जिन्हें बिलासपुर SP ने भगाया…मुंगेली पुलिस ने दिया संरक्षण…तहसील के सामने सजाया कोयले का अवैध दुकान

बिलासपुर (मुंगेली संवाददाता)— पुलिस कप्तान आरिफ शेख और आई जी दीपांशु काबरा ने डंडा चलाया…मुंगेली पुलिस तड़ीपारों का तारणहार बन गयी। बिलासपुर से भगाए गए सभी कोयला माफियों का अवैध कारोबार मुंगेली पुलिंस की निगरानी में फल फूल रहा है। शिकायत के बाद भी मुंगेली पुलिस का आशीर्वाद कोयला के अवैध कारोबारियों को मिल रहा है। यदि मुंगेली पुलिस कप्तान कहें कि उन्हें इसकी जानकारी नहीं हैं..तो इसे लोग झूठ ही कहेंगे। पुलिस कप्तान मुंगेली को अच्छी  तरह से मालूम है कि सरगांव तहसील के ठीक सामने बिलासपुर के भगोड़े कोयले के अवैध कारोबारियों ने दुकान सजा लिया है। इसकी जानकारी ना केवल क्राइम ब्रांच मुंगेली बल्कि पुलिस कप्तान को भी है। मालूम हो कि सरगांव तहसील के सामने कोयले का अवैध डीपो सजाकर बैंठे कोल माफियों को बिलासपुर पुलिस कप्तान आरिफ शेख ने बाहर खदेड़ा है। इन भगोड़े कोयला कारोबारियों को मुंगेली पुलिस संरक्षण दे रही है।

भगोड़ों को मुगेली पुलिस का सहारा

                            बिलासपुर जिला और पुलिस प्रशासन ने कोयले के अवैध कारोबारियों के खिलाफ अभियान क्या चलाया.. जिले में खलबली मच गयी। बिना लायसेंस और गलत तरीके से कोयला कारोबार करने वाले व्यापारियों की नींद उड़ गयी। दुकान बंद होने के बाद कोयला माफिया बहुत दिनों तक प्रशासन का मान मनौव्वल करते रहे।दाल नहीं गली तो कोल माफियों ने मुंगेली रास्ता पकड़ लिया। मुंगली पुलिस और जिला प्रशासन की कृपा से रायपुर मुख्य मार्ग स्थित सरगांव में बिना लायसेंस कोयला कारोबारियों ने दुकान सजा लिया। उन्हें अब डर भी नहीं रहा कि बिलासपुर पुलिस यहां तक पहुंचेगी।

                   पिछले दो तीन महीने से यकायक सरगांव तहसील के सामने कोयला माफियों ने एक बहुत बड़ा डिपो खोल लिया है। जांच पड़ताल के दौरान सामने आया कि कोयला मफियों के पास लायसेंस भी नहीं है। खुद बातचीत के दौरान कोयला माफिया ने बताया कि जब तक मुंगेली पुलिस की कृपा रहेगी..कोयला कारोबार चलाएंगे। क्योंकि हम पुलिस की सेवा से दूर भी नहीं भागते।

पवन देव ने चलाया था अभियान

                             यह जानते हुए भी आईजी पवन देव के समय विशेष अभियान चलाकर सड़क के आस पास लायसेंसधारी और गैर लायसेंसधारी डीपो को हटाने का अभियान चलाया गया था। अभियान के बाद रायपुर बिलासपुर सड़क के कोयला व्यापारी देखते ही देखते गायब हो गए। एक बार फिर मुंगेली जिले के सरगांव में कोयला कारोबारियों ने प्रशासन को चुनौती दी है। सरगांव तहसील के सामने कोयला का अवैध डीपो खुल गया है। कोयला डीपो बिलासपुर से भगाये गए कोयला कारोबारियों का है। बावजूद इसके ठीक सरगांव तहसील के सामने भगोड़े कारोबारियों ने दुकान सजा लिया है। इस बात की जानकारी मुगेली जिला प्रशासन को भी है कि कारोबार बिना लायसेंस के चल रहा है। पुलिस को भी जानकारी है…लेकिन कार्रवाई करने का अर्थ है कि आर्थिक नुकसान।

                       सरगांव तहसील के ठीक सामने कोयला डीपो खुलने से ना केवल ग्रामीण बल्कि तहसील प्रशासन और तहसील आने जाने वालों को परेशानी हो रही है। कोयले के डस्ट ने लोगों को जीना हराम कर दिया है । स्थानीय लोगों में कोयला डीपो खुलने से भयंकर नाराजगी है।

बिना लायसेंस खुला डीपो

                            सरगांव तहसील के सामने कोयला डीपो बिना लायसेंस के चल रहा है। जिला प्रशासन और खासतौर पर खनिज विभाग को भी इसकी जानकारी है। मुंगेली क्राइम ब्रांच को इस बात की भी जानकारी है कि कोयला डीपो खोलने वालों में से एक के खिलाफ सरगांव थाना में मामला दर्ज है। बाकी लोग बिलासपुर के भगोड़े कोयला व्यापारी है। चूंकि जिला प्रशासन और पुलिस को कोयला डीपो बंद होने से आर्थिक नुकसान होगा शायद इसलिए कारोबारियों के खिलाफ किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं हो रही है।

पता लगाएंगे क्यों नही हुई कार्रवाई

                मुंगेली पुलिस कप्तान पारूल माथुर ने बताया मैने क्राइम टीम को एक्शन लेने के कहा था। लेकिन पुलिस ने कार्रवाई क्यों नहीं की इसकी जानकारी लेंगें। पारूल माथुर ने सीजी वाल को बताया कि बिना लायसेंस किसी भी डीपो को चलने नहीं दिया जाएगा। लायसेंसधारी डीपो को भी नियम के अन्दर रहकर काम करना होगा। तहसील कार्यालय के सामने डीपो चलने का सवाल ही नहीं उठता है। अवैध काोयला कारोबारियों के खिलाफ पुलिस सख्त कार्रवाई करेंगी। बिना लायसेंस वाले डीपो को बंद कराया जाएगा।

पुलिस कप्तान के आदेश का नहीं हुआ पालन

       पुलिस कप्तान पारूल माथुर के निर्देश के बाद भी सरगांव तहसील के सामने अवैध कोयला डीपो के खिलाफ कार्रवाई नहीं हुई है। क्राइम ब्रांच टीम ने कोयला कारोबारियों को सलामी दागकर इतना जरूर बताया कि शिकायत  आयी है। इसलिए कारोबार बचाकर करें। बाकी हम लोग संभाल लेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *