व्हाइट टाइगर का निधन…रविवार को गृहग्राम में अंतिम संस्कार….श्रीनिवास को श्रद्धांजली देंगे दिग्गज नेता

sriniwas-tiwariबिलासपुर– मध्यप्रदेश के पूर्व विधासभा अध्यक्ष कांग्रेस नेता श्री निवास तिवारी की 93 साल की उम्र में निधन हो गया है। श्री तिवारी बिमार थे..नई दिल्ली में उपचार के दौरान उनकी मौत हुई है। तिवारी को राजनीति की दुनिया में लोग प्यार से व्हाइट टाइगर भी कहते थे। श्री तिवारी के पुत्र सुंदर लाल तिवारी गुढ से विधायक हैं। कांग्रेस नेताओं ने श्रीनिवास तिवारी की मौत पर गहरा दुख जाहिर किया है।
                                      तिवारी के निधन पर मध्यप्रदेश विधानसभा नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने गहरा दुख जाहिर किया है। उन्होने कहा कि श्रीनिवास तिवारी मनगवां विधानसभा से सात बार एमएलए रह चुके हैं। श्री तिवारी को सांस की गंभीर स्थिति को देखते हुए संजय गांधी मेमोरियल हास्पीटल रीवा में मंगलवार को भर्ती किया गया था। इसके बाद उन्हें सतना फिर एयर अम्बुलेन्स से नई दिल्ली स्थित एम्स में भर्ती कराया गया।
             मध्यप्रदेश कांग्रेस कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार श्री तिवारी के शरीर को शनिवार को नई दिल्ली से विमान से सतना लाया जाएगा। इसके बाद सड़क के रास्ते शव को रीवा लाया जाएगा। रविवार को श्री तिवारी के शरीर को उनके गृहग्राम तिवनी जिला रीवा सुबह दस बजे लाया जाएगा। अंतिम यात्रा के दौरान देश और मध्यप्रदेश के सभी प्रमुख कांग्रेस नेता शामिल होंगे। उम्मीद है कि पूर्व मुख्यमंत्री दिग्गविजय सिंह भी अंतिम यात्रा में शामिल होंगे।
                    मालूम हो कि विन्ध्य क्षेत्र में 1960 के दशक में समाजवादी आंदोलन के दौरान श्रीनिवास तिवारी और शत्रुघ्न तिवारी का नाम सम्मान से लिया जाता है। पहली बार श्रीनिवास तिवारी 1972 में पहली बार विधानसभा में समाजवादी पार्टी के बैनर तले चुनाव जीतकर आए। इसके बाद सभी समाजवादी पार्टी के नेताओं ने कांग्रेस में शामिल हो गए। मोतीलाल वोरा और श्रीनिवासी तिवारी भी कांग्रेस में प्रवेश लेने वालों में से एक थे।
                         श्रीनिवास तिवारी 1977, 1980,1990,1993क,1998 में कांग्रेस पार्टी के बडे नेता थे। और चुनाव जीतकर विधानसभा पहुंचे। 24 दिसम्बर 1993 से 11 दिसम्बर 2003 तक मध्यप्रदेश विधानसभा के अध्यक्ष बने।
           राजनीति की दुनिया में लोग उन्हें व्वाइट टाइगर के नाम से जानते हैं। शरीर के बाल पूरी तरह से सफेद थे। यहां तक की मूछ और भौंहे भी सफेद थी।  उनका प्रमुख लिबास धोती और कुर्ता था। दिग्विजिय सिंह के मुख्यमंत्रित्व काल में श्रीनिवास तिवारी का भी पैरलल शासन था। श्री तिवारी ने विधानसभा अध्यक्ष रहते हुए पद को गरिमा तक पहुंचाया।
             जानकारों के अनुसार श्रीनिवास तिवारी का विधानसभा कार्यकाल काफी विवादास्पद था। भारतीय जनता पार्टी सरकार के कार्यकाल में उन पर कई प्रकार के आरोप लगाए गए। फरवरी 2015 शिवराज सिंह चौहान सरकार ने दिग्विजय सिंह और श्रीनिवास तिवारी के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराया। विधानसभा में भर्ती अभियान में अनियमितता का आरोप लगाया गया। लेकिन अन्त तक चार्जशीट दाखिल नहीं किया जा सका।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *