जब महिला ने बताया हुआ 3 बार गर्भपात…शादी का झांसा देकर बनाया संबंध..पेंडलवार क्लिनिक में गिराया बच्चा

बिलासपुर– टिकरापारा निवासी एक महिला ने आईजी कार्यालय पहुंचकर प्रेमी पर शादी का झांसा देकर करीब दो साल तक संबंध बनाने का आरोप लगाया है। महिला ने बताया कि प्रेमी ने पिछले एक साल में तीन बार गर्भपात भी करवाया है। इसके बाद उसने घर से निकाल दिया। अब जान से मारने की धमकी देता है। सहायक पुलिस महानिरीक्षक प्रतिभा तिवारी ने मामले को गंभीरता से लेते हुए शिकायत को महिला थाने भेज दिया है। आरोपी के खिलाफ बलात्कार मामला दर्ज करने को कहा है।

                          पीड़ित महिला मूल रूप से सुकमा की रहने वाली है। पति ने घर से निकाल दिया है। पिछले चार साल से बिलासपुर में लोगों के घर झाडू पोछा कर दो बच्चों की पाल पोष रही थी। दो साल पहले  एक अखबार में कामवाली चाहिए का श्तहार प़ढ़ा। पढ़ने के बाद वह टिकरापारा इश्तहार देने वाले के गर गयी।

                  महिला ने बताया कि 22 अगस्त 2016 से टिकरापारा निवासी संजय विश्वकर्मा के यहां काम करने लगी। एक महीने बाद संजय ने मुझे और मेरे दोनों बच्चों के साथ अपने घर में रहने का स्थान भी दिया। इसके पहले वह कुदुदण्ड में रहती थी।

               महिला ने सहायक पुलिस महानिरीक्षक प्रतिभा तिवारी को बताया कि 2014 से बिलासपुर में रहती है। सुकमा में ससुराल है। पति बात बात पर मारपीट करता था। एक दिन उसने दोनों बच्चों के साथ घर से निकाल दिया। बिलासपुर आकर लोगों के घर काम काज कर बच्चों का पेट पालने लगी। इसी दौरान पेपर में विज्ञापन पढ़ने के बाद संजय विश्वकर्मा के संपर्क में आयी। संजय विश्वकर्मा पेशे से शिक्षक है..कोटा ब्लाक में काम करता है। घर में उसकी दो बेटियां भी हैं।

                  पीड़िता ने लिखित शिकायत में बताया कि संजय विश्कर्मा ने संबंध बनाने से पहले विश्वास में लिया कि वह शादी के बाद अपनी दोनोंं बेटियों के साथ मेरी भी बेटियों की जिम्मेदारी लेगा। इसके बाद उसने लगातार दो साल तक शारीरिक संबध बनाया। इस बीच शादी के लिए दबाव बनाया तो वह कोई ना कोई बहाना बताकर मामले को टाल देता था।

  महिला ने बताया 30 अगस्त 2017 को गर्भवती हुई। इसके बाद संजय पर शादी का दबाव बनाया। उसने कहा कि पेट में पल रहे बच्चे को गिराने के बाद शादी करेगा। मना करने पर उसने मेरे साथ मारपीट की। जबरजस्ती दवाई खिलाकर गर्भपात कराया।

                          पीडिता के अनुसार मारपीट के साथ गर्भपात के बाद उसने लगातार शारीरिक संबध बनाया। दूसरी बार गर्भवती हुई। उसने फिर वही किया जैसा पहली बार किया था। महिला के अनुसार दुसरी बार गर्भपात के बाद भी वह शारीरिक संबध बनाता रहा। एक बार फिर प्रेग्नेंट हुई। गर्भवती होने के 6 महीने बाद उसने जबरदस्ती सादे पेपर पर हस्ताक्षर कराया। चेकअप का हवाला देकर 21 फरवरी 2018 को पेंडलवार नर्सिंग होम में भर्ती कराया। मना करने के बाद भी 22 फरवरी को मुझे बेहोश कर बच्चे को गिराया गया।

                 इसके बाद संजय विश्वकर्मा ने मुझे घर से भगा दिया। स्थिति सुधरने के बाद मामले में 4 अप्रैल 2018 को पुलिस अधीक्षक और महिला थाने में शिकायत की। आरोपी के खिलाफ अभी तक कार्रवाई नहीं हुई है। पीड़िता ने बताया कि महिला थाने की एएसआई हमेशा थाना बुलाकर चार पांच घंटे बैठाती है। लेकिन अभी तक किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं हुई है।

मामला महिला सेल के हवाले

                   शिकायत को गंभीरता से लेते हुए सहायक पुलिस महानिरीक्षक प्रतिभा तिवारी ने संजय के खिलाफ सख्त कार्रवाई का आश्वासन दिया है। प्रतिभा तिवारी ने मामले को महिला सेल के हवाले कर दिया है। एडिश्नल एसपी मेघा टेम्भुरकर को मामले को गंभीरता से लेने को कहा है। आरोपी के खिलाफ 376 का मामला दर्ज करने का निर्देश दिया है। साथ ही महिला एएसआई को मामले से दूर रखने का भी निर्देश दिया है।  इसके अलावा डाक्टर के खिलाफ भी जांच का आदेश दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *