चैन स्नैचर गिरोह का पर्दाफाश…पुलिस का खुलासा…लूट की रकम पर लिया मणप्पुरम से लोन…मास्टर माइंड के साथ नाबालिग भी पकड़ाया

बिलासपुर– बिलासपुर पुलिस ने पिछले दो तीन सालों से सिलसिलेवार चैन स्नैचिंग की घटना को अंजाम देने वाले गिरोह का पर्दाफाश किया है। गिरोह के सभी सदस्य बाबूनगर तोरवा थाना क्षेत्र के रहने वाले हैं। आरोपियों की निशानदेही पर पुलिस ने सोने की सात चैन बरामद किया है। स्नैचिंग के दौरान प्रयोग किए गए 4 मोटरसायकल को भी  जब्त कर लिया गया है।

                          शहर में लगातार चैन स्नेचिंग की शिकायत पर पुलिस कप्तान आरिफ एच.शेख ने चैन स्नैचरों के खिलाफ विशेष अभियान चलाते हुए धर पकड़ की कार्रवाई की है। पुलिस कप्तान के निर्देश पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक नीरज चन्द्राकर,डीएसपी नसर सिद्दिकी, पीसी राय समेत सभी थानाप्रभारियों के साथ क्राइम ब्रांच की टीम स्नैचरों की खिलाफ कार्रवाई की है।

        नीरज चन्द्राकर ने बताया कि 19 अप्रैल को राजकिशोर नगर सरकंडा में अज्ञात मोटर सायकल सवार ने आरती दुबे से चैन छीनने का प्रयास किया। छीना झपटी के दौरान आरोपी घटना स्थल पर मोटर सायकल छोड़कर फरार हो गया। आरती दुबे की शिकायत पर मोटर सायकल को आधार मानकर फरार आरोपी की तलाश की गयी।

              नीरज चन्द्राकर ने बताया कि मोटर सायकल तोरवा थाना क्षेत्र बापूनगर निवासी नरेश ललपुरे की पायी गयी। ललपुरे ने बताया कि मोटर सायकल विनय मलिक निवासी बाबू नगर के पास है। विनय मलिक को हिरासत में लेकर पुलिस ने सघन पूछताछ की। विनय ने पुलिस के सामने सिलसिलेवार चैन स्नैचिंग की घटना में शामिल होने की जानकारी दी।

                      एडिश्नल एसपी नीरज ने बताया कि सरकंडा थाना में दर्ज शिकायत के आधार पर पुलिस ने सोेने की चैन लक्ष्मी मलिक के पास से बरामद किया है। चैन की कुल कीमत करीब पचास हजार रूपए हैं।

         विनय मलिक ने शहर के विभिन्न थानों में दर्ज चैन स्नैचिंग के आरोप को भी स्वीकार किया है। विनय ने बताया कि तारबाहर थाना क्षेत्र  विद्यानगर निवासी देविका बाई पति स्वर्गीय रामदयाल से 1 अप्रैल को चैन छीना। विनय ने अपनी बड़ी मां लङ्मी बाई के सहयोग से लूट की चैन को राकेश सोनी को बेचा। जिसे बरामद कर लिया गया है।

                       इसी तरह विनय ने 27 फरवरी को सरकंडा थाना क्षेत्र में रेड चिली के सामने शशि शर्मा पिता अनिल शर्मा निवासी देवनंदन नगर सरकंडा में चैन स्नैचिंग के घटना को अंजाम दिया। आरोपी ने चैन को राकेश सोनी के यहां बेचा। वारदात में विनय के साथ सन्नी विश्वकर्मा भी शामिल था।

    27 फरवरी को उषा ठाकुर पति नरेन्द्र सिंह 27 खोली निवासी सिविल लाइन थाना क्षेत्रके साथ चैन स्नैचिंग की वारदात हुई। घटना में विनय के अलावा सन्नी विश्कर्मा भी शामिल था। मामले में आरोपी के पास से मंगलसूत्र और मोटरसायकल बरामद किया गया है।

                           नीरज ने बताया कि 19 फरवरी की सुबह सन्नी और विनय ने विनोबा नगर तारबाहर थाना क्षेत्र में चैन स्नैचिंग घटना को अंजाम दिया। दोनों ने दुर्गा पंडाल के पास लीला चैन को निशाना बनाया।

                      12 अप्रैल को  कांचो ऊर्फ मोहित मलिक ने प्रमोद कश्यप निवासी तेलीपारा कोतवाली क्षेत्र निवासी से मोबाइल छीनकर फरार हो गया। मोबाइल को आरोपी के पास जब्त कर लिया गया है।

         नीरज चन्द्राकर ने खुलासा किया कि नरेश ललपुरे,लक्ष्मी मलिक ,सन्नी विश्वकर्मा और एक नाबालिग चारो मिलकर घटना को अंजाम  देते थे। लूट में मिले चैन को मणप्पुरम गोल्ड लोन में गिरवी रखते थे। पुलिस ने आरोपी नरेश और नाबालिग के सहयोग से मणप्पुरम गोल्ड लोन बैंक से  दो चैन बराम दिया है। आरोपियों की निशानदेही पर पुलिस ने कुल सात चैन जब्त किए हैं। घटना में प्रयुक्त चार मोटरसायकल को भी बरामद कर लिया गया है। आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है।

                      चन्द्राकर ने बताया कि विनय मलिक,मोहित और सन्नी पर पर पहले भी लूटपाट चोरी और अपहरण मामले में चालान हो चुका है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *