संकल्प से बनेगा सशक्त भारत—- अमर अग्रवाल

IMG_20150620_215459

बिलासपुर—- सरकार कानून बना सकती है। मंत्री कानून पालन के लिए आदेश दे सकता हैं। आदेश पर अमल करना आपका काम है। सरकार आती है और जाती है। मंत्रियों के चेहरे बदलते रहते हैं। सब कुछ अस्थायी है। यदि कुछ स्थायी है तो वह है देश। देश को सशक्त और नैतिक रूप से मजबूत बनाने के लिए संकल्प का होना बहुत जरूरी है। ये बातें लायंस शपथ ग्रहण समारोह के दौरान प्रदेश के निकाय,वाणिज्य एवं कर ,उद्योग मंत्री ने कही।

                   शपथ ग्रहण  के बाद अपने उद्बोधन में नवनिर्वाचित पदाधिकारियों को बधाई देने के बाद अमर अग्रवाल ने कहा कि दबाव में कोई काम कराया तो जा सकता है लेकिन खुशी नहीं मिलती है। जब तक स्वस्फूर्त कोई काम ना हो तो परिणाम भी बहुत अच्छा नहीं होता। योजनाएं बनती है और लोग दबाव में काम करते हैं। परिणाम भी आता है लेकिन उतनी खुशी नहीं मिलती जो अन्दर तक महसूस हो। स्वचेतना के बाद ही सामाजिक सुधार हुआ है। कई बार देश का इतिहास बदला है लेकिन भूगोल हमेशा स्थायी रहा है। योग भी उसी कड़ी का एक हिस्सा है। इसके पालन में कानून बनाया तो जा सकता है। लेकिन परिणाम बहुत ज्यादा उत्साहित करने वाला नहीं होगा। जब तक हम नैतिक रूप से दृढ़ और संकल्पवान नहीं होगें तब तक भारत को नई ऊंचाई भी मिलेगी। इस ऊंचाई और सम्मान के लिए हमें योग को अपनाना ही होगा। वह भी स्व-स्फूर्त।

                     अमर अग्रवाल ने कहा कि सामाजिक पुनरूत्थान के लिए संकल्पवान होना जरूरी है। लोग कहते हैं कल झाड़ू लगाए थे आज प्रधानमंत्री योग की क्लास ले रहे हैं। कल कुछ और करेंगे। कई लोग तो अब इसे राजनीति के चश्मे से भी देखना शुरू कर दिया है। सच्चाई तो यह है कि प्रधानमंत्री मोदी योग और साफ सफाई के बहाने देश को सामाजिक दायित्वों से परिचय करवा रहे हैं। लोगों को अन्दर से जगा रहे हैं। जब तक हम अपने दायित्वों से परिचित नहीं होंगे तब तक भारत मजबूत नहीं बन सकता है। योग भारतीय संस्कृति का अभिन्न हिस्सा है। यही कारण हैं कि हम आज तक वैसे ही हैं जैसे कभी हुआ करते थे। मंत्री ने कहा कि अब आने वाला समय भारत का है। योग ही हमें शीर्ष पर स्थापित करेगा। कार्लमार्क्स को मनाने वाले पश्चिमी देश आज साधन संपन्न जरूर हैं लेकिन उन्हें आंतरिक और नैतिक खुशी आज तक हासिल नहीं हुई है। अब उन्हें मालूम हो गया है कि योग ही जीवन की खुशी का सबसे बड़ा खजाना है। जिसका परिणाम आज यह है कि पूरा विश्व 21 जून को अंतरर्राष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मना रहा है। यदि धन संपदा सब कुछ होता तो पश्चिमी देश योग की तरफ आकर्षित नहीं होते।

                     अमर ने बताया सरकार को जितना करना चाहिए कर रही है। लेकिन सामाजिक सुधार केवल योग से ही संबव है। अब समय आ गया है कि लोग खुद के साथ देश को संवारे तभी समाजिक सुधार होगा। तब कहीं जाकर हमें सशक्त भारत मिलेगा। उन्होंने कहा कि आज तक जो भी सामाजिक सुधार हुए हैं उसमें  स्वस्फूर्त की भावना प्रमुख है। अमर अग्रवाल ने कहा आने वाला समय राइट टू हेल्थ का है। शिक्षा में बहुत सुधार हुआ और होता रहेगा। स्वास्थ्य क्षेत्र में भी ऐसा ही होगा। लेकिन राइट टू हेल्थ को लेकर जब लोगों में जागरूकता आएगी व्यक्ति के साथ-साथ देश भी जागरूक हो जाएगा। धीरे-धीरे ही सही लेकिन ऐसा होगा। प्रधानमंत्री मोदी ऐसा ही चाहते हैं कि लोग अपने स्वास्थ्य और संस्कृति के प्रति जागरूक हों। योग उसी दिशा में चला गया एक महत्वपूर्ण प्रयास भरा कदम है। खुशी होती है कि इस कदम को विश्व समुदाय ने हाथों हाथ लिया है।

                 अतिथि संबोधन से पहले अमर अग्रवाल और महापौर किशोर राय की उपस्थिति में लायन राजेन्द्र तिवारी ने अध्यक्ष पद के लिए लायन गुरदीप सिंह अजमानी,सचिव पद के लिए लायन चरणजीत सिंह गंभीर के अलावा कोषाध्यक्ष पद की शपथ दिलाया। मंच पर विशेष रूप से निवर्तमान सचिव हर्ष पाण्डेय भी उपस्थित थे। उन्होंने समाज के प्रति लायन्स क्लब की उपयोगिता और उत्तरदायित्व को लेकर प्रतिवेदन भी पढ़ा। लायंस क्लब के नव निर्वाचित अध्यक्ष लायन गुरदीप ने अतिथियों के स्वागत में भाषण दिया। सामुहिक राष्ट्रगान के पहले लायन्स क्लब के पदाधिकारियों ने मुख्यअतिथि अमर अग्रवाल और विशिष्ट अतिथि महापौर किशोर राय को स्मृति चिन्ह भेंट किया।

Comments

  1. Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *