महेश स्वीट्स फैक्ट्री पर छापा…बिना लायसेंस हो रहा था संचालन….बंधक बनाने की अफवाह…खाद्य विभाग ने जड़ा ताला

बिलासपुर— महेश स्वीट्स संचालक की खाद्य फैक्टरी में खाद्य एवं आयुष विभाग ने छापामार कार्रवाई की है। छापामार कार्रवाई खाद्य एवं आयुष विभाग निरीक्षक मोहित बेहरा के निर्देशन में हुई। कार्रवाई प्रक्रिया पूरे समय तक बंद कमरे में हुई। कार्रवाई के समय महेश स्वीट्स संचालक महेश चौबे समेत उनका बेटा और परिवार के अन्य सदस्य भी मौजूद थे। लेकिन पत्रकारों को अन्दर जाने नहीं दिया।

                     खाद्य एवं आयुष विभाग निरीक्षक मोहित बेहरा की अगुवाई में महेश स्वीट्स संचालक की फैक्ट्री में छापामार कार्रवाई हुई है। खाद्य अधिकारियों ने कार्रवाई करीब डेढ से दो बजे के बीच की है। बताते चले की महेश स्वीट्स की पैस्ट्री और स्वीट्स समेत अन्य खाद्य वस्तुओं की फैक्ट्री इंदिरा कालोनी तारबाहर क्षेत्र में है। जानकारी के अनसुार महेश स्वीट्स संचालक महेश चौकसे बिना लायसेंस के खाद्य वस्तुएं तैयार कर रहे हैं।

                                शहर के मशहूर हाटल व्यवसायी महेश स्वीट्स के संचालक महेश चौकसे की फैक्ट्री में खाद्य एवं आयुष विभाग की टीम ने छापामार कार्रवाई की है। छापमारा कार्रवाई का नेतृत्व निरीक्षक मोहित बेहरा कर रहे थे। इस दौरान अन्य कर्मचारियों के साथ इंंस्पेक्टर विन्यराज भी मौजूद थे।

           विन्यराज ने बताया कि लगातार जानकारी मिल रही थी कि महेश स्वीट्रस संचालक खाद्य सामग्री की एक फैक्ट्री चलाते है। फैक्ट्री से बनाए गए सामान निजी हाटलों के अलावा अन्य हाटलों को भी भेजते हैं। जानकारी मिलने के बाद महेश स्वीट्स संचालक से जानकारी मांगी गयी। पहले तो उन्होने ऐसी किसी फैक्र्टी होने से इंकार किया। बाद में उन्होने स्वीकार किया लेकिन लायसेंस नहीं बनवाया।

                       खाद्य निरीक्षक विन्यराज ने बताया कि बिना लायसेंस और अनुमति के खाद्य पदार्थ का व्यवसायिक निर्माण नहीं किया जा सकता है। यह खाद्य एवं आयुष अधिनियम के खिलाफ है। समय समय पर विभाग खाद्य सामाग्रियों की जांंच पड़ताल करता है। निरीक्षण परीक्षण के बाद खाद्य पदार्थों की सैम्पलिंग भी की जाती है।

           विन्यराज के अनुसार महेश स्वीट्स के संचालक बिना लायसेंस के तारबाहर स्थित इंदिरा कालोनी में अपने घर के पीछ फैक्ट्री का संचालन करते हैं। यहीं से तैयार खाद्य पदार्थों का वितरण किया जाता है।संचालक ने फैक्ट्री निर्माण की जानकारी विभाग को नही दी थी। छापामार कार्रवाई के समय फैक्ट्री में हाटल  कर्मचारी मौजूद थे। फैक्ट्री में पैस्ट्री समेत मिठाई से लेकर सभी खाद्य वस्तुओं का निर्माण होने की जानकारी मिली है। निर्माण कार्य और फैक्ट्री संचालक नियम विरूद्ध होने के कारण  सील कर दिया गया है।

                   खाद्य विभाग अधिकारी ने बताया कि वस्तुओं का सैम्पल भी लिया गया है। इस दौरान महेश स्वीट्स संचालक समेत परिवार के अन्य सदस्य भी मौजूद थे।

बंधक बनाने की अफवाह

कार्रवाई के दौरान अधिकारियों के फैक्ट्री में घुुसते ही गेट पर ताला लगा दिया। लोगों को जानकारी मिली कि फैक्ट्री के मजदूरों ने अधिकारियों को बंधक बना लिया है। मामले में खाद्य निरीक्षक विन्यराज ने बताया कि ऐसा कुछ नहीं हुआ। अधिकारियों को बंधक नहीं बनाया गया है। दरअसल कार्रवाई के दौरान किसी प्रकार की बाधा ना हो। इसलिए गेट को बंद किया गया। संचालकों ने शायद मीडिया की गतिविधियों से बचने के लिए गेट पर ताला लगा दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *