किसने कहा-विवादित जमीन पर बने मंदिर,ऐसे स्थानों में नमाज वर्जित,बंद हो जाएगी सियासतदानों की दुकान

rizvi_jccरायपुर—जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ मीडिया प्रमुख इकबाल अहमद रिजवी ने अयोध्या मंदिर और बाबरी मस्जिद पर देशवासियों को संयम और धीरज से काम लेने को कहा है। प्रेस नोट जारी कर रिजवी ने बताया है कि भारत की धरती गंगा जमुनी संस्कृति का उत्कृष्ट उदाहरण है। सहिष्णुता और विशाल हृदय भारत की पहचान है। विभिन्न देशों की सभ्यताएं आती गयी और भारत के मोहपाश में बंधकर एक हो गयी। अनेकता में एकता भारत की पहचान है। इस बात को लेकर हमें गर्व भी है।प्रेस नोट जारी कर जनता कांग्रेस नेता इकबाल रिजवी ने कहा है कि राम जन्मभूमि और बाबरी मस्जिद का मुद्दा जब भी उठता है हमारे भाई चारे और आपसी सदभाव की आहुति लेकर ही शांत होता है। यह जानते हुए भी दंगा फसाद को अल्लाहताला भी नापसंद करते हैं। रिजवी ने बताया कि जिस देश में लोगो का लालन पालन मंदिर की घंटियों की मधुर ध्वनि और मस्जिद की अजान के बीच हो।
यह भी पढे- पद्मावती की रिलीज में देरी पर IMPPA ने लगाया ये आरोप
बालसंप्रेक्षण गृह की नाबालिग लड़की गायब…24 घंटे बाद पुलिस से शिकायत…महिला कर्मचारी ने दी खबर नहीं छापने की धमकी..
उस देश के लोग केवल तारीफ के काबिल ही होते है। बावजूद इसके कुछ तंग नजरिया के लोग खूबसूरत रिश्ते को तहस -नहस करने पर अमादा है।हमें संयम और धीरज से काम लेना होगा।  जिस काम के करने से आपस में इख्तलाफ और फसाद हो उसे अल्लाहताला ने सख्ती से मना फरमाया है। रिजवी के अनुसार मंदिर मस्जिद का मसला नाजुक है। यही कारण है कि सुप्रीम कोर्ट ने इसे अदालत के बाहर आपसी समझबूझ से हल करने का सुझाव दिया है। कर्तव्य बनता है कि सभी पक्ष मिल बैठ फैसला करे जो सभी को मान्य हो। ताकि आने वाली नस्लों को घृणा और द्वेष रहित भारत में सांस लेना  नसीब हो।



रिजवी ने बताया कि अयोध्या हिन्दू भाईयों के लिए आस्था और भगवान श्रीराम के प्रति अपार प्रेम का प्रतीक है। ऐसे में सभी हिन्दू मुस्लिम भाईयों को बड्प्पन दिखाना होगा। विवाद को हमेशा के लिए दफन करने विवादित भूमि को हिन्दू भाईयों को तत्काल सौंप देना चाहिए।रिजवी ने कहा कि यह स्थान दोनो धर्मो के बीच विवाद का कारण है । इस्लाम में विवादास्पद जगह पर नमाज अदा करना जायज नहीं माना गया है। कुछ आतंकवादी संगठनो ने इस्लाम की आक्रामक छबि पेश कर मजहब को बदनाम किया है। इसे दुरूस्त करना मुसलमानो की ही जिम्मेदारी है। हमे सब्र और सौहाद्र का दामन नहीं छोड़ना है। हिन्दू भाईयो के सनातन धर्म को धैर्य का पर्यायवाची माना जाता है।
सरकार की जिम्मेदारी बनती है कि मुस्लिम भाईयों के लिए अयोध्या मे ही कुछ दूरी पर जमीन उपलब्ध कराए। जमीन पर एक मस्जिद, एक अस्पताल और एक यूनिवर्सिटी बनाया जाए। आनेवाली नस्ल जहां भविष्य को संवार सके। नफरत की आंधी रोकने का यह एक नायाब तरीका होगा । अयोध्या  मसले पर सियासत की पैठ है। अयोध्यावासी सियासत को बाहर कर मंदिर मस्जिद का हल निकालें। राजनेताओं को समझौते से दूर रखें। यदि ऐसा कर लिया गया तो स्वार्थसिध्दी के लिए समस्या को जीवित रखने वाले सियासतदानो की दुकाने खुद-ब-खुद बंद हो जायेगी।




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *