बेटी खिलाओं..नाम रोशन करेगी-सोनमणि बोरा

IMG-20170128-WA0009   बिलासपुर— बिटीया खेलेगी…तो देश समाज का नाम रोशन होगा…इसे इत्तफाक कहें या नियति कि आलपिंक में मेडल दिलाने वाली हमारी बेटियां है…इसलिए हमने बेटी पढ़ाओं बेटी बढाओं के नारा में बेटी खिलाओ भी जोड़ा है…। हमें अपनी बेटियों पर गर्व है। उन्हें खेलने का ज्यादा से ज्यादा अवसर दें। बेटियों ने देश और समाज का नाम रोशन किया है। हाफ मैराधन 19 फरवरी को रायपुर में आयोजित किया जाएगा। इसमें देश दुनियां के नामी गिरामी एथलेटिक्श शामिल होंगे। इसमें एक नाम उड़न सिख्ख मिल्का सिंह का भी नाम होगा। हाफ मैराथन में दक्षिण अफ्रिका के नामचीन धावक भी शिरकत करेंगे। यह बातें खेल एवं युवा कल्याण मंत्रालय सचिव सोनमणि वोरा ने आज बिलासपुर में पत्रकारों से कही।

                             पत्रकारों को सोनमणि वोरा ने बताया कि 19 फरवरी को रायपुर में हाफ मैराथन का आयोजन किया जाएगा। उम्मीद है कि 25 हजार से अधिक लोगों हाफ मैराथन में शिरकत करेंगे। अभी तक तीन हजार से अधिक आनलाइन पंजीयन किया जा चुका है। हाफ मैराथन में दुनिया के नामचीन धावक शामिल होंगे। उड़न सिख्ख मिल्का सिंह भी उपस्थित रहेंगे। खेल सचिव सोनमणि वोरा ने बताया कि हाफ मैराथन उम्र और शारीरिक दक्षता के अनुसार 13 समूहों में आयोजित किया जाएगा। टाफ फिफ्टी आने वालों को भी सम्मानित किया जाएगा। पहला,दूसरा और तीसरा पुरस्कार तीन,दो और एक लाख का होगा। हाफ मैराथन में भाग लेने वाले सभी खिलाड़ियों को सरकार रहने खाने और अन्य सुविधाएं देगी।

                        पत्रकारों को खेल मंत्रालय सचिव ने बताया कि बिना युवाओं की भागीदारी के कोई भी काम संभव नहीं है। इसलिए हमने खेलो इंडिया अभियान चलाया है। राष्ट्रीय स्वच्छता अभियान भी युवाओं के सक्रिय भागीदारी के बिना संभव नहीं है। इसलिए खेलो इंडिया अभियान चलाकर हम युवाओं को लगातार सक्रिय कर रहे हैं। खेल राष्ट्रीय भावना को पोषित करता है। जिन्दगी को खेल की तरह लेने वाले हमेशा प्रसन्नचित और सकारात्मक सोच रखते है। हाफ मेैराथन भी इसी का हिस्सा है। खिलाड़ी हमेंशा तैयारी में रहता है। तैयारी के बहाने लक्ष्य पर नजर रखता है। खेलो इण्डिया का उद्देश्य “बी रेडी” होना है। बोरा ने बताया कि अनेकता में एकता भारतीय संस्कृति की विशेषता है। ठीक उसी तरह एक भारत श्रेष्ठ भारत भी हमारी सोच है। ऐसा केवल युवाओं से ही संभव है। विभिन्न धर्म,कला,संस्कृति के लोग एक साथ आएंगे तो भारत की एकता और श्रेष्ठता देखते ही बनेगी।

                                     सोनमणि बोरा ने बताया कि मैराथन केवल यूथ के लिए ही नहीं है बल्कि खेलो इंडिया का हिस्सा IMG-20170128-WA0004पचास साल से ऊपर के भी जवान भाग लेंगे। सभी दिव्यांगजन विभिन्न प्रकार के खेलों में भागीदारी करेंगे। रिकार्ड बताते हैं उपलब्धियों में उम्र और शारीरिक कमियां कभी बाधा नहीं रही है। दिव्यांगों के साथ सभी खिला़डियों के लिए शर्तें निर्धारित की गयी हैं।बोरा ने कहा कि शायद यह देश का पहला आयोजन है जिसे सरकार ने आयोजित किया है। इसमें दुनिया के नामचीन एथलिट शामिल हो रहे हैं। प्राइज मनी के हिसाब से भी 19 फरवरी को आयोजित होने वाला हाफ मैराथन देश का सबसे बड़ा आयोजन है।

                                                सोनमणि बोरा ने एक सवाल के जवाब में बताया कि हमारा प्रयास है कि रायपुर हाफ मैराथन देश का ऐसा पहला आयोजन बने जिसमें खेल क्षेत्र की संस्थाओं के अलावा,पद्म पुरस्कार,अर्जुन अवार्डी,द्रोणाचार्य और अन्य खेल पदकों से सम्मानित लोगो की भागीदारी हो।

                                                 खेल क्षेत्र में आधारभूत संरचनाओं के सुधार के सवाल पर सोनमणि बोरा ने बताया कि जल्द ही छत्तीसगढ़ में खेल प्राधिकरण का गठन अंतिम चरण में है। पिछले साल 29 अगस्त को मुख्यमंत्री ने एलान भी किया है। खेल प्राधिकरण बन जाने से अधोसरंचना के रखरखाव में आसानी होगी। विभिन्न खेल संस्थानों का एक अम्ब्रेला में लाया जाएगा। काम तेजी से हो रहा है।बोरा ने बताया कि मुख्यमंत्री महोदय ने खेल विश्वविद्यालय बनाने की बात कही है। खेल विश्वविद्यालय बहुत बड़ा सेअप होता है। लेकिन हम ऐसा जरूर करेंगें। हो सकता है कि देश के एक मात्र खेल विश्वश्वविद्यालय मणिपुर का एक सेंटर छत्तीसगढ में शुरू करें। बाद में उसका विकास करें। बोरा ने कहा कि पिछले एक साल में प्रदेश खेल नियमों में सकारात्म बदलाव किया गया है। खिलाड़ियों के लिए अलग से मुख्यमंत्री ट्राफी दिए जाने के एलान किया है। मुख्यमंत्री ट्राफी एकल और संयुक्त टीम को दिया जाएगा।बोरा ने बताया कि खेल को बढ़ावा देने लगातार काम हो रहा है। प्रदेश में बैक टू बैक खेल का आयोजन किया जा रहा है। प्रशासनिक अधिकारियों भी खेल सक्रिय हिस्सेदारी कर रहे हैं।

           IMG-20170128-WA0008        बोरा ने बताया कि बहतराई स्टेडियम अब अंतिम चरण में है। सेटअप की अनुमति मिल गयी है। भर्ती भी जल्द ही कर लिया जाएगा।बोरा ने बताया कि बहतराई स्टेडियम पुूरी तरह से तैयार होने के बाद यह रायपुर से भी बेहतर इंडोर और आउटडोर स्टेडियम होगा। खेल मंत्रालय ने सभी आर्थिक परेशानी को शार्ट आउट कर लिया है। निकाय मंत्री से हमें 6 करोड़ रूपए मिले हैं। कुल 11 करोड़ की लागत से स्टेडियम को बेहतर बना लिया जाएगा। रोड भी बनकर तैयार हो जाएगा।बोरा ने दावा किया कि स्टेडियम तैयार होने के बाद रायपुर से हर मामले में बेहतर होगा।

                             बोरा ने बताया कि शिवतराई तीरंदाजी केन्द्र को शासन ने उपकेन्द्र बनाने का एलान कर दिया है। खिलाड़ियों की सुख सुविधाओं को ध्यान में रखकर 24 लाख का बजट भी घोषित कर दिया गया है। शिवतराई केन्द्र के तीरंदाजों को बहतराई स्थित मुख्य केन्द्र में प्रशिक्षित किया जाएगा।बोरा ने बताया कि प्रयास किया जा रहा है कि बिलासपुर में बहतराई स्टेडियम के अलावा एक और मल्टीफंक्शनल स्टेडियम बनाया जाए। जिसमें टेनिस समेत अन्य खेलो की राष्ट्रीयस्तर की सुविधाएं हो।

                         प्रेसवार्ता के दौरान खेल एवं युवा मंत्रालय सचिव सोनमणि बोरा ने खेलों के प्रति पुरजोर समर्थन के लिए मौके पर उपस्थित कलेक्टर अन्बलंगन पी.को धन्यवाद दिया। उन्होने बताया कि कलेक्टर महोदय ने शिवतराई को तीरंदाजी का उपकेन्द्र बनाने और बहतराई स्टेडियम को प्रदेश का सबसे अच्छा खेल केन्द्र बनाने का भरपूर सहयोग दिया है।

Comments

  1. By Vishnu shrivastava

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *