शिक्षाकर्मियों से डर गयी सरकार…? नेता ने कहा…लोकसुराज में संविलियन का जिक्र…ज्यादा से ज्यादा करें आवेदन..

AMIT NAMDEVबिलासपुर— सरकार संविलियन की मांग को एक सिरे से खारिज कर चुकी है। खुद मुख्यमंत्री कह चुके हैं कि संविलियन ना कभी हुआ और ना होगा। बावजूद इसके लोक सुराज अभियान में संविलियन की मांग को लेकर सर्वाधिक आवेदन भरे गए हैं। लोकसुराज अभियान में संविलियन मांग को लेकर भरमार आवेदनों से शिक्षाकर्मियों में उम्मीद किरण दिखाई दी है। कुछ शिक्षाकर्मियों ने तो शिक्षा विभाग के सामने एक बार फिर संविलियन की मांग रखने का मन बना लिया है।

                       प्रदेश में शुक्रवार 12 जनवरी से 14 जनवरी के बीच लोकसुराज अभियान के पहले चरण में लोगों से आवेदन लिए गए। लोक सुराज अभियान में आवेदन के अलग-अलग प्रारुप में कंडिका एक में “शिक्षाकर्मियों को शिक्षा विभाग में संविलियन ” का भी प्रश्न रखा गया है। शिक्षाकर्मी नेता अमित नामदेव ने बताया कि इससे जाहिर होता है कि सरकार शिक्षाकर्मियों की संविलियन मांग को लेकर अभी भी गंभीर है। अमित ने बताया कि लोक सुराज अभियान के आवेदन कंडिका नंबर-162 में एक कालम दिया गया है। कालम में शिक्षाकर्मियों का शिक्षा विभाग में संविलियन की मांग को लेकर आवेदन किया जा सकता है।

               अमित ने बताया कि आवेदन में शिक्षाकर्मियों की शिक्षा विभाग में संविलियन के अलावा स्कूल में बाउंड्री वाल का भी जिक्र है। 10वीं-12वीं परीक्षा केंद्र खोलवाने, उच्च प्राथमिक शाला में प्रयोगशाला बनवाने, कन्या हॉस्टल के लिए गार्ड, शिक्षाकर्मियों का संविलियन, इंग्लिश शिक्षक की मांग, शाला मरम्मत जैसी मांगों को लोकसुराज अभियान के आवेदन में रखा गया है।

                                    नामदेव ने बताया कि शिक्षाकर्मियों की शिक्षा विभाग में संविलियन के लिए आवेदन मांग फिलहाल समझ से परे है। जबकि सीएम ने खुद बयान दिया है कि शिक्षाकर्मियों का संविलियन किसी भी सूरत में नहीं हो सकता है। बावजूद इसके आवेदन में संविलियन का प्रश्न शामिल होने से यह जाहिर होता है कि सरकार संविलियन की मांग को पूरी तरह से नजरअंदाज नहीं किया है। लोक सुराज में मिले आवेदनों का शत प्रतिशत निराकरण का दावा करने वाली रमन सरकार शिक्षाकर्मियों की संविलियन मांग को कैसे पूरा करेगी…सोचने वाली बात है। यदि सरकार ने संविलियन की मांग को पूरा नहीं की तो सारे दावों की कलई भी खुल जाएगी।

                       नवीन शिक्षा कर्मी संघ प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य अमित कुमार नामदेव ने बताया कि प्रदेश के सभी शिक्षाकर्मी स्मार्ट फोन से लोकसुराज में शिक्षक पंचायत सँवर्ग के संविलियन आवेदन को जरूर भरें। हितैषी जनता को भी संविलियन आवेदन भरने की अपील करें। परिचित,रिश्तेदारों और दोस्तों को संविलियन कालम भरकर आवेदन जमा करने को कहें।

                                             अमित नामदेव ने कहाँ कि सरकार की तरफ से मौका दिया गया है। लोग आवेदन के जरिये संविलियन की मांगों को सरकार तक पहुंचाएं। ज्यादा से ज्यादा संख्या में आवेदन भरें और भरवाएं। उम्मीद है कि सरकार हमारी मांगों पर विचार करेगी। कार्यकाल का यह अंतिम सुराज अभियान है। सरकार सुराज अभियान के आवेदनों को गंभीरता से लेगी।

       चौथी पारी की तैयारी कर रही सरकार शायद अब रक्षात्मक मूड में है। सरकार को शायद अहसास हो गया है कि प्रदेश के सबसे बड़े शिक्षक पंचायत संवर्ग की नाराजगी को लेना ठीक नही है। शायद इसलिए ही लोकसुराज अभियान के आवेदन में शिक्षाकर्मियों के संविलियन के प्रश्न को रखा गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *