शिक्षाकर्मियों ने जलाया उम्मीदों का पुतला….कहा…बिना वेतन पढा़ना मजबूरी…लेकिन बिना पैसे नहीं मिलता पेट्रोल

सुरजपुर—तीन महीने से वेतन नहीं मिलने से नाराज सुरजपुर जिले के शिक्षाकर्मियों ने फूँका है। 12 वर्षों से सहायक शिक्षक पंचायत की पदोन्नति नही मिलने पर नाराज शिक्षाकर्मियों ने वेतन और पदोन्नति का  पुतला बनाकर जलाया आक्रोश जाहिर किया है। शिक्षाकर्मियों ने बताया कि आखिर अब सरकार ही बताए कि खाली पेट कैसे काम करें। तीन महीने से वेतन नही मिलने के कारण बंधुआ शिक्षक का जीवन जी रहे हैं। 12 साल से पदोन्नति का इंतजार करते आंखे और उम्मीदे दोनों पथरा गयी हैं। लेकिन सरकार शिक्षाकर्मियों के दुख को सुनने को तैयार नही है।

                      छत्तीसगढ़ पंचायत नगरीय निकाय शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष  की अगुवाई में अनोखा नाराज शिक्षाकर्मियों ने अनोखा पुतला जलाया है। छत्तीसगढ़ पंचायत नगरीय निकाय शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष सचिन त्रिपाठी ने बताया कि वेतन, पदोन्नति, एरियर्स की समस्याओं के बीच फँसा जिले का एक एक शिक्षाकर्मी निराश और हताश हो चुका है। बिना वेतन स्कूलों में शिक्षक उपस्थिति को लेकर कॉसमॉस की लगाम और अन्य कर्मचारियों को नई व्यवस्था से मुक्त रख शासन ने दोहरा मापदण्ड अपनाया। सरकार ऐसा कर शिक्षाकर्मियों के साथ साजिश कर रही है। इसलिए हम लोगों ने कभी न खत्म होने वाली  समस्याओं का पुतला जलाया है।

                 सचिन ने बताया कि बिना आबंटन वेतन नही तो बिना वेतन अध्यापन की बात प्रशासनिक कार्यवाही का आमंत्रण है। लेकिन विद्यालय जाने के लिये भी पेट्रोल के पैसे न हो तो इस स्थिति में शिक्षाकर्मियों की हालत शिक्षाकर्मी और उसका परिवार ही समझ सकता है।

                                       पुतला दहन के पहले शिक्षाकर्मियों ने जिला पंचायत अध्यक्ष, उपाध्यक्ष से लंबित समयमान वेतनमान, पुनरीक्षित वेतन, ग्रन्थपाल और शिक्षक पंचायत पदोन्नति के अनुमोदन का आग्रह किया। जिला पंचायत समान्य प्रशासन समिति अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, सभापति समेत अन्य सदस्यों ने एजेंडे के अनुमोदन पर विश्वास दिलाया। विरोध प्रदर्शन में जिला अध्यक्ष सचिन त्रिपाठी के अलावा माया सिंह,ममता मंडल, लक्ष्मी सिंह, आराधना कुशवाहा,सोमा घोष, विपिन पाण्डेय, सहादत अली ,गिरवर यादव, भुवनेश्वर सिंह,राकेश शुक्ला, मुकेश मुदलियार, विक्रम सिंह तोमर, सतीश साहू,मनोज कुशवाहा,कृष्णा सोनी, मो. महमूद, कमलेश यादव, पंकज सिंह, नवीन जान, चन्द्रदेव चक्रधारी,बोस प्रताप सिंह, राधे साहू, राजेश जायसवाल,विनय तिवारी, चंदन सिंह, रामजनम सिंह,अनुज राजवाड़े, राजाराम जगनारायण, ज्वाला प्रसाद, मो. मुख्तार, अनूप समेत अच्छी खासी संख्या में शिक्षाकर्मी मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *