दर्जनों गांव के ग्रामीणों का लगा कलेक्टर परिसर में मेला…पिनाल ने कहा करेंगे आंदोलन…बहुत हो गयी गांधीगिरी

बिलासपुर— कांग्रेस नेता पिनाल उपवेजा की अगुवाई में बेलतरा विधानसभा के दर्जनों गांव के सात आठ सौ से अधिक महिला और पुरूष अपनी समस्या को लेकर कलेक्टर कार्यालय पहुंचे। बिना नारेबाजी और विरोध के  शांंतिपूर्ण तरीके से कलेक्टर परिसर के अन्दर दाखिल होकर गांधीगिरी का प्रदर्शन किया। ग्रामीणों की अगुवाई करते हुए युवा कांग्रेस नेता पिनाल उपवेजा ने एडिश्नल कलेक्टर के.डी.कुजाम के सामने ग्रामीणों की समस्याओं को रखा। साथ ही पिछले कई महीनों से दिए गए ज्ञापनों की कापियां सौंपकर बताया कि जिला प्रशासन से अभी तक समस्या निदान के नाम पर केवल आश्वासन ही मिला है।

                            युवा कांंग्रेस नेता पिनाल उपवेजा की अगुवाई में बेलतरा विधानसभा के दर्जनों गांव की महिला और पुरूषों ने शांतिपूर्ण तरीके से कलेक्टर कार्यालय का घेराव किया। कलेक्टर परिसर में ग्रामीणों की हजारों की संख्या की भीड़ देखने के बाद अधिकारी सकते में आ गए। एडिश्नल कलेक्टर के.डी.कुजाम ने लोगों से मिलकर समस्याओं को सुना। जल्द ही निराकरण का आश्वासन भी दिया। बावजूद इसके ग्रामीम अपने स्थान से टस से मस नहीं हुए। चुपचाप मांग को लेकर बैठे रहे ।

      पिनाल उपवेजा ने बताया कि पिछले दस महीनों से दर्जनों गांव के ग्रामीण अपनी मूलभूत समस्या को लेकर कलेक्टर कार्यालय का चक्कर काट रहे हैं।  लेकिन अधिकारी समस्या का निदान नहीं करते। ग्रामीणों के पास घर नहीं है। चावल नहीं मिल रहा है। पानी की समस्या है। पेंशन नहीं मिल रहा है। लेकिन अधिकारियों को इस बात की चिंता नहीं है।

                      पिनाल उपवेजा ने बंंडल मेंं बंधे पुरानी विज्ञप्तियों के अलावा के.डी.कुंजाम को नई विज्ञप्ति देते हुए कहा कि उम्मीद है कि प्रशासन ग्रामीणों की समस्याओं को इस बार गंभीरता से लेगी।

              कलेक्टर परिसर में धरना प्रदर्शन करने वालों में डबरीपारा, मोपका, लिगियाडीह, बिरकोना,रमतला, पौंसरा, उच्चभठ्ठी, मदनपुर,रानीगांव, जेजराडीह,लखराम, रामपुर, बैमा, नगोई, खैरा डंंगनिया की महिला और पुरूष शामिल थीं।

            पिनाल ने ग्रामीणों की तरफ से एडिश्नल कलेक्टर,के.डी.कुंजाम को लिखित शिकायत कर बताया कि डबरीपारा और अन्य पट्टाधारी घर के निवासियों की रजिस्ट्री तत्काल की जाए। सभी पंचायतोंं में मूलभूत सुविधाओं की भारी कमी है। समय समय पर मूलभूत सुविधाओं को लेकर कई प्रकार की मांग की गयी। लेकिन निराकरण किसी का नहीं हुआ। ग्राम पंचायतो में आवास,बृद्धा पेंशन, मनरेगा भुगतान, स्मार्ट कार्ड वितरण, राशनकार्ड बेरोजगारी भत्ता, उज्जवला योजना समेत अन्य मांगों को लेकर गांवो में शिविर का आयोजन किया। ग्रामीणों की समस्याओं को गंभीरता से लेते हुए दूर किया जाए।

               पिनाल ने पत्रकारों को बताया कि यदि ग्रामीणों की मांग 16 मार्च तक पूरी नहीं होती है तो इसके बाद उग्र आंदोलन किया जाएगा। इस दौरान यदि किसी प्रकार की हान होती है तो इसके लिए जिला प्रसासन जिम्मेदार होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *