अभियंताओं की चार दिवसीय पाठशाला…कमिश्नर ने जल संरक्षण पर डाला प्रकाश..दयानन्द ने कहा अपलोड करें जानकारी

बिलासपुर—जलसंसाधन विभाग के खारंग परिसर की प्रार्थना सभाकक्ष में उप अभियंताओं, सहायक अभियंता और कार्यपालन अभियंता का चार दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुभारंभ संभागायुक्त टी.सी. महावर की अध्यक्षता में किया गया। प्रशिक्षण कार्यक्रम के शुभारंभ पर कलेक्टर पी. दयानंद भी उपस्थित थे।
                             कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कमिश्नर श्री महावर ने कहा कि सिंचाई योजनाओं का पूर्ण क्षमता के साथ प्रदेश भर में समयबद्ध अभियान चलाया जाए। योजनाओं का सर्वेक्षण और कारणों का आंकलन कर सिंचाई क्षमता की प्राप्ति के लिए व्यापक कार्ययोजना तैयार किया जाना होगा। महावर ने कहा कि सिंचाई क्षमता में वृद्धि से ही  अभियान को सफलता मिलेगी। उन्होंने मुख्य कार्यपालन अभियंता और कार्यपालन अभियंताओं को सिंचाई क्षमता की कार्ययोजना तैयार करने के साथ-साथ योजनाओं की मानिटरिंग करने के सुझाव दिये। जलाशय, स्टापडेम, एनिकट के निर्माण के साथ-साथ जल भराव को लेकर विशेष ध्यान रखने को कहा। कमिश्नर महावर ने जल संरक्षण के साथ-साथ पौधारोपण के लिए भी कार्ययोजना तैयार करने के सुझाव दिये।
                प्रशिक्षण कार्यक्रम को कलेक्टर पी.दयानन्द ने भी संबोधित किया। उन्होने कहा कि प्रत्येक उपअभियंता द्वारा चार से पांच सरंचनाओं का सर्वेक्षण किया जाना होगा। जिसमें एनिकट, स्टापडेम, जलाशय, व्यपवर्तन समेत कई संरचनाएं होंगी। चिन्हित संरचना का स्थल पर फोटो लेकर तथा एप में अपलोड करना होगा।
                प्रशिक्षण कार्यक्रम के पहले दिन मास्टर ट्रेनर्स मधुकुमार चंद्रा, अरविंद कोसले, वसुंधरा ठाकुर और श्री संजय शर्मा ने खारंग संभाग बिलासपुर, जलप्रबंधन संभाग जांजगीर, बैराज संभाग चांपा, जलप्रबंधन संभाग कोरबा और बांध संभाग माचाडोली के अभियंताओं को सभी पांच संरचनाओं की ग्रेडिंग  क्रियांन्वयन और कार्यो की मानिटरिंग के संबंध में विस्तार से जानकारी दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *