधानसभा के दो चुनाव हो चुके हैं। लेकिन अरपा नदी में एक ईंट तक नही रखा गया ।

                    नजरूद्दीन ने बताया कि अरपा प्रोजेक्ट से आज 29 गांव के निवासियों के लिए गले का फंदा बन गया है । प्रभावितों की जिंदगी ठहर सी गई है। सामाजिक कार्य,शिक्षा,स्वास्थ्य,जैसे मूलभूत जरूरत के लिए गरीब ,किसान असहाय और बेबस हैं।

                         शहर और आसपास की जनता जानती है कि सबसे बड़ा भूमाफिया कौन है ? किसके लिये सरकारी अमला जमीन ढूंढती है ? इस कार्य मे कितने पटवारी,आर आई,जमीन दलाल शामिल हैं। नजरूद्दीन ने कहा कि दुर्भाग्यजनक है कि महापौर 50 हजार भूस्वामियो को ही भूमाफिया समझ रहे हैं।  जबकि उनके लोग 10 सालों क्षेत्रों की जमीन को औने-पौने भाव मे खरीदने का काम कर रहे हैं। जमीनों की खरीदी बिक्री पर जानबूझकर पाबन्दी लगायी गयी है। ताकि जनता परेशान होकर जमीन बेच दे।

                    शेख नजरूद्दीन ने कहा कि महापौर को विशेष ध्यान देने की जरूरत है कि शहर का टाउन प्लांनिग को लागू करने में देरी क्यो हुई ?महापौर को ये भी बताना होगा कि सँकरी से सरगांव तक सबसे अधिक जमीन किसकी है ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *