देश को आजादी धर्म या किसी पार्टी से नहीं..भारतीयों से मिली-धरम

dlk_new(भास्कर मिश्र)बिलासपुर।पिछले बारह-तेरह सालों में भारतीय जनता पार्टी सरकार ने प्रदेश के एक एक नागिरक को रोटी,कपड़ा और मकान की चिंता से बाहर निकाला है। रमन सरकार शिक्षा, स्वास्थ्य और आधारभूत संरचना के विकास को प्राथमिकता से ले रही है। पहले भी था। सूखा पढ़ने के बाद प्रभावित मजदूर किसानों और गरीबों तक तेजी से राहत पहुंचाने का काम डॉ.रमन सिंह की सरकार ने किया है।कांग्रेस अंतर्कलह की शिकार है। संगठन और अनुशासन नाम की कोई चीज ही नहीं है। देश को किसी एक जाति,धर्म या पार्टी के योगदान से नहीं बल्कि भारतीयों की सम्मलित भूमिका के बाद आजादी मिली है। विश्व के किसी भी देश का शायद ही ऐसा कोई नागरिक हो जिसे अपने मातृभूमि से प्यार ना हो। जिस मिट्टी में पैदा हुए हैं। उसकी जय बोलने से गर्व महसूस होना चाहिए। लेकिन सस्ती राजनीति करने वालों को यह सब रास नहीं आ रहा है। सीजी वाल से बातचीत में यह बातें छत्तीसगढ़ भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष धरम लाल कौशिक ने कही। पेश है लम्बी बातचीत के कुछ अंश…

सीजीवाल-आज माहौल देखकर..नहीं लगता कि चौथी बार भाजपा की सरकार बनेगी। जबकि भाजपा का दावा है कि हमेशा चुनाव के लिए तैयार है…

DLK7जवाब— छत्तीसगढ़ गठन के बाद प्रदेश में कांग्रेस की मनोनित सरकार थी। मात्र तीन साल में कांग्रेस सरकार की रूख को जनता ने भांप लिया। वागड़ोर डॉ.रमन सिंह को थमा लिया। उनकी कार्यशैली और लोगों के प्यार ने भाजपा को तीसरी बार सरकार बनाने का मौका दिया। सरकार बनाने के बाद डॉ.रमन सिंह ने सिंचाई,स्वास्थ्य,शिक्षा और आधारभूत संरचना पर बल दिया है। किसानों और मजदूरों की आर्थिक स्थिति में सुधार हुआ है। मुख्यमंत्री बनते ही डॉ.रमन सिंह ने गांव गांव तक विकास की धारा को बहाया है। इसलिए संशय का सवाल ही नहीं है..कि चौथी बार भी प्रदेश में भाजपा की सरकार बनेगी। क्योंकि सरकार बनाने का अर्थ जनता की सेवा करना है।

सीजीवाल-हर चुनाव में कांग्रेस और भाजपा के बीच फासला कम हुआ है । आप चौथी बार सरकार बनाने का दावा कैसे कर सकते हैं।

जवाब—यह सच है कि फासला कम हुआ है। राज्य गठन के बाद पहले चुनाव में वोट और सीट का फासला कमोवेश वैसा ही था जैसा तीसरी बार सरकार बनाते समय हुआ। बावजूद इसके हम अच्छी तरह जानते हैं कि यह फासला कोई मायने नहीं रखता। तब..जब हमें सीट अधिक मिलें और हमारे काम को जनता पसंद करें। लेकिन यह भी सच है कि पिछले बारह सालों में प्रदेश में जितना काम हुआ है..उतना किसी अन्य राज्यों में देखने को नहीं मिलेगा। जनता से हमारा लगातार संवाद रहता है। जनआकांक्षाओं के अनुसार काम किया जा रहा है। हर तरह विकास की बयार है। चौथी बार जीत में संशय का सवाल ही नहीं उठता।

सीजीवाल-इस बार मतलब.. चौथी बार आप जनता के बीच किन मुद्दों को लेकर जाएंगे। यानि आपका मुद्दा क्या होगा…।

DLK3जवाब—रोटी,कपड़ा और मकान का मुद्दा हो ही नहीं सकता। सरकार के प्रयास से लोगों का जीवन स्तर ऊंचा हुआ है। हां अब राज्य और केन्द्र सरकार गरीबों के लिए बेहतर सुविधा वाले मकान बनाने का निर्णय लिया है। पिछले 12 सालों से एनीकट बनाकर पानी संरक्षण का काम किया है। स्वास्थ्य और शिक्षा पर हम लगातार मेहनत कर रहे हैं। पहले यहां पानी संरक्षण को लेकर कभी प्रयास नहीं किया गया। लेकिन अब ऐसा नहीं है। प्रधानमंत्री ने भी हमारे प्रयासों की तारीफ की है।  फिलहाल चुनाव अभी दूर है। जनता जिस बात की जरूरत होगी वहीं हमारा मुद्दा होगा। उनका समग्र विकास ही हमारा मुद्दा होगा। स्किल डेवलपमेंट का दौर है। जाहिर सी बात है कि रोजगार के अवसर मिलेंगे। कुल मिलाकर अभी मुद्दों पर नहीं बल्कि विकास को केन्द्र मे रखकर सरकार काम कर रही है। मैने विधायक रहते हुए जब बिलासपुर सड़क विकास पर ध्यान दिया तो कांग्रेसी कहते थे कि धूल उड़ रहा है। मैं सवाल करता हूं कांग्रेस ने 60 साल में बिना काम किये मिट्टी उड़ाया। अब देख सकते हैं कि रमन सरकार रेल कोरिडोर और सड़क विकास पर कितना गंभीर है। मुझे लगता है कि हमे मुद्दों को लेकर चिंतित होने की जरूरत नहीं है। विकास के नाम पर हमारी चौथी जीत होगी।

सीजीवाल-निकाय चुनाव में आपको अपेक्षित सफलता नहीं मिली। क्या यह सरकार के खिलाफ जनता का आक्रोश है। आखिर क्या कारण हो सकते हैं।

जवाब— पंचायत,जनपद और जिला में भाजपा का अच्छा प्रदर्शन रहा। हां नगरीय निकाय में अपेक्षा के अनुरूप सफलता नहीं मिली । इसकी वजह स्थानीय मुद्दे हैं। यह कहना कि सरकार के खिलाफ आक्रोश है..गलत होगा। स्थानीय, प्रादेशिक और केन्द्रीय मुद्दे अलग-अलग होते हैं। नगर में भाजपा को अपेक्षित सफलता नहीं मिलने का कारण भी स्थानीय मुद्दा ही रहा। इसमे कई बातें भी शामिल हैं।

सीजीवाल-प्रदेश में आपका मुख्य विपक्षी कांग्रेस है। चुनाव के मद्देनजर आप कांग्रेस को किस तरह ले रहे हैं।

DLK6जवाब — कांग्रेस और भाजपा के अपने मतदाता हैं। इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता है। संगठन की बात करें तो कांग्रेस में अनुशासन और नेतृत्व में भयंकर भटकाव है। भारी अंतर्कलह है। गुटबाजी चरम पर है। एक गुट ने आज एक बयान दिया। कुछ घंटे बाद काउंटर बयान आ जाता है। नेतृत्व तो है ही नहीं। निष्कासित विधायक के साथ कांग्रेस के नेता घूम घूम कर बयानबाजी कर रहे हैं। नेताओं में संगठन का भय नहीं है। भाजपा के साथ ऐसा नहीं है। यहां संगठन महत्वपूर्ण है। सबके लिए समान अनुशासन है। यही कारण है कि भाजपा कांग्रेस से हटकर है।

सीजीवाल-भारतीय जनता पार्टी भारत माता की जय थोपना क्यों चाहती है। आपके भारत प्रेम पर ही कांग्रेस सवाल उठा रही है। आप क्या कहेंगे…

DLK2जवाब –जिस देश में जन्म लिया वह हमारी मातृभूमि कहलाती है। भारत भी मातृभूमि है। भारत माता की जय बोलने से हमारा स्वाभिमान जागता है। आजादी के समय लोग चाहे किसी भी धर्म या सम्प्रदाय से रहे हों… हंसते हंसते भारत मां की जय बोलते हुए फांसी पर चढ़ गये। भारत माता की जय हमारी अस्मिता से ज़ुडी है। धर्म या मजहब से नहीं। लोग विदेशों की जय बोले और भारत माता की जय बोलने से एतराज करें ठीक नहीं होगा। भारत माता की जय हमारे आत्मगौरव से भी जुड़ा है। आज भी सीमा पर गौरव, अभियान और जोश के लिए भारत माता की जय बोला जाता है। संविधान में तो बहुत कुछ नहीं लिखा है। लेकिन सब कुछ हो रहा है। भारत माता की जय बोलने से कोई छोटा या बड़ा हो या ना हो लेकिन भारत भूमि पर रहने वालों को अपने मातृभूमि पर गर्व जरूर होता है। कांग्रेस को सोचना होगा कि भारत की आजादी को एकसूत्र में पिरोने का काम भारत माता की हुंकार से हुआ है। किसी धर्म या पार्टी से नहीं।

सीजीवाल-भूपेश का आरोप है कि कश्मीर में आंतंकवादी का समर्थन करने वाले के साथ सरकार बनाई है। आजादी की लड़ाई में आपने अंग्रेजों का साथ दिया है…

जवाब—पहली बात तो यह कि आजादी की लड़ाई में किसी धर्म,जाति या पार्टी ने नहीं बल्कि भारतीयों ने हिस्सा लिया था। दूसरी बात जम्मू कश्मीर में सरकार बनाने की है तो बताना चाहूंगा कि हमारे लिए देश पहले,पार्टी बाद में और व्यक्ति तीसरे स्थान पर है। हम राष्ट्र के लिए काम करते हैं..व्यक्ति के लिए नहीं। इसी सोच ने कांग्रेस के दायरे को समेट दिया है। कभी पूरे देश में सरकार चलाने वाली कांग्रेस की खराब हालत का कारण भी यही है। कांग्रेस अब राष्ट्रीय पार्टी से पिछलग्गू पार्टी बन गयी है। राज्यों के चुनाव में अन्य दलों के रहमों करम पर छोड़ी हुई सीट पर ल़ड़ती है। हमारे लिए देश का झंडा हमेशा महत्वपूर्ण रहा है।

सीजीवाल-आप बिलासपुर से है…प्रदेश के भाजपा अध्यक्ष हैं..बिलासपुर अंचल से भाजपा को कई बड़े नेता मिले…उनके योगदान पर आपकी प्रतिक्रिया क्या है…

जवाब—आजादी के बाद लरंग साय जनसंघ से बड़े नेता हुए। केन्द्रीय मंत्री बने। देश में प्रदेश का नाम रोशन किया। लखीराम अग्रवाल जी के योगदान को पूरा देश याद करता है। प्रेमनारायण, मदन भैया,शेष जी,जमुना प्रसाद वर्मा जी, निरंजन केशरवानी, मनहरण पाण्डेय,बद्रीधर दीवान,दिलीप सिंह जू देव,महाराजा जूदेव, इन्होने जनसंघ से लेकर भाजपा तक अपने योगदान से पार्टी को शक्ति दी है। हमने अपने कार्यकर्ताओं से कहा है कि यदि उनके पास इन नेताओं के साथ छायाचित्र या स्मृति चिन्ह हो तो संगठन को दे। ताकि उनकी यादों को चिरस्थायी बनाने की दिशा में काम किया जा सके। पंडित दीनदयाल उपाध्याय,जगन्नाथ जोशी,भंडारी जी,अटल बिहारी वाजपेयी,लालकृष्ण आडवाणी,राजमाता विजयराजे सिंधिया,कुशाभाऊ ठाकरे जैसे नेताओं का बिलासपुर संभाग से हमेशा से लगाव रहा है। उनकी यादों को भी हम चिरस्थायी बनाना चाहते हैं। इस दिशा में तेजी से काम प्रदेश भाजपा संगठन कर रही है।

सीजीवाल-सूखे पर राजनीति हो रही है…कांग्रेस विधायक बढ़े हुए वेतन को जनता के बीच दे रहे हैं…भाजपा विधायक भी कुछ ऐसा करने वाले हैं क्या…

जवाब—जोगी जी जब मुख्यमंत्री थे तो प्रदेश में सूखा था। उस समय उन्होने क्या किया..यदि यह बता दें तो अच्छा होगा। सरकार रहते हुए उन्हें किसानों मजदूरों की याद नहीं आयी। अब वेतन बांटते फिर रहे हैं। चौदह प्रतिशत से व्याज कम किया नहीं। उस समय प्रदेश की हालत बद से बदतर थी। आज रमन सिंह की सरकार किसानों के साथ है। कर्ज माफ कर दिया है। प्रति एकड़ एक क्विटंल बीज बांटा गया है। प्रति हेक्टेयर छःहजार आठ सौ रूपए फसल क्षतिपूर्ति दी गयी है। आजादी के बाद पहली बार ऐसा कुछ हुआ है। सूखा प्रभावित किसानों के बच्चों की शादी में तत्काल तीस हजार की सहायता की व्यवस्था की गयी है। इलाज में भी छूट दी गयी है। कर्ज पर जीरो प्रतिशत व्याज कर दिया गया है। जोगी जी ने क्या किया… यह भी बताएं तो अच्छा होगा। हां वह सूखे की राजनीति कर रहे हैं। लेकिन जनता सब कुछ जानती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *