मिनी रत्न और रेलवे ने दी राष्ट्रपिता को श्रद्धांजली

press PHOTO 30-01-17बिलासपुर—महात्मा गांधी के पुण्यतिथि को शहीद दिवस के रूप में मनाया गया। एसईसीएल मुख्यालय में आयोजित सादगी भरे कार्यक्रम में राष्ट्रपिता को श्रद्धांजलि दी गयी। प्रशासनिक भवन आगन्तुक कक्ष में आयोजित ’’शहीद दिवस’’ कार्यक्रम के दौरान आलाधिकारियों ने राष्ट्रपिता के अलावा देश पर मर मिटने वाले सभी सेनानियों और उनके बलिदान को नम आखों से याद किया।

                 अध्यक्ष सह प्रबंध निदेशक बी.आर. रेड्डी, निदेशक कार्मिक, डाॅ. आर.एस. झा, निदेशक तकनीकी संचालन, कुलदीप प्रसाद, महाप्रबंधक कार्मिक/प्रशासन, संजीव कुमार, महाप्रबंधक सतर्कता, यू.टी. कंझरकर, सभी विभागों के अध्यक्ष, अधिकारी , कर्मचारी, श्रमसंघ प्रतिनिधियों ने 2 मिनट का मौन धारण कर श्रद्धांजलि अर्पित की गयी । आजादी के लिए प्राणों की आहुति देने वाले वीर शहीदों को नमन् किया । सभी लोगों ने देश की आजादी और भाईचारे की भावना को बनाए रखने का संकल्प लिया।

रेल परिवार ने दी श्रद्धांजली

बिलासपुर रेल मंडल परिवार ने भी शहीद दिवस पर राष्ट्रपिता को श्रद्धांजली दी। सभी लोगों ने महात्मा गांधी के तैल चित्र पर श्रद्धा सुमन भेंट किया। डीआएम बी.गोपीनाथ मलिया ने उपस्थित लोगों को संबोधित कर कहा कि महात्मा गांधी ने देश की आजादी, विकास और लोक-कल्याण के लिए अपने जीवन को होम किया। उन्होने देशवासियों को गुलामी की जंजीरों से आजाद कराने जीवन भर कडा संघर्ष किया। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को आज केवल देश ही नहीं पूरी दुनिया याद कर रही है।

                        मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय परिसर में पुण्यतिथि कार्यक्रम का  आयोजन सुबह 11 बजे किया गया। शहीद दिवस कार्यक्रम में मंडल रेल प्रबंधक, बी.गोपीनाथ मलिया, अपर मंडल रेल प्रबंधक एस.के.सोलंकी समेत शाखा अधिकारी, कर्मचारियों भी उपस्थित थे। समारोह का आयोजन कर 2 मिनट का मौन धारण किया गया। गांधी जी के स्वच्छ भारत, स्वस्थ भारत के सपने को साकार करने का अधिकारियों ने संकल्प किया।  भ्रष्टाचार मुक्त भारत का निर्माण की शपथ ली।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>