नाबालिग के साथ दिया था घटना को अंजाम…रंहगी में पकड़ाया तिजोरी चोर…पुलिस राडार में आया खरीददार

बिलासपुर– उस्लापुर में दो दिन पहले 3 अप्रैल को चोरी की वारदात को अंजाम देने वाले दो आरोपियों को पकड़ लिया है। पकड़े गए आरोपियों में एक नाबालिग भी है। पुलिस ने चोरी की नल टोंटी खरीदने वाले दुकानदार को भी हिरासत में लिया है। मुख्य आरोपी रवि ध्रुव को चकरभाठा थाना के रहंगी स्थित घर से पकड़ा गया है। पूछताछ के दौरान आरोपी ने साढ़े तीन लाख की चोरी किए जाने से इंकार किया है।

                             एडिश्नल एसपी नीरज चन्द्राकर ने बताया कि 4 अप्रैल को उस्लापुर रघुनाथपुरम निवासी अक्षय तिवारी पिता एसएम तिवारी ने चोरी होने की शिकायत सकरी थाने में की। अपनी रिपोर्ट में अक्षय तिवारी ने बताया कि चोरी की वारदात 3 अप्रैल की दरमियानी रात्रि को हुई है। उस समय मम्मी के साथ पापा का इलाज करने हैदराबाद गए थे। इसी दौरान अज्ञात चोरों ने सूनेघर को निशाना बनाया। चोरों ने घर का ताला तोड़कर नगदी साढ़़े तीन लाख रूपए,मोबाइल,लोहे की तिजोरी और मोबाइल के साथ जरूरी कागजात को पार कर दिया है।

              जानकारी मिलने के बाद पुलिस कप्तान आरिफ शेख के निर्देश पर एडिश्नल एसपी नीरज चन्द्राकर और डीएसपी नसर सिद्दिकी की अगुवाई में टीम का गठन किया गया। सकरी थाना प्रभारी प्रतीक चतुर्वेदी को मामले को गंभीरता से लेने को कहा गया।

                           चोरी की शिकायत मिलते ही मौके पर पुलिस अधिकारियों के साथ डॉग स्कावयड,फिंंगर प्रिंट की टीम बी पहुंची। घटना स्थल का गहन निरीक्षण किया गया।

                         इस बीच क्राइम ब्रांच टीम को उस्लापुर से जानकारी मिली कि रवि ध्रुव पिता मुन्ना  ध्रुव को एक नाबालिग साथी के साथ घटना के दिन देखा गया। रवि ध्रुव आदतन अपराधी भी है। पुलिस को यह भी जानकारी मिली कि रवि ध्रुव आजकल इस समय चकरभाठा थाना क्षेत्र के रहंगी में रहता है। पुलिस ने तत्काल कार्रवाई करते हुए रवि ध्रुव को रहंगी स्थित घर से धर दबोचा। 

                                                 पत्रकारों से जानकारी देते हुए नीरज चन्द्राकर ने बतायाि कि पूछताछ में रवि ने चोरी की वारदात को स्वीकार किया है। रवि के अनुसार उसका नाबालिग साथी उस्लापुर रेलवे साइडिंग में चौकीदारी का काम करता है। नाबालिग साथी कांटी खार का रहने वाला है। घटना के दिन रवि ध्रुव अपने साथी के साथ साइडिंग में ही था। कुच दूर एक घर में ताला लटकते हुए देखा। इसके बाद हम दोनों ने मिलकर चोरी का प्लान बनाया।

                              रवि के बयान के बाद नाबालिग को भी हिरासत में लिया गया। दोनों ने बताया कि सूने घर से मोबाइल,कागजात समेत अन्य सामानों की चोरी की है। लेकिन दोनों ने साढ़े तीन लाख रूपए नगद की चोरी से इंकार किया। आरोपियों ने बताया कि नल की टोंटी मगरपारा चोौके के पास सुनील सोनी को 12 सौ रूपए में बेंचा। दोनों की निशानदेही पर पुलिस ने नल की टोटी को बरामद कर खरीददार को भी पकडा है।

                       नीरज चन्द्राकर ने पत्रकारों को बताया कि साढ़े तीन लाख रूपए चोरी से इंकार किये जाने पर दुबारा प्राथी अक्षय तिवारी से सम्पर्क किया गया। अक्षय ने बताया कि तिजोरी में साढ़े तीन लाख रूपए थे। रिपोर्ट लिखाने के बाद मालूम हुआ  कि पिता जी ने रूपए निकाल लिए थे। वहीं आरोपियों ने बताया कि तिजोरी में पांच छः रूपए थे। जिसे उन्होने नशा पानी में खर्च कर दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *