कलेक्टर ने रोका 10 अफसरों का इंक्रीमेंट,सांसद/विधायक फंड के काम तीन साल थे से पेंडिंग

RAJESH-RANAबलौदा बाजार-भाटापारा।कलेक्टर राजेश सिंह राणा ने सांसद, विधायक निधि योजना के तहत स्वीकृत कार्यों  को तीन वर्षो से भी अधिक समय तक पेंडिंग रखने और कार्य शुरू नहीं करने के कारण जिले के छह जनपद पंचायतों के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों की दो-दो वेतन वृद्धि एवं एक नगर पालिका और तीन नगर पंचायत के मुख्य नगर पालिका अधिकारियों की एक-एक वेतन वृद्धि रोकने के आदेश जारी किए है। जिन अधिकारियों के वेतन वृद्धि रोकने के आदेश जारी किए गए है उनमें मुख्य कार्यपालन अधिकारी बलौदा बाजार के किरण कौशिक, भाटापारा के बी.पी.नायक, सिमगा के रवि कुमार, पलारी के वैभव कुमार, कसडोल के नरेन्द्र पैकरा, बिलाईगढ़ के संदीप ठाकुर।मुख्य नगर पालिका अधिकारी भाटापारा के जफर खान, नगर पंचायत सिमगा के मुख्य नगर पालिका अधिकारी जे.पी.पाण्डेय, लवन के टी.आर.चौहान और भटगांव के  डी.एल.बर्मन शामिल है।

कलेक्टर राजेश सिंह राणा द्वारा इन अधिकारियों को सांसद विधायक निधि के तहत स्वीकृत निर्माण कार्यो को पूरा करने के लिए समय-समय पर बैठक आयोजित कर निर्देशित किया जाता रहा है। किन्तु एजेन्सियों द्वारा निर्माण कार्यों को पूर्ण कराने में रूचि नहीं लेने के कारण अनेक कार्य तीन वर्षो से भी अधिक समय से लंबित है और शुरू भी नहीं हो पाए हैं। लंबे समय से कार्य शुरू नहीं होने के कारण सांसद निधि के 14 एवं विधायक निधि के 77 कार्यों की स्वीकृति निरस्त करना पड़ा है। कार्य एजेन्सियों द्वारा प्रतिवेदन मांगा गया था लेकिन एजेन्सियों द्वारा प्रतिवेदन प्रस्तुत नहीं किया गया। कार्य एजेन्सियों द्वारा निर्माण कार्यो को करने में रूचि नहीं लेने के कारण उक्त अधिकारियों के वेतन वृद्धि रोकने के आदेश दिए गए है। भारत शासन एवं छत्तीसगढ़ शासन द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के अनुसार सांसद, विधायक निधि योजना के निर्माण कार्यो को एक अथवा दो सीजन में पूर्ण करना होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *