महात्मा गांधी मानवता के सबसे बड़े दूत–कांग्रेस

IMG-20170130-WA0033 (1)बिलासपुर—जिला कांग्रेस कमेटी ने शहीद दिवस पर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को श्रद्धा के साथ याद किया। कांग्रेस पदाधिकारियों ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी  के प्रतिमा पर पुष्पहार अर्पित कर उनके व्यक्तित्व पर प्रकाश डाला। सभी लोगों ने राष्ट्रपिता के विचारधारा को सतत प्रवाहमान बनाने का संकल्प भी लिया।

             गाधी चौक पहुंचकर सभी कांग्रेस नेताओं ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को श्रद्धांजली दी। शहर कांग्रेस अध्यक्ष नरेन्द्र बोलर, ग्रामीण अध्यक्ष राजेन्द्र शुक्ला, प्रदेश महासचिव अटल श्रीवास्तव,जसबीर गुम्बर ने बारी बारी से महात्मा गांधी के आदर्शों को स्मरण कर स्वतंत्रता आंदोलन में योगदान को याद किया।कार्यक्रम को कांग्रेस के संभागीय प्रवक्ता अभयनारायण राय ने भी संबोधित किया।

                           कार्यक्रम संयोजनक सैयद जफर अली ने कहा कि महात्मा गांधी मानवता के सबसे बड़े दूत थे। मानवीय विचारधारा के पुंज थे। निगम नेता प्रतिपक्ष शेख नजीरूद्दीन, कांग्रेस पार्षद दल के प्रवक्ता शैलेन्द्र जायसवाल ने भी उपस्थित लोगों को संबोधित किया। राष्ट्रपिता के साथ अमर शहीदों को भी याद किया। अखिलेश चंद्रप्रदीप बाजपेयी, पंचराम सूर्यवंशी, रामा बघेल, सुभाष ठाकुर, अनिल सिंह चौहान, देवेन्द्र सिंह समेत उपस्थित सभी कांग्रेसियों ने महात्मा गांधी की प्रतिमा पर फूल वर्षा कर उनके विचारों को आज भी प्रासंगिक बताया।

              अटल श्रीवास्तव ,राजेन्द्र शुक्ला,नरेन्द्र बोलर,अभय,सैय्यद जफर अली समेत सभी कांग्रेस नेताओं ने कहा कि इस समय देश गहरे संकट के दौर से गुजर रहा है। देश को संकट से बाहर निकालने का एक मात्र रास्ता गांधी जी के आदर्श हैं। देश के फासिस्ट ताकतों को गांधी जी के विचारधारा पर चलकर हराया जा सकता है। महात्मा गांधी ने सत्य अहिंसा,अस्तेय मार्ग पर चलकर ब्रिटिश उपनिवेशवाद को भारत से उखाड़ पेंका। उन्होने विपरीत परिस्थियों में भी सत्य और अहिंसा का रास्ता नहीं छोड़ा। कार्यक्रम के अंत में चंद्रप्रकाश देवरस ने गाँधी जी के प्रिय भजन वैष्णव जन तो तेणे कहिए का गायन किया। इस मौके पर ऋषि पाण्डेय, देव चरण मधुकर विनोद शर्मा, त्रिभुन कश्यप, जुगल किशोर, सुभाष ठाकुर,दीपांशु श्रीवास्तव, मुकीम कुरैशी, एकरम गोरख समेत कई कांग्रेस मौजूद थे।

कैदियों ने किया नमन्

महात्मा गांधी की पुण्यतिथि पर केन्द्रीय जेल में भी कार्यक्रम का आयोजन किया गया। लोगों ने राष्ट्रपिता को सजल आखों से याद किया। बंदियों ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की फोटो पर माल्यार्पण कर उन्हें अश्रुपूरित श्रद्धांजली दी। सत्य, अहिंसा के मार्ग पर चलने का संकल्प लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>