छात्रावास वार्डन पर कार्रवाई…छात्रों की संयुक्त टीम ने किया घेराव…बनाया तत्काल कार्रवाई का दबाव

बिलासपुर— केन्द्रीय विश्वविद्यालय में छात्रों का धरना प्रदर्शन रूकने का नाम नहीं ले रहा है। सोंमवार को ब्रदरहुड पैनल और छात्र-परिषद की संयुक्त संगठन ने प्रशासनिक भवन का घेराव किया। कुलपति और कुलसचिव की अनुपस्थिति में प्रभारी कुलसचिव और अधिष्ठाता छात्र कल्याण के सामने बिन्दुबार मांग पत्र दिया। साथ ही मांगो को छात्र हित में तत्काल निराकरण करने की बात कही।

                   ब्रदरहुड पैनल और विद्यार्थी परिषद के छात्र नेताओं ने सोमवार को विश्वविद्यालय प्रशासनिक भवन का घेराव किया। संयुक्त प्रदर्शनकारी टीम ने प्रभारी कुलसचिव और अधिष्ठाता छात्र कल्याण के सामने बिन्दुवार मंग पत्र पेस किया। साथ ही छात्रों के हित में तत्काल कदम उठाए जाने  के लिए दबाव बनाया।

               छात्र नेताओं ने प्रभारी कुलसचिव एच.एन.चौबे और अधिष्ठाता छात्र कल्याण प्रो.एन.एन त्रिपाठी से कहा कि छात्रावास से निष्कासित विद्यार्थियों को पक्ष रखने का अवसर दिया जाए। कारणों की जानकारी इकठ्ठा कर छात्रावास के जिम्मेदार अधिकारियों पर सख्त कार्यवाही की जाए। इसके अलावा छात्रावास में निर्धारित मेनू के अनुसार छात्रों को भोजन की सुविधा हो। सभी छात्रावास में गुणवत्ता की जांच के लिए तत्कला शिक्षक और छात्रों की संयुक्त स्थायी कमिटी का गठन किया। प्रदर्शन करने वाली संयुक्त टीम ने कहा कि छात्रावास में जनरेटर,वाटर कुलर ,सफाई, रख-रखरखाव की समुचित व्यव की व्यवस्था प्रबंधन जल्द से जल्द करे.।

                 प्रभारी कुलसचिव  एच.एन.चौबे और अधिष्ठाता छात्र कल्याण ने छात्रों से कहा कि सभी मांगों पर ना केवल विचार किया जाएगा। बल्कि ठोस कदम भी छात्रहित में उठाए जांएंगे। प्रबंधन ने बताया कि कुछ मांगों  को तत्काल स्वीकृत कर दिया गया है।

                             छात्रों ने बताया कि यदि उनकी सभी मांगों को प्रबंधन ने गंभीरता से नहीं लिया तो कुलपति समेत ज़िम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ प्रदर्शन कर  इस्तीफा मांगा जाएगा।

              कुलसचिव और छात्र अधिष्टाता से मुलाकात के दौरान छात्र परिषद और ब्रदरहुड पैनल के नेता सिद्धार्थ शुक्ला मेघेन्द्र शर्मा, शैलेश कुमार पांडे,नितेश साहू, उदयन शर्मा ,विवेक शर्मा,शाश्वत सेन शुशोभित लाल अनुपात गुप्ता,मुकेश साहू,सचिन गुप्ता,घनेंद्र बंजारे, गौरव कपूर,गोपाल पटेल,सौरनाव जाना, आकाश यादव, सिद्धांत दुबे, समेत 150 से अधिक छात्र छात्राएं मौजूद थीं।

          सिद्धार्थ सुक्ला ने बताया कि छात्रों के दबाव में विश्वविद्यालय प्रबंधन ने स्वामी विवेकानंद बालक छात्रावास के रेजिडेंशियल वार्डन को तत्काल प्रभाव से हटा दिया गया है। महेश सिंह धपोला की नियुक्ति रेसिडेंशियल वार्डन की रूप में हुई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *