नोटरी के ठिकाने पर छापा…संदिग्ध दस्तावेज बरामद…निवास,जाति,शपथ पत्र समेत फर्जी इकरारनामा जब्त..मामला पुलिस का पाले में

IMG-20171206-WA0028 बिलासपुर— सीपत तहसील कार्यालय के सामने नोटरी के ठिकाने परछापामार कार्रवाई की गयी है। कार्रवाई के दौरान दर्जनों मामले में संदिग्ध दस्तावेज बरामद किये गए हैं। कार्रवाई के बाद दस्तावेजों को जब्त कर सीपत पुलिस के हवाले कर दिया गया है। कार्रवाई के दौरान कोरा शपथ पत्र, रजिस्ट्री, फर्जी इकरारनामा, कुछ ओरिजनल सरकारी दस्तावेज मिले हैं। छापामार कार्रवाई के समय नोटरी का काम तुलसी श्रीवास कर रहा था। तुलसी श्रीवास शिक्षाकर्मी वर्ग तीन के पद पर कार्यरत है। जबकि नोटरी लायसेंस कुशल श्रीवास के नाम पर है।

                             सीपत तहसीलदार को लगातार शिकायत मिल रही थी कि तहसील कार्यालय के सामने फर्जी तरीके से सरकारी दस्तावेज तैयार किया जा रहा है। नोटरी का काम स्कूल टाइम में शिक्षाकर्मी तुलसी श्रीवास कर रहा है। जबकि तात्कालीन समय उसे विद्यालय में होना चाहिए। तहसीलदार को अधिवक्ता संघ ने जानकारी दी कि नोटरी का काम केवल दिखावा है। दरअसल ठिकाने के बहाने फर्जीवाड़ा चल रहा है।

                                           सीपत तहसीलदार अमित कुमार सिन्हा के निर्देश दोपहर करीब 12 से एक बजे के बीच टीम ने नोटरी के ठिकाने में छापामार कार्रवाई की है। टीम को मौके से सैकड़ों की संख्या में संदिग्ध दस्तावेज मिले हैं। जानकारी के अनुसार नोटरी का लायसेंस कुशल श्रीवास के नाम पर है। लेकिन टीम को मौके पर तुलसी श्रीवास काम करते मिला। तुलसी श्रीवास शिक्षाकर्मी वर्ग तीन के पद पर कार्यरत है। छापामार कार्रवाई के दौरान उसे स्कूल में विद्यालय में होना चाहिए था।

                      छापामार टीम को नोटरी के ठिकाने फर्जी दस्तावेज का जखीरा मिला है। सभी दस्तावेजों को पुलिस के हवाले कर दिया गया है। IMG-20171206-WA0030जानकारी मिली है कि टीम को अच्छी खासी संख्या में अंकसूची,आधार कार्ड,पैन कार्ड समेत कुछ सरकारी दस्तावेज भी मिले हैं। इससे जाहिर होता है कि नोटरी के बहाने यहां फर्जी दस्तावेज बनाने का काम चल रहा था। मामले में अधिकारी अभी कुछ भी बोलने से बच रहे हैं।

                  अधिवक्ता संघ की शिकायत पर की गयी कार्रवाई में अधूरे शपथ पत्र भी मिले हैं। किसी में हस्ताक्षर नहीं है तो कुछ दस्तावेजों में हस्ताक्षर के अलावा किसी भी प्रकार की जानकारी नहीं है। टीम को नोटरी की गुमटी से फर्जी इकरारनामा भी मिला है। आधे अधूरे जाति,आय,निवास प्रमाण पत्र के अलावा कुछ ऐसे भी कागज मिले हैं जिससे साबित होता है कि यहां फर्जी दस्तावेज बनाने का काम लम्बे समय से किया जा रहा है।

दर्जनों अंक सूची और फर्जी इकरारनामा बरामद

                    नोटरी की गमुटी से दर्जनों की संख्या में फोटो,अंकसूची,पैन कार्ड,आय,निवास,जाति प्रमाण पत्र मिले हैं। आधे अधूरे रजिस्ट्री दस्तावेज जब्त किये गए हैं। फर्जी इकरारनामा मिलने की भी जानकारी है। सूत्रों ने बताया कि यहां से फर्जी अंकसूची के अलावा आय,जाति और निवास पत्र तैयार किया जाता है।

स्कूल समय में नोटरी का कामIMG-20171206-WA0029

           छापामार कार्रवाई के समय नोटरी का काम तुलसी श्रीवास कर रहा था। तुलसी श्रीवास शिक्षाकर्मी वर्ग तीन के पद पर कार्यरत है। नोटरी लायसेंस कुशल श्रीवास के नाम पर है। जबकि सारे दस्तावेज बनाने का काम तुलसी श्रीवास करता है। छापामार कार्रवाई स्कूल समय में हुई। नियमानुसार इस समय तुलसी श्रीवास को स्कूल में होना चाहिए था।

सभी दस्तावेज पुलिस के हवाले

                   सीपत तहसीलदार अमित सिन्हा ने बताया कि लगातार जानकारी मिल रही थी कि नोटरी की गुमटी में फर्जीवाड़ा काम हो रहा है। शासकीय दस्तावेज फर्जी तरीके से तैयार करने की भी जानकारी मिल रही थी। अधिवक्ता संघ की शिकायत पर नोटरी के ठिकाने पर टीम ने छापामार कार्रवाई की है। जब्त सभी दस्तावेजों को पुलिस के हवाले कर दिया गया है। जांच पड़ताल के बाद गलत या सही पाए जाने पर नोटरी के खिलाफ उचित एक्शन लिया जाएगा।अमित सिन्हा ने बताया कि जानकारी मिली है कि तुलसी श्रीवास शिक्षाकर्मी वर्ग तीन के पद पर है। स्कूल समय में नोटरी का काम कर रहा था। मामले की जानकारी सम्बधित अधिकारी तक पहुंंचा दिया जाएगा।

जांच के बाद होगी कार्रवाई

                 सीपत थानेदार अनिल अग्रवाल ने बताया कि तहसीलदार अमित सिन्हा के निर्देश में कार्रवाई की गयी है। कार्रवाई के बाद दस्तावेज मिल गये हैं। जांच पड़ताल के बाद पुलिस दायरे में उचित कार्रवाई होगी। कुछ कागजात,अंकसूची और कोरा शपथ पत्र भी मिला है। मामले को गंभीरता से लिया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>