जोगी कांग्रेस ने कहा-कांग्रेस की हालत “अब नाम बड़े दर्शन छोटे”

रायपुर।जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के प्रदेश प्रवक्ता सुब्रत डे ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के द्वारा कांग्रेस छोड़कर नई पार्टी गठन कर लेने के बाद कांग्रेस की स्थिति ‘‘नाम बड़े, दर्शन छोटे’’ जैसी हो गई है। कांग्रेस के मुख्यमंत्री पद के 13 दावेदार अब पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष  राहुल गांधी को गांव स्तर पर छोटे-छोटे सभाओं में ले जाकर कांग्रेस व राहुल गांधी जी की डूबती लुटिया को बचाने के लिये हाथ-पैर मार रहे हैं।जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के प्रदेश प्रवक्ता सुब्रत डे ने कहा कि अजीत जोगी की जनसभा हेतु पेण्ड्रा स्थित शारीरिक शिक्षा एवं प्रशिक्षण महाविद्यालय (फिजिकल कालेज) का मैदान 300 x 400 (1,20,000) स्क्वेयर फीट का है, जिसमें पूरे मैदान में कुर्सियां लगाकर मरवाही व कोटा विधानसभा से आये किसान, आदिवासियों का सम्मेलन आयोजित है।

वहीं कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के लिये कोटमी श्मशान घाट का मैदान 84 x 220 (18,220) स्क्वेयर फीट है, जिसमें डोम बनाकर कांग्रेस, अन्य दो पार्टीयों गोंडवाना गणतंत्र पार्टी व आदिवासी एकता परिषद की मदद लेकर यह सम्मेलन कर रही है। सुब्रत डे ने कहा कि जहां एक ओर जोगी कांग्रेस सिर्फ मरवाही व कोटा विधानसभा के ही किसान-आदिवासियों एवं कार्यकर्ताओं के लिये चार एकड़ में यह सम्मेलन आयोजित किये हैं वहीं कांग्रेस अपनी नाक बचाने के लिए पूरे प्रदेश की ताकत लगा रही है, साथ ही अन्य दो पार्टियों को भी इस कार्यक्रम में जोड़ा है ताकि उनकी भीड़ भी इन्हें मिल सके।

कांग्रेस ने छत्तीसगढ़ से सटे मध्यप्रदेश के अमरकंटक सहित अन्य जिलों को भी भीड़ लाने का टारगेट एक एकड़ के मैदान में 18,220 स्क्वेयर फीट का डोम भरने का दिया गया है। प्रदेश प्रवक्ता ने कांग्रेस को चुनौती देते हुये कहा कि वे दोनों मैदान व सभा स्थल का मीडिया की उपस्थिति में भौतिक सत्यापन करने तैयार हैं, यदि कांग्रेस का आंकड़ा इससे इतर हो। कांग्रेस के जनाधारविहीन मुख्यमंत्री पद के 13 दावेदार नेताओं ने मिलकर शेर की मांद में पैर डालने वाली कहावत को चरितार्थ कर पेण्ड्रा में सभा की घोषणा तो कर दी लेकिन अब उनकी स्थिति सांप छूछूंदर की तरह हो रही है।

इसलिए पहले एक एकड़ के मैदान में सभा स्थल बनाने वाली कांग्रेस को जब जमीनी हकीकत का अहसास कार्यक्रम के कुछ दिन पूर्व हो रहा है तो वो अब सभा स्थल को एक छोटे से डोम की शक्ल देकर किसी तरह कार्यक्रम को निपटाकर अपने राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी की इज्जत बचाने में लगी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *