कलाकारों – साहित्यकारों को सरकार ने दी 30 लाख से अधिक की मदद

रायपुर। राज्य शासन के संस्कृति विभाग द्वारा चालू वित्तीय वर्ष 2017-18 के दौरान विगत जनवरी माह तक 124 कलाकारों और साहित्यकारों को 30 लाख 17 हजार रूपए की आर्थिक सहायता दी गई है। इसी अवधि में 37 अशासकीय संस्थाओं को उनकी सांस्कृतिक गतिविधियों के लिए 80 लाख 64 हजार रूपए की सहायता विभाग द्वारा प्रदान की गई है।
संस्कृति मंत्री  दयालदास बघेल ने बताया कि उनके विभाग द्वारा प्रदेश के अर्थाभाव ग्रस्त साहित्यकारों और कलाकारों को मासिक आर्थिक सहायता (पेंशन) देने की योजना संचालित की जा रही है। दिवंगत हो चुके साहित्यकारों और कलाकारों के आश्रितों को भी इस योजना के तहत विभाग द्वारा सहायता दी जाती है। योजना के तहत चालू वित्तीय वर्ष के जनवरी माह तक 83 लोगों को 19 लाख 92 हजार रूपए की आर्थिक सहायता दी जा चुकी है।
राज्य शासन द्वारा संस्कृति विभाग के अंतर्गत कलाकार कल्याण कोष भी बनाया गया है। इसी प्रकार कलाकार कल्याण कोष योजना के तहत राज्य के साहित्यकारों, कलाकारों और उनके परिवार के सदस्यों को लंबी बीमारी , गंभीर बीमारी, दुर्घटना, मृत्यु अथवा अन्य दैवीय विपत्ति की स्थिति में आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है। इस योजना के तहत इस चालू वित्तीय वर्ष में जनवरी माह तक 41 कलाकारों को दस लाख 25 हजार रूपए की आर्थिक सहायता दी गई है।
संस्कृति विभाग द्वारा राज्य की विभिन्न अशासकीय संस्थाओं के संवर्धन और विकास के लिए आर्थिक अनुदान दिया जाता है। इस योजना के तहत राज्य के कलाकार दलों और कलाकारों को प्रोत्साहित करने के लिए उन्हें अपनी कला के प्रदर्शन के लिए मंच प्रदान किया जाता है। राज्य की ऐसी समस्त कला एवं सांस्कृतिक अशासकीय संस्थाएं जो सोसायटीज रजिस्ट्रीकरण अधिनियम 1973 के प्रावधानों के तहत पंजीकृत है तथा कम से कम तीन वर्षाें से कला और संस्कृति के विकास और संवर्धन के कार्य में सक्रिय है। योजना के तहत ऐसे अपंजीकृत कला दलों को जो कम से कम तीन वर्षाें से गांवों, कस्बों और ग्रामीण इलाकों में अपने उत्कृष्ट प्रदर्शनों से लोकप्रियता हासिल कर चुके हैं उन्हें आर्थिक अनुदान दिया जाता है। चालू वित्तीय वर्ष के जनवरी माह तक योजना के तहत कुल 37 संस्थाओं और कलाकारों को 80 लाख 64 हजार 452 रूपए की आर्थिक सहायता प्रदान की गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *