देखिए रिपोर्ट,बीजेपी के आए अच्छे दिन,आमदनी हुई डबल, कांग्रेस की आय घटी

नईदिल्ली।केंद्र में सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) 2016-17 के दौरान आय के मामले में भारत की सबसे अमीर पार्टी बनकर उभरी है।सात राष्ट्रीय पार्टियों ने 2016-17 के दौरान हुए अपनी कुल आय 1,559.17 करोड़ रुपये की घोषणा की, जिसमें बीजेपी के पास सबसे ज्यादा 1,034.27 करोड़ रुपये बताई गई है।एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) की जारी रिपोर्ट में कहा गया है, ‘इन सभी राष्ट्रीय पार्टियों की कुल आय में 2016-17 के दौरान 66.34 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है।’भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (आईएनसी) ने 225.36 करोड़ रुपये (कुल आय का 14.45 फीसदी) की घोषणा की है और कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया (सीपीआई) ने 2.08 करोड़ रुपये (कुल आय का 0.13 फीसदी) की घोषणा की है।

रिपोर्ट के अनुसार, यह आंकड़ा पार्टियों के द्वारा देश भर में फाइल की गई आयकर रिटर्न के आधार पर ली गई है। वहीं सातों राष्ट्रीय पार्टियों का कुल खर्च 1,228.26 करोड़ रुपये रहा है।बीजेपी ने 2016-17 के दौरान सबसे अधिक खर्च 710.05 करोड़ रुपये की घोषणा की है जबकि कांग्रेस ने इस दौरान 321.66 करोड़ रुपये (अपनी कुल आय से 96.30 करोड़ रुपये अधिक) खर्च किए हैं।रिपोर्ट में कहा गया है कि 2016-17 के दौरान बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) ने 70 फीसदी आय, बीजेपी और सीपीआई की कुल आय का 31 फीसदी और सीपीएम की कुल आय का 6 फीसदी खर्च नहीं किया गया।2016-17 के दौरान बीएसपी की कुल आय 173.58 करोड़ थी जिसमें कुल 51.83 करोड़ रुपये खर्च किए गए। 2015-16 और 2016-17 के दौरान बीजेपी की आय 81.18 फीसदी बढ़कर 570.86 करोड़ रुपये से 1,034.27 करोड़ रुपये हो गई।

वहीं कांग्रेस पार्टी की आय 14 फीसदी घटकर 261.56 करोड़ रुपये से 225.36 करोड़ रुपये हो गई। इसी दौरान ऑल इंडिया तृणमूल कांग्रेस (एआईटीसी) की आय 81 फीसदी घटी और मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीएम) की आय भी 6.72 फीसदी घट गई।बीएसपी की 2015-16 के दौरान हुई आय 2016-17 में 266.32 फीसदी बढ़कर 173.58 करोड़ हो गई जबकि राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) की आय इसी दौरान 88.63 बढ़कर 9.13 करोड़ रुपये से 17.23 करोड़ रुपये हो गई।

देश की दोनों बड़ी पार्टियों बीजेपी और कांग्रेस ने चंदे और योगदान को आय का प्रमुख जरिया बताया है।इससे पहले इसी साल 7 फरवरी को एडीआर ने राष्ट्रीय पार्टियों के आय और खर्चे का ब्योरा जारी किया था जिसमें बीजेपी और कांग्रेस के आय और खर्च की जानकारी नहीं थी क्योंकि ऑडिट रिपोर्ट पब्लिक नहीं किया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *