निर्वाचन कार्य को गंभीरता से लें..कलेक्टर पी.दयानन्द ने दिया सुझाव..प्रशिक्षण से बनेगा बेहतर खेल वातावरण

 बिलासपुर—कलेक्टर पी दयानंद की अध्यक्षता में ग्रीष्मकालीन खेल प्रशिक्षण शिविर के आयोजन को लेकर बैठक हुई। इस दौरान कलेक्टर ने कहा कि खेल प्रशिक्षण शिविर से खिलाड़ी खेल विधाओं की बारीकियों से जागरूक होंगे। प्रशिक्षण शिविर खिलाड़ियों के खेल कौशल को निखारने में सहायक होंगे। शिविर से जिले में खेल का वातावरण बनेगा। नये खिलाड़ियों का रूझान खेल के प्रति बढ़ेगा।

                       मालूम हो कि ग्रीष्मकालीन खेल प्रशिक्षण शिविर का आयोजन 10 मई से 30 मई तक किया जाना है। कलेक्टर ने बैठक में निर्देश दिया कि प्रशिक्षण शिविर में सभी आवश्यक तैयारियों को समय से पहले पूरा किया जाए। शिविर में खिलाड़ियों को कोई भी परेशानी नहीं होनी चाहिये। उन्होंने स्पष्ट किया कि अत्यधिक गर्म मौसम को देखते हुए खिलाड़ियों को प्रशिक्षण के दौरान आवश्यक एनर्जी ड्रिंक उपलब्ध कराने की बेहतर व्यवस्था की जाए।

                        कलेक्टर ने मैदानों में खिलाड़ियों के लिये पर्याप्त पेयजल उपलब्ध कराने के निर्देश दिये। बैठक में खेल एवं युवा कल्याण विभाग के अधिकारियों ने जानकारी दी कि प्रशिक्षण शिविर में बॉक्सिंग, कबड्डी, बास्केटबाल, हॉकी, फुटबाल, वॉलीबाल, तीरंदाजी, तैराकी, कराटे, जूडो, सॉफ्टबॉल, खो-खो, हैण्डबॉल जैसे लोकप्रिय खेलों को शामिल किया जाएगा। जिलों से उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले खेलों को संभाग स्तर पर भाग लेने के अवसर प्राप्त होंगे। बैठक में अपर कलेक्टर बी एस उइके और विभिन्न खेल संघों के पदाधिकारी मौजूद थे।

निर्वाचन कार्य को गंभीरता से लें

कलेक्टर पी दयानंद की अध्यक्षता में मंथन सभागार में निर्वाचन कार्यशाला का आयोजन किया गया। निर्वाचन रजिस्ट्रीकरण अधिकारी और सहायक निर्वाचन रजिस्ट्रीकरण अधिकारियों को निर्वाचन से संबंधित जानकारी दी गई। कलेक्टर ने कहा कि चुनाव आयोग के नियमों का पूरी गंभीरता के साथ पालन करना है। चुनाव आयोग के निर्देशों के पालन करने में गलती की गुंजाईश नहीं रहती है। सभी रजिस्ट्रीकरण अधिकारियों को समय-समय पर बीएलओ की बैठक लेते रहना चाहिये। कलेक्टर ने कहा कि कुछ शिकायतें ऐसी मिली हैं एक ही परिवार के सदस्यों का नाम अलग-अलग मतदान केंद्रों में दर्ज हो गया है। यदि ऐसा है तो जांच कर त्रुटियों को सुधारा जाए। मतदाता सूची को लेकर जो भी आपत्तियां हैं उन्हें ठीक किया जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *