…जब युवाओं ने कहा..ऐसा करने से मिलती है अपार खुशी…तृप्त चेहरा देख बढ़ गया उत्साह…बुजुर्गों से भी मिला प्यार

बिलासपुर–मंगलवार को हनुमान मंदिर के सामने गरीबों के बीच वेस्ट फूड मैनेजमेंट की टीम ने खाना का वितरण किया। तेज धूप के बाद भी गरीबों के बीच टीम के सदस्यों ने जमकर पसीना बहाया। गरीबों से आशीर्वाद भी लिया। साथ मंदिर में पहुंच पूजा पाठ के बाद ईश्वर से गरीबों के लिए रोटी कपड़ा और मकान के लिए मत्था भी टेका।

            रक्तदान,नेत्र दान ना जाने कितने दान..लेकिन अन्न दान को इन तमाम दानों के बीच अहम स्थान हासिल है। भूखों को खाना खिलाना विभिन्न धर्म ग्रन्थों में सबसे बड़ा परमार्थ बताया गया है। परमार्थ के रास्ते पर चलने का वेस्ट मैनेजमेन्ट की टीम ने बीड़ा उठाया है। प्रत्येक दिन किसी मंदिर मदरसा,गुरूद्वारा और चौक चौराहों पर पहुंचकर गरीब लोगों के बीच खाना का वितरण करते हैं। इसके बाद अन्य जरूरत मंदों की सेवा के लिए दरिद्रनारायण से आशीर्वाद भी लेते हैं।

                   मजेदार बात है कि टीम में कमोबेश सभी धर्म सम्प्रदाय के लोग शामिल हैं। पंथ और धर्म अलग अलग होने के बावजूद टीम के सभी सदस्यों का सबसे बड़ा मजहब दरिद्रनारायण और जरूरतमंदों की सेवा करना है। बिना मीडिया में आए टीम का अभियान बदस्तूर महीनों से जारी है। टीम के सदस्यों ने बताया कि इसमें हमारे माता पिता और साथियों के साथ गुरूओं का आशिर्वाद भी शामिल है।

                 टीम के सदस्य सौहैल खान ने बताया कि सभी धर्मों में मानव धर्म सबसे ऊपर है। हम उस धर्म को निभाने का छोटा सा प्रयास कर रहे हैं। ताज्जुक की बात है कि मानव धर्म की बात करने वाले टीम के किसी भी सदस्य की उम्र 25 के पार नहीं है। लेकिन उनके जज्बे और सेवाभाव से बड़े बड़े लोगों को सीख मिल रही है।

                         टीम के सदस्य तुषार अग्रवाल,अनिकेत तिवारी,हृतिक अग्रवाल रोहित,अमन गोयल,श्लोक अग्रवाल और मनीष गोयल समेत अन्य साथियों ने बताया कि लोगों को तृप्त होते देख बहुत खुशी होती है। खाने का सामान गरीब और दिव्यांगो के बीच बांटने से दिल में आनन्द की ऐसी हिलोरें उठती है जिसे बयान करना हमारे लिए नामुमकिन है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *