कांग्रेस के आरोप पर भाजपा का पलटवार…दुर्गा ने कहा…पहले चोरी अब सीनाजोरी..आरोप लागने वाला दामन झांके..

बिलासपुर— कांग्रेस प्रदेश महामंत्री अटल श्रीवास्तव ने दोपहर को प्रेस वार्ता में बताया कि बिलासपुर विधानसभा में भारत निर्वाचन आयोग का पैरलल कार्यालय काम कर रहा है। 39 हजार मतदाताओं का नाम गलत तरह से काट दिया गया है। प्रशासन ने जो विलोपित सूची दिया है। उसमें भारी गड़बड़ी है। कांग्रेस नेताओं के साथ ही भाजपा नेताों का भी नाम मतदाता सूची से उड़ा दिया गया है।

                     देर शाम भाजपा नेता ने कांग्रेस नेता अटल श्रीवास्तव के आरोपों के खिलाफ पलटवार किया है। पूर्व पार्षद और भाजपा मध्य मण्डल प्रभारी दुर्गा सोनी ने प्रेस नोट जारी कर बताया है कि अब सच होता दिख रहा है कि चोर कोतवाल को कैसे डांटता है। अटल ने खुद घोषणा पत्र देकर 14000 मतदाताओं को मतदाता सूची से बाहर निकालने की साजिश की। अब अपने पाप को छिपाने के लिए अनाप शनाप बयान देना शुरू कर दिया है। अटल को आरोप लगाने से पहले अपने गिरेबान को झांक लेना चाहिए।

               दुर्गा सोनी ने कहा कि पत्रकार वार्ता में कांग्रेस नेता ने केवल नौटंकी की है। अपने दामन को साफ करने का प्रयास किया है। लेकिन जनता की अदालत में षड़यंत्र करने वाले को माफी नहीं मिलेगी। अटल अभी तक कर क्या रहे थे। जब 14 हजार लोगों के नाम काटने की साजिश का खुलासा हुआ तो 40 हजार लोगों के नाम काटने का झूठा आरोप लेकर सामने आ गए। अटल को समझना होगा कि सीना जोरी करने से चोरी का पाप नहीं छिपने वाला।

                दुर्गा ने बताया कि भारतीय जनता पार्टी के नेताओं ने झूठा शपथ पत्र देने वाले के खिलाफ सक्थ कार्रवाई की मांग की है। मतदाता सूची से नाम कटाने की साजिश रचने वाले के खिलाफ प्रशासन से सख्त कदम उठाने को कहा है।  शासन को बताया जा चुका है एक व्यक्ति कैसे 14 हजार बार नाम कटवाने का शपथ पत्र दे सकता है। इसकी जांच की जाए। जनता के अधिकारों के खिलाफ षड़यंत्र रचने वाले को जेल भेजा जाए।यदि प्रसासन कार्रवाई नहीं करता है तो भाजपा नेता पुलिस और कलेक्टर कार्यालय का घेराव कर कांग्रेस नेता के खिलाफ अपराधिक प्रकरण दर्ज कराने की मांग करेंगे।

उचित मंच पर रखे बात

                  दुर्गा सोनी ने बताया कि यदि मतदाता सूची में लोगों का नाम विलोपित हुआ है। मामले को उचित मंच पर रखा जाना चाहिए। खुद अटल ने पत्र वार्ता में कहा है कि प्रशानिक गलती भी हो सकती है। यह जानते हुए भी उन्होने इसे प्रशासन के सामने पेश नहीं किया। उन्होने पत्रकारों के सामने मामले को रखकर 14 हजार लोगों का नाम कटवाने की साजिश को छिपाने का प्रयास किया है। पत्रकार वार्ता में उन्होने प्रशासनिक गलती का ठीकरा भाजपा पर फोड़ने का प्रयास किया है। लेकिन ऐसा करने से अटल का दामन साफ नहीं होने वाला है।

अटल ने कहा पैरलल निर्वाचन आयोग

                       मालूम हो कि शनिवार दोपहर को अटल श्रीवास्व ने पत्रकार वार्ता में आरोप लगाया है कि जिले में पैरलल निर्वाचन आयोग काम कर रहा है। चालिस हजार लोगों के नाम को विलोपित कर दिया गया है। इसमें कुछ भाजपा नेताओं और कार्यकर्ताओं का नाम है। कांग्रेस नेताओं का नाम चुनचुन कर काटा गया है। भाई बहनों के बीच शादी करवा दिया गया है। जिन्दा व्यक्ति को मारकर सूची से बाहर कर दिया गया है। गलत मतदाता सूची तैयार करने के आरोप में कांग्रेस पार्टी हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *