बेमौसम बारिश से फसल तबाहः जोगी ने कहा कैबिनेट मीटिंग बुलाकर किसानों को तुरत मुआवजा दे सरकार

रायपुर। । जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के संस्थापक अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने आज कहा कि प्रदेश में एक सप्ताह से हो रहे ओलावृष्टि, आंधी, तूफान व लगातार बारिश के कारण प्रदेश के किसानों को भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है। ऐसी स्थिति में कर्ज से दबा प्रदेश का किसान कहीं आत्मघाती कदम पुनः न उठा ले, इसकी जवाबदारी राज्य शासन की है। अतः डा. रमन सिंह तत्काल किसानों के प्रति सहानुभूति रखते हुए तत्काल केबिनेट की बैठक बुलाकर निर्णय लें एवं प्रदेश के आला अधिकारियों की टीम द्वारा खेत से खेत का मूल्यांकन कर किसानों को तत्काल मुआवजा की घोषणा कर अपना नैतिक कर्तव्य निभायें।

            पूर्व मुख्यमंत्री  अजीत जोगी ने कहा कि प्रदेश का किसान अभी रबी फसल का चांवल, गेहूं, चना, तिवरा सहित आम व सब्जी का फसल अपने खेतों में लगाया है। किन्तु लगातार चल रहे प्राकृतिक आपदा के कारण उसकी फसल को नुकसान पहुंचा है। एक ओर जहां आम के फसल में बौर झड़ गये है जिसके कारण उसका उत्पादन नहीं होगा। वहीं अन्य सभी फसल में कीड़े लगने के कारण फसल खराब हो जायेंगे।

            श्री  जोगी ने आश्चर्य व्यक्त करते हुए कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह की किसानों के प्रति संवेदनहीनता की स्थिति यह है कि मुख्यमंत्री के गृह जिला कवर्धा, निर्वाचन जिला राजनांदगांव सहित उसके सीमावर्ती अन्य जिला में ओलावृष्टि के कारण मानों सफेद चादर पूरे क्षेत्र में बिछ गयी थी। 14 वर्ष से प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे डा. रमन सिंह को यह ज्ञान होना चाहिए कि ओलावृष्टि से फसल का समूल विनाश हो जाता है। उसके बाद भी मुख्यमंत्री द्वारा नुकसान का जायजा लेने की अपेक्षा चुपचाप शांत बैठे  रहना किसानों के प्रति उनकी संवेदनहीनता का उदाहरण है। जबकि मुख्यमंत्री को भी यह ज्ञात है कि प्रदेश के लगभग 1400 किसानों की फसल खराब होने व कर्ज न चुका पाने के शासन के कुशासन के कारण आत्महत्या की है। उसमें भी अधिकातर किसान मुख्यमंत्री के गृह व निर्वाचन जिले राजनांदगांव के हैं।

             श्री  जोगी ने राज्य शासन से मांग की है कि तत्काल किसानों को हो रहे नुकसान को देखते हुए राज्य मंत्रिमंडल की बैठक बुलाकर सरकार राहत देने व किसानों के कर्ज माफ की घोषणा करें। साथ ही आला अधिकारियों को निर्देश दें कि वे स्वयं यह सुनिश्चित करें कि नुकसाल का आंकलन खेत से खेत के आधार पर किया जाये ताकि वास्तविक नुकसान का आंकलन हो सके।

उन्होने कहा कि सरकार किसानों के प्रति अपनी जवाबदेही निभाये अन्यथा वे स्वयं जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के कार्यकर्ताओं के साथ किसानों के हित के लिये किसी भी स्तर तक आन्दोलन करने बाध्य होंगे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *