आजादी के बाद पेट्रोल डीजल में लगी आग…अटल का बयान…महंगाई पर भाषण देने वाले, कहां गए भाजपा नेता

बिलासपुर—मंहगाई का रोना रोकर सत्ता पर काबिज भाजपा सरकार ने नोटबंदी जीएसटी के बाद देश की कमर को तोड़ दिया है। पेटोल-डीजल की बढती कीमत ने देश वासियों और व्यापार को तबाह कर दिया है। केन्द्र में भाजपा सरकार बनने के बाद महंगाई का घटना तो दूर कभी इस स्थिति में भी नहीं पहुंची जहां देश की जनता राहत की सांस ले सके। यह बाते कांग्रेस कार्यालय से जारी प्रेस नोट में प्रदेश कांग्रेस महामंत्री अटल श्रीवास्तव ने कही है।

जिला कांग्रेस कार्यालय से जारी प्रेस नोट में प्रदेश कांग्रेस कमेटी महाम़ंत्री अटल श्रीवास्तव और संभागीय प्रवक्ता अभयनारायण राय नेजू पेट्रोल डीजल में मूल्य वृद्धि के खिलाफ संयुक्त बायान दिया है। दोनों नेताओं ने कहा कि केन्द्र में जबसे भाजपा सरकार बनी है। क्रूड आयल का अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर दाम में बारी गिरावट आयी है। बावजूद इसके भारत में पेटोल-डीजल का दाम घटने की वजाय बढ़ा है। यह काम पिछले चार से हो रहा है।

                                                                  अटल श्रीवास्तव ने बताया कि अंतराष्टीय स्तर में कच्चे तेल की कीमतों भारी गिरवाट आयी है। बावजूद इसके देश में डीजल और पेट्रोल के दाम लगातार बढ़ रहे हैं। यही कारण है कि वस्तुओं के दाम आसमान छू रहे है। पेट्रोलियम पद्रार्था की कीमत में अत्यधिक बृद्धि से चौतरफा मंहगाई पड़ रही है।

कांग्रेस नेता ने बताया कि यूपीए सरकार के समय जो अंतराष्टीय कच्चे तेल की कीमत ने 119 डाॅलर प्रति बैलर तक छू दिया। लेकिन पेट्रोल-डीजल की कीमत 70 रूपए से कभी अधिक नहीं हुआ। आज अंतर्राष्ट्रीय बाजार में क्रूड आयल की कीमत 71डाॅलर प्रति बैरल हो गा है। लेकिन देश मेंं 80 से 85 रू. प्रति लीटर के भाव से बेचा जा रहा है। बढ़ी मंहगाई के बारे में अब भाजपा के नेताओं के मुंह बंंद हैं। ताज्जुब की बात है कि भाजपा नेताओं को इसकी जानकारी भी नहीं है।

                      अटल ने कहा कि मन की बात करने वाले प्रधानमंत्री डीजल पेट्रोल की कीमतों पर चर्चा नही करते। जनता जीएसटी और नोटबंदी से पहले से ही परेशान थी। पेट्रोल और डीजल की बढ़ी कीमतो ने अब जीना मुश्किल कर दिया है। भाजपा और प्रधानमंत्री यदि मंहगाई पेटोल-डीजल के बढ़ते दाम को नियंत्रित नही कर पा रहे हैं तो तत्काल कुर्सी छोड़ देना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *