अंग्रेजों की चाकरी करने वालों को लालकिला से तकलीफ…कर्मचारी नेता यादव ने कहा…144 के खिलाफ करेंगे आंदोलन

बिलासपुर—मई दिवस पर शहर में जगह जगह बड़े बड़े कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। बिलासपुर ट्रेड यूनियन कौंसिल की अगुवाई में ट्रेड यूनियन सदस्यों के साथ सर्वहारा वर्ग ने रैली निकालकर अपनी आवाज को बुलंद किया। अंत में राघवेन्द्र राव सभा भवन में आम सभा का आयोजन भी किया गया। सभा को ट्रेड यूनियन के स्वनामधन्य नेताओं ने संबोधित कर अपने अधिकारों और कर्तव्यों का आम जनता और सरकार को बोध कराया।

                          दोपहर बाद मौसम ने करवट ली और आंधी तूफान बारिश के बाद बिलासपुर ट्रेड यूनियन ने जुलूस निकालकर मजदूरों की आवाज को बुलंद किया है। रैली के बाद बिलासपुर ट्रेड यूनियन के बैनर तले राघवेन्द्र राव हाल में सभा का आयोजन किया गया।

            सभा को सम्बोधित करते हुए रेल नेता कामरेड रवी बेनर्जी ने कहा कि आज की परिस्थितियों में बेरोजगारी दूर करने सरकार कोई सार्थक प्रयास नहीं कर रही है। ट्रेड यूनियन के अधिकारों पर हमले किए जा रहे हैं। येन केन प्रकारेण यूनियनों की आवाज को सेंसर किया जा रहा है। निश्चित रूप से ऐसा करना लोकतांत्रिक मूल्यों के खिलाफ है। हमें संगठित होकर नीति और नियम विरूद्ध निर्णयों का विरोध करना होगा।

                      पवन शर्मा ने कहा कि असंगठित मजदूरों को न्यूनतम वेतन और सामाजिक सुरक्षा नहीं मिल रहा है। मोदी सरकार मजदूरों को सांप्रदायिक आधार पर बांटने का काम कर रही है। कामरेड नंद कश्यप ने किसानों के साथ किए जा रहे छल का उल्लेख किया। उन्होने कहा कि आज राजनीति बेहद उथली हो गई है।  प्रधानमंत्री किसानों की आमदनी बढ़ाने हवाई बातें कर रहे हैं।महेश श्रीवास ने उर्जा क्षेत्र के निजीकरण को जनता और कर्मचारियों पर हमला बताया।

                             ट्रेड यूनियन कौंसिल के अध्यक्ष पी आर यादव ने कहा कि आज विकास के नाम पर झूठ बोला जा रहा है। छत्तीसगढ़ सरकार आदिवासी क्षेत्रों में पांचवीं अनुसूची का लगातार उल्लंघन कर रही है। अडानी अंबानियों के लिए जंगल खदान का दरवाजा खोला जा रहा है। जंगल की जमीन को बेचा जा रहा है। आदिवासियों के परंपरागत पत्थरगढ़ी जो आदिवासी संस्कृति और सीमा की आदिम काल से चली आ रही परंपरा है। उस पर हमला कर भोले भाले  आदिवासियोंक को नक्सली सिद्ध करने की कोशिश की जा रही है।  जिसके बेहद घातक परिणाम होंगे।  लाल किले के रखरखाव को डालमिया को देने पर टिप्पणी करते हुए यादव ने कहा कि अंग्रेजों की चाकरी करने वालों को 1857 के अंग्रेजों के खिलाफ विद्रोह के केन्द्र लाल किले से तकलीफ है। इसलिए उसे हिंदू महासभाई डालमिया को सौंप कर एक बार फिर से अंग्रेज भक्ति का इजहार किया जा रहा है।

                इस दौरान ट्रेड यूनियन नेताओं ने बिलासपुर में विरोध प्रदर्शन के स्थल पर धारा 144 लगाने के खिलाफ व्यापक आंदोलन का प्रस्ताव रखा। उपस्थित सभी लोगों ध्वनि मत से पारित कर आंदोलन में आस्था जाहिर की।  सभा को पटेल,उमा मिश्रा,आर के मिश्रा,लखन सिंह, विक्रांत,गुरु दीवान,रवी श्रीवास समेत कई लोगों संबोधित किया।

                             सभा की अध्यक्षता पी आर यादव और संचालन राजेश शर्मा ने किया। जीआर चंद्रा ने आभार प्रदर्शन किया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *