कर्नाटक चुनाव नतीजेःसिद्धारमैया और येदियुरप्पा के अलावा ये तीन नाम भी है सीएम की रेस में

नईदिल्ली।कर्नाटक समेत पूरे देश की निगाहें आज आने वाले विधानसभा चुनाव नतीजों पर टिकी हुई है। ऐसे महज चंद घंटों के बाद यह साफ हो जाएगा कि कर्नाटक की जनता ने किसे अपने सिर पर बिठाया है और किसे खारिज कर दिया है।कर्नाटक विधानसभा चुनाव के मैदान में सत्ताधारी कांग्रेस के सीएम सिद्धारमैया और बीजेपी के उम्मीदवार बीएस येदियुरप्पा सीएम के प्रबल दावेदार है। ऐसे में त्रिशंकु विधानसभा होने की स्थिति में इन दोनों के अलावा 3 नाम और है जो सीएम की कतार में हैं।

आइए जानते हैं उन पांच उम्मीदवारों के नाम जो सीएम बनने की प्रबल दावेदारी रखते हैं-

1. बीजेपी के उम्मीदवार बीएस येदियुरप्पा

कर्नाटक में बीजेपी से वरिष्ठ नेता बीएस येदियुरप्पा बीजेपी के बहुमत पाने की हालात में सीएम के उम्मीदवार हैं। येदियुरप्पा को भी अपनी जीत का पूरा भरोसा है। इसी के चलते वे मतदान से कुछ समय पहले तक अपनी जीत को लेकर आश्वस्त नजर आ रहे थे। मतगणना से ठीक एक दिन पहले भी उन्होंने दावा किया कि वह जीत रहे हैं।

2. कांग्रेस के उम्मीदवार सिद्धारमैया

कर्नाटक विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की जीत पर सिद्धारमैया सीएम पद के सबसे प्रबल दावेदार हैं। कर्नाटक में कांग्रेस को पूर्ण बहुमत मिलने सिद्धारमैया का नाम राहुल गांधी और सोनिया गांधी के बाद कांग्रेस में तीसरे सबसे बड़े नेता के तौर पर उभरेगा। कर्नाटक में कांग्रेस को बहुमत मिलता है तो ये राहुल गांधी के पार्टी नेतृत्व पर भी एक तरह से मुहर लगने के समान होगा।

3. कांग्रेस के उम्मीदवार मल्लिकार्जुन खड़गे

मतगणना में अगर कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरती है, लेकिन बहुमत से दूर रहती है तो सिद्धारमैया के दोबारा सीएम बनने की संभावनाओं को करारा झटका लगेगा। जेडीएस सिद्धारमैया के नेतृत्व वाली कांग्रेस को समर्थन देने के लिए तैयार नहीं होगी। ऐसे में पार्टी में दलित चेहरे के रूप में सबसे मजबूती से मल्लिकार्जुन खड़गे और कर्नाटक प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष जी परमेश्वर का नाम सामने आता है।

4. जी परमेश्वर की भी है संभावनाएं

कर्नाटक प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष जी परमेश्वर दलित सीएम के रूप में खड़गे के बाद दूसरे नंबर के चेहरे हैं। 2013 में कांग्रेस को मिली विजय में जी परमेश्वर की अहम भूमिका रही थी. हालांकि, वे खुद अपनी सीट नहीं बचा सके और चुनाव हार गए। इसकी वजह से वे उस समय भी सीएम पद की दौड़ में पीछे रह गए थे लेकिन इस बार अगर दलित चेहरे की तलाश हुई तो वे इस बार भी दौड़ में मजबूती से बने हुए हैं।

5. कुमारस्वामी की भी संभावनाएं

जेडीएस के उम्मीदवार कुमारस्वामी के पास भी सीएम बनने की संभावनाएं हैं। ये संभावना इसलिए भी बलवती हो सकती हैं कि बीजेपी कांग्रेस मुक्त भारत अभियान के तहत कांग्रेस को सत्ता से बाहर रखना चाहेगी। अगर बीजेपी को समर्थन देने में जेडीएस संकोच करती है तो ऐसे में बीजेपी कुमारस्वामी को सीएम के तौर पर स्वीकर कर उन्हें अपना समर्थन देने की घोषणा कर सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *