जोगी ने कहा कांग्रेस,भाजपा एक थाली के चट्टे बट्टे..दागा सवाल…पाटन,जशपुर,राजनांदगाव से राहुल को परहेज क्यों..?

बिलासपुर– राहुल और जोगी के कार्यक्रम के ठीक एक दिन पहले अमित जोगी ने कांग्रेस पर फिर निशाना साधा है। अमित ने कांग्रेस राष्ट्रीय अध्यक्ष के दौरे को चुटकी लेेते हुए कहा कि राहुल गाँधी का छत्तीसगढ़ में स्वागत है। लेकिन बताना चाहुंगा कि 11 फरवरी 2018 को जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ जे ने 4000 गाड़ियों के साथ रायपुर से राजनांदगांव तक चुनौती यात्रा निकाली थी। इस दौरान पूर्व मुख्यमंत्री ने ऐलान किया था कि आगामी चुनाव में मुख्य मुकाबला मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह और अजीत जोगी के बीच में होगा।

                       राहुल के कार्यक्रम पर कटाक्ष करते हुए अमित ने कहा कि राहुल गाँधी दुर्ग से रायपुर तक रोड शो करेंगे। मात्र 8 किलोमीटर दूर मुख्यमंत्री के गृहक्षेत्र राजनांदगांव जाने से बचेंगे। सीतापुर में आमसभा करेंगे लेकिन 8 किलोमीटर आगे जशपुर में जूदेव परिवार, राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग अध्यक्ष, और केंद्रीय मंत्री के गढ़ में जाने से बचेंगे। ऐसा लगता है कि राहुल गांधी डॉ रमन सिंह, विष्णु देव साय और जूदेव परिवार के दरवाजे पर केवल माथा टेकने आ रहे हैं।

                                अमित जोगी ने प्रेस नोट जारी कर बताया कि राहुल गाँधी केवल जोगी के घर में घुसकर चुनौती देना जानते हैं। लेकिन यह काम भी कांग्रेसी अकेले  दम  पर नहीं कर पा रहे हैं। जोगी के गृह क्षेत्र में आमसभा करने के लिए गोंड़वाना गणतंत्र पार्टी और एकता परिषद का सहारा लिया जा रहा है। कांग्रेस नेताओं ने पार्टी कार्यकर्ताओं से 32 विधानसभा क्षेत्रों से भीड़ लाने को कहा है।  कुछ भीड़ तो 400 किलोमीटर दूर से लायी जा रही है। इसके लिए करोड़ों रूपए पानी की तरह बहाया जा रहा है। गाँधी ने बिहार और उत्तर प्रदेश के नेताओं को मरवाही में डेरा डालने को कहा है। इतना सब कुछ करने के बाद भी गाँधी की सभा का डोम मात्र 18,400 वर्ग फ़ीट का है। ऐसा डोम तो ब्लॉक स्तर की मीटिंग के लिए होता है।

                       अमित जोगी ने कहा कि कांग्रेस पार्टी की चुनौती  स्वीकार है। जिस समय कांग्रेस राष्ट्रीय अध्यक्ष कोटमी में होंगे, ठीक उसी समय अजीत जोगी अकेले दम पर पेंड्रा में आमसभा को संबोधित करेंगे। जोगी की आमसभा में कांग्रेस की आमसभा से 10 गुना बड़ी होगी। 29 अप्रैल को साइंस कॉलेज रायपुर में हुई महारैली के बाद एक बार फिर पूरा देश देखेगा की छत्तीसगढ़ की जनता किसके साथ है।

                         अमित जोगी ने बताया कि यदि कांग्रेसियों को दिवासी अधिकारों की इतनी चिंता है तो राहुल गांधी को जशपुर जरूर जाना चाहिए। उन्हें पत्थलगड़ी आन्दोलन की भी जानकारी हो जाएगी। उन्हें मालूम हो जाएगा कि सत्तापक्ष को संवैधानिक अधिकारों की याद दिलाने आदिवासियों को पत्थर गाड़ने को क्यों मजबूर होना पड़ा। उन्हें यह भी पता चल जाएगा कि छत्तीसगढ़ सरकार आदिवासियों की पुश्तैनी जमीनों पर खनन का ठेका कांग्रेस पार्टी के पूर्व सांसद नवीन जिंदल को चुपचाप देने का फैसला किया है।

                      जोगी ने सवाल दागते हुए कहा कि राहुल गाँधी को घाटबर्रा भी जाना चाहिए। जबकि वहां के विधायक नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव हैं।  जिन्होंने कोयला खनन ट्रांसपोर्टिंग के लालच में भाजपा सरकार को 900 वन अधिकार पट्टे गैरकानूनी तरीके से निरस्त करने को कहा है ।  गाँधी को पाटन भी जाना चाहिए जहां प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के पिता को  दुर्ग जिला न्यायालय ने आदिवासियों की 20 एकड़ जमीन हड़पने का दोषी पाया है। जोगी ने कहा कि जिंदल, बघेल और सिंहदेव के प्रकरणों से जाहिर हो गया है कि आदिवासियों की धन संपदा लूटने के मामले में कांग्रेस और भाजपा एक ही थाली के चट्टे बट्टे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *