जो कभी नहीं गए अपने राज्य से बाहर,शिक्षा के माध्यम से आज जा रहे देश से बाहर ’जापान’

जशपुर।छत्तीगसढ़ बोर्ड की 2016-17 वर्ष की कक्षा 10 वीं की मेरिट सूची में शामिल शासकीय विद्यालयों के प्रथम पाँच विद्यार्थियों को जापान एशिया यूथ एक्सचेंज प्रोग्राम इन साईंस के तहत जापान जाने का अवसर मिला। जिसमें जशपुर के तीन प्रतिभावान विद्यार्थियों ने इन पाँच विद्यार्थियों में जगह बनाने में सफलता पाई है। जिला खनिज न्यास निधि से संचालित संकल्प शिक्षण संस्थान के तीन विद्यार्थी महेन्द्र कुमार बेहरा, कु. नीता सिंह और अनूप भगत 7 अपै्रल को दिल्ली से जापान के लिए रवाना होंगे। कलेक्टर डॉ. शुक्ला ने इन विद्यार्थियों को शुभकामनाएं दी। विद्यार्थी जापान के प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों और शीर्ष अनुसंधान संस्थानों में भ्रमण करेंगे। साथ ही प्रयोगशाला में रासायनिक एक्सपेरिमेंट करने का अनुभव प्राप्त करेंगे। और हाईस्कूल व विश्वविद्यालयों के विद्यार्थियों के साथ चर्चा भी करेंगे।कलेक्टर डॉ. शुक्ला ने नीता, महेन्द्र और अनुप को विदेश में रखे जाने वाली विभिन्न सावधानियों के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि विदेशों के कई नियम एवं कानून यहां से अलग होते है, तो उनका सावधानी से पालन करना चाहिए।

अनुप ने कहा कि उसने जापान के विज्ञान के क्षेत्र की कामयाबी एवं तकनीकी प्रगति के बारे में बहुत सी बाते पढ़ी है, वह वहां के लैब एवं उन्नत तकनीक को देखने हेतु उत्सुक है। महेन्द्र ने कहा कि उन्हें बताया गया है कि टूर में उन्हें नोबल पुरस्कार प्राप्त किए लोगों से मिलने का अवसर भी मिलेगा जिसके लिए वह बहुत उत्साहित है। वहीं नीता जापान घूमने के साथ ही अपने मम्मी, पापा और भैया के लिए उपहार खरीदना चाहती है।

कलेक्टर डॉ. शुक्ला ने ऑडीटोरियम में बैठे विद्यार्थियों को आगामी परीक्षाओं की तैयारी पूरी मेहनत और लगन से करने कहा। साथ ही उन्होंने कहा कि विद्यार्थी सभी प्रतियोगी  परीक्षाओं में भी अवश्यक शामिल हो जिससे की तैयारी सुदृढ़ होती रहे। उन्होंने बच्चों के हौसलों को बढ़ाते हुए कहा कि जीवन में कभी भी मुश्किल हो तो घबराना नहीं चाहिए। अपनी पसंदीदा कविता की दो पंक्तियां उच्चारित करते हुए उन्होंने कहा कि असफलता एक चुनौती है, स्वीकार करो, क्या कमी रह गई, देखो और सुधार करो।
उल्लेखनीय है कि कलेक्टर डॉ. प्रियंका शुक्ला के मार्गदर्शन में जिला प्रशासन द्वारा शिक्षा गुणवत्ता उन्नयन के लिए यशस्वी जशपुर कार्यक्रम 2016 में प्रारंभ किया गया। इस कार्यक्रम के योजनाबद्ध क्रियान्वयन के कुछ महीनों में ही कई सुखद परिणाम मिले। इन सुखद परिणामों में से ही एक था- छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मण्डल द्वारा वर्ष 2017 की कक्षा    10 वीं के लिए जारी मेरिट सूची में जिले के पाँच विद्यार्थियों द्वारा स्थान बनाना। प्रदेश के शासकीय विद्यालयों की बात की जाए, तो जिले के संकल्प शिक्षण संस्थान के  तीन विद्यार्थियों ने प्रथम पाँच विद्यार्थियों में जगह बनाई है।

वर्ष 2014 में जापान साईंस एण्ड टेक्नॉलॉजी एजेंसी (जेएसटी) ने एशियाई युवाओं के लिए विशेष रुप से यह शार्ट टर्म प्रोग्राम तैयार किया है। इस प्रोग्राम के प्रतिभागियों को द यूनिवर्सिटी ऑफ टोक्यो, टोक्यो इंस्टीटयूट ऑफ टेक्नॉलॉजी, टोक्यो यूनिवर्सिटी ऑफ साईंस, टोक्यो यूनिवर्सिटी ऑफ मरीन साईंस एण्ड टेक्नोलाजी, कियो यूनिवर्सिटी, शिबौरा इंस्टीटयूट ऑफ टेक्नॉलॉजी के अलावा शीर्ष अनुसंधान केन्द्र-जापान एजेंसी फोर मरीन अर्थ साईंस एण्ड टेक्नोलॉजी और साईंस म्यूजियम-नेशनल म्यूजियम ऑफ इमर्जिंग साईंस एण्ड इनोवेशन में भ्रमण कर ज्ञानार्जन का अवसर मिलेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *