मस्ती की पाठशाला…झुग्गी के बच्चों ने सीखा ट्रैफिक का पाठ…किया धमाल…अचरज में डूबे लोग

बिलासपुर– वीकैन मस्ती की पाठशाला झुग्गी बस्ती तालापारा में लगी। झुग्गी झोपड़ी में रहने वाले बच्चों को वी कैन द मैजिक आफ 100 की टीम ने ट्रैफिक का पाठ पढ़ाया। टीम ने बच्चों के साथ धमाल भी मचाया। खान खाया…खेल खेल में बच्चों का ध्यान सामाजिक समस्याओं पर भी फोकस किया। इस दौरान बच्चों ने नुक्कड़ नाटक का जमकर आनन्द भी उठाया।की तरफ

                        वी कैन मैजिक आफ 100 की टीम तालापारा स्थित झुग्गी झोपड़ी में रहने वाले बच्चों के बीच पहुंची। टीम वी कैन के झोपड़ी की तरफ आते देख लोग अचरज में डूब गए। सबकी नजरे सवाल करने लगी कि आखिर लोग उनकी झोपड़ी की तरफ क्यो आ रहे हैं।

                     टीम सदस्यों के हाथों में बोर्ड था, बॉक्सेस थे, माइक था, खाने-पीने की चीजें थीं। टीम में सदस्यों की संख्या बहुत नहीं..बस कुछ गिने लोग ही थे। टीम वी कैन न कोई सरकारी संस्था है और न एनजीओ। दरअसल वी कैन शहर के लिए कुछ लोगों का अहसास और प्रयास है। चाहता है कि झुग्गी शहर का तथाकथित सभ्य समाज के लोग झोपड़ियों में जाएं और भागती दुनिया के तौर तरीकों को बताएं..जिसका संबध सामाजिक सरोकार से है।

                                         वी कैन की टीम कुछ ऐसा ही कर रही है। बच्चों को व्यावहारिक ज्ञान देने का काम कर रही है। उन बातों से परिचय करवा रही है जिससे आमतौर पर झुग्गी झोपड़ी में रहने वाले बच्चे अछूते रह जाते हैं। रविवार दोपहर तालापारा स्थित झुग्गी बस्ती में टीम वी.कैन ने नुक्कड़ नाटक का मंचन किया। टीम ने नुक्कड़ के माध्यम बच्चों को ट्रैफिक नियमों का पाठ पढ़ाया। हंसी मजाक के बीच टीम ने यह भी बताया कि ट्रैफिक नियमों का जीवन में कितना महत्व है। जीवन में हेलमेट, चौराहों की लाल पीली बत्ती जेब्रा सड़क के क्या मायने होते हैं। इन नियमों को का पालन जीवन को कितना सुरक्षित रखा जा सकता है। 

                 नुक्कड़ नाटक के बाद बच्चों के साथ वी कैन की टीम ने डांस किया। धमाल मचाने के बाद बच्चों ने फल का स्वाद चखा। इसके बाद कई प्रकार के लजीज पकवान का भी आनन्द उठाया। इस दौरान बच्चे काफी उत्साहित नजर आए। वी कैन’ मुहिम के सदस्य हार्दिक कक्कड़, भावल कक्कड़, रेणुका जानी, हर्ष जानी, योगेश, मीनल सचदेव, प्रियंका सचदेव समेत सभी ने बताया कि आयोजन के जरिए समाज की मुख्यधारा से कट रहे लोगों के बच्चों में शिक्षा का अलख जगाना है। खेल खेल में सामाजिक और विभिन्न गतिविधियों से परिचित कराना भी है।

                            टीम के सदस्यों ने बताया कि बच्चे वर्तमान समय के साथ खुद को ढाल सकें। मजदूर, कामगार के बच्चों का मनोरंजन करना भी वी कैन टीम का मकसद है।  ऐसा मनोरंजन जो सक्षम परिवार के बच्चों को ही हासिल है।

                                         तालापारा स्थित झुग्गी झोपड़ी के बच्चों के बीच स्कूल ऑफ ब्रॉडकास्टिंग की सौम्या तिवारी, शुभम प्रसाद,गौरव अलगमकर, बावी शेट्‌टी, सुमेधा, श्वेता मिश्रा, संस्कृति सिंह और आकांक्षा सिंह ने नुक्कड़-नाटक की प्रस्तुति दी। नुक्कड़ नाटक की टीम ने बताया कि अभियान पर कभी विराम नहीं लगेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *