पीड़ितों ने की थानेदार को हटाने की मांग..बताया आईपीएस मार रहे थे डायलाग…कहा अपने पर आऊंगा तो कोई नहीं बचेगा

बिलासपुर— सिरगिट्टी की महिलाओं ने आईजी कार्यालय पहुंचकर बताया कि साहब एक्सीटेन्ट के बाद लड़का खत्म हो गया। थानेदार साहब ने पहले पीटा फिर अपराधी भी बना दिया। आईजी साहब गरीबों पर रहम करो….इतना अन्याय हम लोग सहन नहीं कर सकेंगे। हमें थानेदार से मुक्ति दिलाओं..डायलाग मारने वाले अधिकारी से बचाओ। मैडम हम लोग गरीब हैं..अपराधी नहीं।

                           यह बातें आज तीन दर्जन से अधिक सिरगिट्टी की महिलाओं नेआईजी कार्यालय पहुंचकर कही।  यद्यपि महिलाओं की आईजी मुलाकात तो नहीं हुई। पुलिस प्रशासन की आलाधिकारी प्रतिभा तिवारी से न्याय की लिखित गुहार जरूर लगाई। महिलाओं ने बताया कि 3 फरवरी को शारदा मंदिर के सामने ट्रैक्टर से हमारा पांच साल का बच्चा चपेट में आ गया।  बच्चे की घटना स्थल पर ही मौत हो गयी। हम लोगों ने सिरगिट्टी पुलिस से न्याय की गुहार लगा रहे थे। लेकिन पुलिस ने लाठीचार्ज कर हम सबको बहुत पीटा। जख्म के निशान आज भी शरीर पर हैं। चाहे तो मुलायाजा भी करवा लें। लाठी चार्ज का विडियो भी हमारे पास है।

                     महिलाओं ने बताया कि पुलिस वाले बच्चे के शव को जबरदस्ती उठा ले गए। जब हम लोगों ने विरोध किया थानेादर ने लाठी चार्ज करवा दिया। उग्र विरोध को आप नेता सरदार जसबीर सिंह ने किसी तरह नियंत्रित किया। जसबीर ने समझाया कि चक्काजाम करने से लोगों को परेशानी हो रही है। पुलिस प्रशासन को लिखित शिकायत कर न्याय की मांग करें।

                महिलाओं के अनुसार हम लोगों ने पुलिस को एक्सीडेन्ट की लिखित शिकायत कर न्याय की मांग की। इस बीच आईपीएस उदित किरण ने माइक से एलान किया कि चक्काजाम ना करें। अन्यथा सबके खिलाफ कार्रवाई होगी। उन्होने हमारी लिखित शिकायत लेने के बाद न्याय का आश्वासन भी दिया।

                               आईजी कार्यालय में पुलिस महिला आलाधिकारी को लिखित आवेदन देकर महिलाओं ने बताया कि  घटना के तीन दिन बीत गए हैं। न्याय मिलना तो दूर उल्टे हम लोगों को धारा 341,147,294 का अपराधी बना दिया गया है।

             महिलाओं ने पुलिस अधिकारी श्रीमती तिवारी को बताया कि घटना के दौरान आईपीएस उदित किरण ने फिल्मी अंदाज में  जमकर डायलागबाजी की। उन्होने डायलागबाजी कर भीड़ को उकसाने का प्रयास किया। बार बार लाठीचार्ज की धमकी भी दी। माइक पर ऐलान किया कि यदि अपने पर आ गया तो सबको ठीक कर दूंगा। जबकि पुलिस का काम उकसाना नहीं समझाना है।

                      महिलाओं लिखित आवेदन में मांग करते हुए कहा कि एक्सीडेन्ट के बाद लाठीचार्ज किसके आदेश पर किया गया। मामले में गहन जांच की जरूरत है।लाठीचार्ज करने वाले थानेदार राहुल तिवारी को सिरगिट्टी से हटाया जाए। डायलाग बाजी कर माहौल को उत्तेजित करने वाले आईपीएस उदित किरण के खिलाफ भी सख्त कार्रवाई हो। इस दौरान अपनी पीड़ा को बताते हुए महिलाएं रो पड़ीं। महिला पुलिस अधिकारी ने लोगों की लिखित न्याय की गुहार को आईजी के सामने रखने का आश्वासन दिया। इस दौरान महिलाओं के साथ आप नेता जसबीर सिंग समेत अन्य कार्यकर्ता भी मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *