पहले याद नहीं आया कब्रिस्तान..?…कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा..राहुल के दौरे से डर गयी A और B टीम..आदिवासी समाज समझ गया खेल

बिलासपुर– प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता शैलेष पाण्डेय ने कर्नाटक परिणाम के बाद एक साथ जोगी कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी पर निशाना साधा है। कांग्रेस नेता ने कहा कि कर्नाटक परिणाम ने साबित कर दिया है कि अब भारतीय जनता पार्टी का काला जादू नहीं चलने वाला है। प्रदेश में कांग्रेस की जीत को कोई नहीं रोक सकता है। जोगी कांग्रेस पार्टी ने यद्यपि राहुल गांधी के दौरे को लेकर अनर्गल बयानबाजी की है। इससे उनके भय का अन्दाजा लगाया सकता है। जोगी कांग्रेस की बयानबाजी निश्चित रूप से भारतीय जनता पार्टी की रणनीति का हिस्सा है। यह बात जनता भी समझ चुकी है। यह जानकारी कोटमी से प्रेस नोट जारी कर शैलेश पाण्डेय ने पत्रकारों को दी है।

                                   कोटमी में राहुल गांधी दौरे की गतिविधियों की जानकारी देते हुए प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता शैलेश पाण्डेय ने बताया कि कर्नाटक परिणाम कांग्रेस के लिए बेशक उत्साहित करने वाला नहीं है। लेकिन राज्य में हर हालत में एनडीए सरकार बनेगी। कर्नाटक के परिणाम ने भारतीय जनता पार्टी की काला जादू को बेअसर कर दिया है। परिणाम से जाहिर हो गया कि भारतीय जनता पार्टी की झूठ अब छत्तीसगढ़ में नहीं चलने वाली है। पिछले पन्द्रह सालों से प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की सरकार है। प्रदेश की जनता में भयंकर आक्रोश है। इस बार प्रदेश सरकार को छत्तीसगढ़ की जनता हटाकर कांग्रेस के हाथ में सौपने की तैयारी कर ली है।

                    प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता ने बताया कि कोटमी में राहुल गांधी की वनवासी सत्याग्रह को लेकर मरवाही विधानसभा में काफी उत्साह है। लोग राहुल गांधी की सभा में शामिल होने के लिए आतुर हैं। पाण्डेय ने बताया कि कोटमी में सभा स्थल को लेकर किसी प्रकार का विवाद नहीं है। जोगी कांग्रेस पार्टी नेताओं ने A टीम के इशारे पर कब्रिस्तान मुद्दे को हवा दी है। जबकि जनता में इस बात को लेकर कोई मुद्दा ही नहीं है।

                                पाण्डेय ने बताया कि राहुल गांधी राष्ट्रीय नेता हैं। देश की जनता उन्हें प्यार करती है। मरवाही की जनता भी उन्हें अपने बीच देखना चाहती है। कांग्रेस प्रवक्ता के अनुसार A और B  टीम ने सोची समझी रणनीति के तहत राहुल गांधी की कोटमी आमसभा को विवाद में घसीटने का प्रयास किया है। जबकि मैदान को लेकर कभी भी किसी प्रकार का विवाद था ही नहीं। हकीकत तो यह है कि विभिन्न धर्म सम्प्रदाय के लोगों ने मामले को बेवजह तूल देने वाला बताया है।

                  पाण्डेय के अनुसार स्थानीय लोगों के अलावा प्रबुद्ध जनों ने बताया कि राहुल गांधी के पहले आधा दर्जन से अधिक बड़े नेताओं की सभा कोटमी में हो चुकी है। अविभाज्य मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री और मंत्रियों के अलावा छत्तीसगढ  के मुख्यमंत्रियों ने कोटमी में आमसभा को संबोधित किया है। खुद वर्तमान और पूर्व मुख्यमंत्री ने कोटमी में यदा कदा विशाल सभा में जनता से संवाद किया है। पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने मुख्यमंत्री बनने के बाद कोटमी में सीएम पद का शपथ भी लिया था। उस दौारन भी कोटमी में कब्रिस्तान का मैदान था। तब किसी को कब्रिस्तान का मुद्दा याद नहीं आया।

                                   वर्तमान मुख्यमंत्री ने भी कोटमी में आमसभा को संबोधित किया है। उस समय कब्रिस्तान का जिक्र नहीं हुआ। जब राहुल गांधी कोटमी में आदिवासी और वनवासी समाज समेत किसानों की विशाल सभा को  संबोधित करने वाले है तो पूर्व मुख्यमंत्री को कोटमी का कब्रिस्तान याद आ गया। इससे जाहिर होता है कि भाजपा और जोगी कांग्रेस नेता राहुल गांधी से भय में हैं।  दोनों यानि A और B टीम मिलकर लोगों में उन्माद फैलाने का प्रयास किया है। जब जनता ने साथ नहीं दिया तो लिखकर कहना पड़ा कि हमने कभी कब्रिस्तान को लेकर आमसभा का विरोध नहीं किया है।

                शैलेश पाण्डेय के अनुसा्र विधानसबा चुनाव में भूपेश बघेल और टीएस सिंहेदव की मेहनत रंग लाएगी। कोटमी आमसभा के बाद प्रदेश के कोने कोने तक राहुल गांधी का संदेश पहुंचाया जाएगा। आमसभा के साथ भारतीय जनता पार्टी सरकार की उल्टी गिनती भी शुरू हो जाएगी। B टीम को भी अपने अस्तित्व का अहसास हो जाएगा। क्योंकि बहुत दिनों तक कोई भी व्यक्ति अपना कंधा नहीं दे सकता है।

                    कांग्रेस नेता के अनुसार आदिवासी समाज को अहसास हो चुका है कि एक तरह जहां A टीम ने पन्द्रह सालों से वोट बैंक बनाकर रखा। तो अब A के इशारे पर B टीम ने भावनाओं से खिलवाड़ किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *