आमरण अनशन पर गए दोनों पार्षद जिला अस्पताल में भर्ती…मान मनौव्वल के बाद जूस पीकर तोड़ा व्रत…किया जंग का एलान

बिलासपुर— दो दिन से निगम सफाई  कर्मचारियों की मांग को लेकर आमरण अनशन पर बैठे दोनों पार्षदों की स्थिति खराब होने पर पुलिस ने देर रात्रि अस्पताल में भर्ती कराया है। पुलिस दबाव में दोनों पार्षदों को जूस पिलाकर वरिष्ठ कांग्रेसियों ने अनशन तुड़वाया। दोनों पार्षदों का जिला अस्पताल डाक्टर ने स्वास्थ्य परीक्षण किया। इस दौरान जिला कांग्रेस के कमोबेश सभी वरिष्ठ कांग्रेस जिला अस्पातल में मौजूद थे।

                             मालूम हो कि कांग्रेस पार्षद दल प्रवक्ता शैलेन्द्र जायसवाल और वार्ड क्रमां के एक के पार्षद अखिलेश वाजपेयी दो दिन से आमरण अनशन पर थे। दैनिक वेतन भोगी निगम सफाई कर्मचारियों की नियमितिकरण को लकर रविवार से आमरण अनशन पर चले गए थे। अनशन के दूसरे दिन शाम को दोनों कांग्रेस पार्षदों की हालत खराब होने लगी। आनन फानन में पुलिस को बुलाया गया।

                       पुलिस नेे विकास भवन मे आमरण अनशन पर गए शैलेन्द्र जायसवाल और अखिलेश वाजपेयी को जबरदस्ती गाड़ी में बैठाकर जिला अस्पताल में भर्ती कराया। परीक्षण के दौारन डाक्टर ने बीपी की शिकायत की। मामले की जानकारी मिलते ही जिला कांग्रेस कमेटी के नेता जिला अस्पताल पहुंच गए। दोनों नेताओं की स्थिति देखने के बाद कांग्रेसी नेता भाजपा सरकार समेत निगम और जिला प्रशासन पर निशाना साधा।

     दोनों नेताओं के स्वास्थ्य परीक्षण के बाद डाक्टरों की सलाह पर पुलिस ने अनशन तोड़ने का दबाव बनाया।  कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने भी शैलेन्द्र और अखिलेश को समझाया। काफी मान मनौव्वल के बाद दोनों कांग्रेसी नेताओं का वरिष्ठ कांग्रेसियों ने जूस पिलाकर अनशन को तुड़़वाया। दोनों को ड्रिप भी चढ़ाया गया। डाक्टर ने बताया कि पानी कम होने से दोनों की हालत बिगड़ी है। अनशन तोड़ने के बाद सभी कांग्रेिसयों ने मिलकर सत्ता और प्रशासन के खिलाफ जंग का एलान भी किया।

                            इस दौरान वरिष्ठ कांग्रेस नेता अरूण तिवारी,राजेश पाण्डेय,शैलेश पाण्डेय,जिला शहर कांग्रेस अध्यक्ष नरेन्द्र बोलर,नजरूद्दीन,ऋषि पाण्डेय समेत कई कांग्रेसी मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *