राहुल गांधी के साथ खुली बात-नॉनस्टाप झूठ बोलते हैं PM मोदी..विपक्ष अब एकजुट..BJP को हराना आसान

बिलासपुर।छत्तीसगढ के दो दिन के दौरे पर आए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने शुक्रवार की सुबह बहतराई स्टेडियम के कार्यक्रम के लिए निकलने से पहले बिलासपुर के संपादकों के साथ खुली बातचीत की। छत्तीसगढ़ भवन में करीब पौन घंटे की बातचीत में उन्होने राष्ट्रीय मुद्दों के साथ छत्सीसगढ़ की राजनीति को लेकर भी खुलकर अपनी बातें रखी ।. उन्होने देश की राजनीति में कांग्रेस – बीजेपी के बीच के फर्क पर तफसील से बताया …. पूरे विश्वास के साथ छत्तीसगढ़ में काग्रेस की सरकार बनाने का दावा किया और अजीत जोगी को लेकर उठे सवालों के जवाब दिए ।

Read More- राहुल गाँधी देखेंगे…? छत्तीसगढ़ में ”बदलाव” के लिए खुद कितना “बदल” रही कांग्रेस…

राहुल गाँधी से इस सवाल के साथ बतचीत शुरू हुई ….छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री कहते हैं कि राहुल गाँधी छत्तीसगढ़ में विकास देखने आ रहे हैं…..?  जवाब में राहुल गाँधी ने कहा यही तो बीजेपी और कांग्रेस की फिलासफी में फर्क है। राहुल ने  स्वीकार किया कि सीखना कोई बुरी बात नहीं है….और निश्चित रूप से हर एक जगह कुछ-न-कुछ सीखते हैं। लेकिन उन्होने यह भी कहा कि आरएसएस और बीजेपी के लोग मानते हैं कि पूरा ज्ञान उनके पास ही है और वे सब कुछ जानते हैं। जबकि कांग्रेस की सोच है कि जनता ही सबकुछ जानती है …. और हम जनता से ही रोज कुछ ना कुछ सीखते हैं..।हम मजदूर, किसान, डॉक्टर – जिसके बीच भी जाते हैं, कुछ सीखते हैं। सभी जगह की स्थिति अलग-अलग है और सभी जगह कुछ न कुछ सीखने को है।

Read More-जब जोगी ने किया मंच से एलान-पेण्ड्रा को बनाएंगे जिला,जीते जी कोई नहीं रोक सकता रेल कॉरिडोर

लेकिन देश के प्रधानमंत्री नॉनस्टाप झूठ बोलते हैं…। हर कोई जानता है कि 15 लाख रुपए हर एक के खाते में जमा करने की बात हो…। 2 करोड़ युवाओँ को रोजगार देने की बात हो…. किसानों की बात हो…. स्मार्ट सिटी की बात हो…. या बुलेट ट्रेन चलाने की बात हो ,, उन्होने अपना कौन सा वादा पूरा किया है। छत्तीसगढ़ में कांग्रेस नेताओँ के बीच आपसी खींचतान और झगड़े का सवाल आय़ा तो राहुल गाँधी बोले कि – ऐसी कोई बात नहीं है..।पहले गुजरात और फिर कर्नाटक में भी यही बात कही गई थी। पहले यह प्राब्लम माना जाता था । लेकिन  छत्तसीगढ़ सहित सभी राज्यों में कांग्रेस के लोग एक साथ मिलकर काम कर रहे हैं। जब पूछा गया कि क्या बीजेपी के मिशन 65 की तरह कांग्रेस ने भी छत्तीसगढ़ में की टार्गेट रखा है…?  इस पर राहुल बोले कि यह कोई आर्मी ऑपरेशन नहीं है…. हम जनता की बात … जनता की आवाज को आगे लाना चाहते हैं…। उन्होने पूरा विश्वास व्यक्त किया कि छत्तसीगढ़ में कांग्रेस की सरकार बनेगी।

अजीत जोगी से जुड़े सवाल पर राहुल गाँधी ने कहा कि …. मैं ऐसा नहीं मानता कि छत्तीसगढ़ में कांग्रेस टूटी है। कांग्रेस का टूटना बहुत बड़ी बात है। यहां तो अजीत जोगी कांग्रेस छोड़कर चले गए हैं। जैसे बाघेला गुजरात में कांग्रेस छोड़कर गए थे। उसी तरह से ठीक लड़ाई के समय अजीत जोगी ने कांग्रेस का साथ छोड़ा है। हम इस बात को कैसे भूल सकते हैं। हम कांग्रेस को बना रहे हैं। कांग्रेस को ऐसे लोगों की जरूरत है , जो कांग्रेस के लिए लड़ें। कांग्रेस को अवसरवादी नेता नहीं चाहिए। यह कहकर उन्होने साफ संकेत दिया कि अब कांग्रेस में अजीत जोगी की वापसी नामुमकिन है कि छत्तीसगढ़ में हमारी पार्टी के भूपेश बघेल, डॉ.चरण दास महंत.टीएस सिंहदेव जैसे कर्मठ नेताओँ की मदद हमे करना है।

राहुल गाँधी मानते हैं कि अगर हिंदुस्तान में विपक्ष एकजुट हो गया तो बीजेपी कहीं नहीं रहेगी। अंग्रेज भी  सोचते थे कि हिंदुस्तान में उनके खिलाफ कोई रजिस्टेंस नहीं है। लेकिन ऐसी बात नहीं है। यहां कोई पार्टी अगर 500 सीटें भी ले आए तो उसके खिलाफ भी रजिस्टेंस होगा । क्योंकि 30- 40 फीसदी से अधिक वोट से अधिक किसी को नहीं मिल सकता। बीजेपी के नेता सोचते हैं कि दुनिया में कोई उन्हे हरा नहीं सकता। उनका यही एटीट्यूट उन्हे हराएगा।नरेन्द्र मोदी और अमित शाह की एरोगेंसी ही उन्हे हराएगी । पावर ने उन्हे अँधा बना दिया है। यदि वे लोगों को साथ लेकर चलते तो कोई उन्हे हरा नहीं सकता था।

लेकिन तमिल पार्टियां और चंन्द्रबाबू नायडू ने जिस तरह से उनका साथ छोड़ा है, उससे उन्हे हराना अब कठिन नहीं है। सबके साथ लेकर चलने के लिए ह्युमिनिटि की जरूरत होती है। करेक्टर की जरूरत होती है। देश  में विपक्ष अब एक  हो गया है। इसकी डिजाइन तैयार हो गई है। बीजेपी को हराने के लिए कृष्ण पैदा हो गया है। कृष्ण कारागार में पैदा हुए थे। आज देश में हम सब लोग खुली जेल में दिन बिता रहे हैं।

राहुल गाँधी ने कहा कि इस देश में अलग-अलग विचारधारा के लोग रहते हैं। ऐसे में यह  कैसे हो सकता है कि कोई सोच अगर किसी को पसंद आती है और मुझे अगर पसंद नहीं आती हो तो उसे खतम कर दिया जाए। यह तो फिर इँपीरिलियस्टिक सोच हो जाएगी। यह आरएसएस का आईडिया है कि जो हमारे खिलाफ सोच रखता है, उसे खतम कर देंगे। यह देश को धोखा देने वाली बात है। देश की विचारधारा बड़ी है और सबकी अपनी -अपनी विचारधाराएं उससे छोटी हैं । उन्हे यह बात समझ में नहीं आती कि इस तरह एक विचारधारा को सभी पर थोपने की कोशिश हुई तो देश टूट सकता है।

बीजेपी और आरएसएस के लोग देश के नेचर को तोड़ने का काम कर रहे हैं। ये लोग सारे संस्थानों में अपने लोग डाल रहे हैं। इनकी सोच यही है कि देश के लोगों से पीछे की-भूत  (past) की बात कर रहे हैं। लेकिन कांग्रेस, हमेशा भविष्य की बात करती है। काग्रंस के डीएनए में यह बात है कि हम रिस्पेक्ट के साथ काम करते हैं। बीजेपी और आरएसएस यह झूठ हिंदुस्तान के लोगों के दिमाग में डाल रहे हैं कि सब पीछे पलकर देखते रहें। नौजवानों को आगे ले जाने की बजाय उन्हे पीछे का रास्ता दिखाया जा रहा है। जबकि दुनिया बदल रही है। पहले दुनिया में अमरीका और यूरोप राज करते थे। लेकिन अब ढांचा टूट गया है ।   एक तरफ  हिंदुस्तान और दूसरी तरफ  चीन है। हमें दुनिया को यह बताना पड़ेगा कि हम लोकतांत्रिक देश हैं और बेहतर कर सकते हैं। लेकिन तीन-चार सौ साल बाद  हमें जो दुनिया के स्तर पर अवसर मिला है , हम उसे खो रहे हैं और   चीन घुसते जा रहा है।

बीजेपी और कांग्रेस के बीच के फर्क का जिक्र करते हुए राहुल गाँधी  ने कहा कि दोनों ही पार्टियों का नेचर अलग है। कांग्रेस जनता का एक्सप्रेशन है। जनता के भीतर की फीलिंग है। कांग्रेस कोई आर्गेनाइज संगठन नहीं है। मैं पहले सोचता था कि कांग्रेस के स्ट्रक्चर को बीजेपी जैसे करना चाहिए। लेकिन बीजेपी की जीत के बाद लगा कि यदि कांग्रेस आर्गेनाइज संगठन बना तो यह भी आरएसएस बन जाएगा। कांग्रेस में डिसेन्ट्रलाइज सिस्टम है। जिसमें कोई भी आ सकता है। कांग्रेस में जो भी आता है, पार्टी उससे सीखती है। यह लर्निंग संगठन है।कांग्रेस तो शिवजी की बारात की तरह है। जिसमें सभी समाहित होते हैं।  जबकि बीजेपी आरएसएस केवल अपनी बात बताते हैं….. लाउडस्पीकर की तरह काम करते हैं। इस वजह से देश में आज समस्याएं बढ़ रही हैं। गांवों से बड़ी तादात में लोग शहर आ रहे हैं। लेकिन उनके लिए रोजगार, स्वास्थ , शिक्षा आदि की कोई व्यवस्थआ नहीं है। जिससे लोगों में तड़प बढ़ रही है। अगर नरेन्द्र मोदी सचमुच देश की समस्याओँ का समाधान चाहते हैं तो उन्हे सभी को साथ लेकर काम करना चाहिए। लेकिन वे जोड़ने की नहीं- तोड़ने की बात कर रहे हैं। बीजेपी देश के लोगों को 6 माह का सपना दिखाकर उनसे 30 साल माँग रही है। वह हिंदुत्व शब्द का दुरूपयोग कर रही है। वह हिंदुत्व को प्रमोट नहीं कर रही है। किसी भी किताब में पढ़ लीजिए – जो व्यक्ति अपमान करने वाले को भी बदले में प्यार दे ….. वह हिंदु है ……. और मैं इसी हिंदुत्व की रक्षा कर रहा हूँ…..।

संपादकों से साथ राहुल गाँधी की बातचीत के दौरानअखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव -छत्तीसगढ़ प्रभारी पी.एल.पुनिया, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष – भूपेश बघेल ,पूर्व केन्द्रीय मंत्री -डॉ. चरण दास महंत और छत्तसीगढ़ विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष – टी.एस.सिंहदेव भी मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *