शिक्षा कर्मियों को कई महीने से नहीं मिला वेतन, हाहाकार की स्थिति, विकास राजपूत ने कहा अब प्रदर्शन जरूरी

रायपुर। नवीन शिक्षाकर्मी संघ के प्रदेश अध्यक्ष व शिक्षक पंचायत नगरीय निकाय मोर्चा के प्रान्तीय संचालक विकास सिंह राजपूत ने कहा है प्रदेश के लाखो शिक्षाकर्मियों को दिसम्बर व जनवरी माह का वेतन नही मिल पाया है और कारण है आबंटन का अभाव। आबंटन नही होने से प्रदेश के लगभग  एक लाख शिक्षाकर्मियों के घरो मे चूल्हा जलाने मे व परिवार के इलाज के लिए दूसरो पर आश्रित होना पड़ रहा है और दूसरे लोग भी अब कन्नी काटने का प्रयास कर रहे है,।ऐसे मे प्रदेश के शिक्षाकर्मी स्कूल छोड़कर सड़क पर अपने अपने ब्लॉक और जिला मे सड़क पर उतरने मजबूर हो गये है।

उन्होंने कहा कि वेतन नही मिलने से शिक्षाकर्मी आर्थिक व मानसिक रूप से कठिनाइयों के दौर से गुजर रहे है।अब तो नौबत यहाँ तक आ गया है बच्चे भी को भी मुख्यमंत्री से निवेदन करना पड़ रहा है कि मेरे पापा के साथ साथ सभी शिक्षाकर्मियों को जल्दी वेतन प्रदान करें।,वेतन नही मिलने से प्रदेश के शिक्षाकर्मी  अब अपने घर परिवार,पड़ोसी,दुकानदार को भी कुछ कहने की स्थिति मे नही है की वेतन कब तक मिलेगा।बड़ी ही विडम्बना है की एक ही स्कूल मे कार्य करने वाले नियमित शासकीय शिक्षक व शिक्षाकर्मी मे कितना अंतर है।
विकास सिंह राजपूत ने कहा कि ये भी प्रदेश के लोगों को समझना चाहिए नियमित शासकीय शिक्षको को माह के एक तारीख को ही वेतन का भुगतान हो जाता है। लेकिन शिक्षाकर्मियों को अपने ही किये कार्य के वेतन के लिए लम्बा इंतजार करना पड़ता है और वेतन की मांग को लेकर जिला/जनपद का घेराव….। यहाँ तक अब तो स्कूल के बाद सांकेतिक विरोध के लिए चना बूट भी बेचा जा रहा है। फिर भी शासन – प्रशासन को कोई फर्क नही पड़ रहा है। अब समय आ गया है की लाखो शिक्षाकर्मियों के परेशानी को देखते हुए शिक्षाकर्मी हित मे बने गठबंधन शिक्षक पंचायत नगरीय निकाय मोर्चा  के माध्यम से राज्य के राजधानी मे या जिला स्तर पर रणनीति बनाकर मोर्चा के माध्यम से सांकेतिक विरोध प्रदर्शन होना चाहिए। जिससे वेतन की समस्या से लाखो शिक्षाकर्मियों को निजात मिल सके। इस सम्बन्ध मे मोर्चा के अन्य संचालक गण से चर्चा कर आंदोलन कर विरोध प्रदर्शन सबके सहमति से जल्दी ही रणनीति  बने। ऐसा प्रयास किया जायेगा।
उन्होंने छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री से निवेदन किया है कि लाखो शिक्षाकर्मियों के वेतन के लिए जल्दी ही आबंटन जारी कर वेतन का भुगतान किया जाये। जिससे प्रदेश के शिक्षाकर्मी स्कूल छोड़कर सड़क पर उतरने फिर से बाध्य न हो।

धमधा में आबंटन जारी,लेकिन खजाने में पैसा नहीं.
मिली जानकारी के अनुसार दुर्ग जिले के धमधा विकासखण्ड में डेढ़ करोड़ के आबंटन के बाद भी भुगतान नही होने की वजह वित्त विभाग में कोष नही होने की वजह से भुगतान नहीं हो पा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *